Press "Enter" to skip to content

योगी के लिए माहौल बनाने में जुटे प्रधानमंत्री ने अब महिलाओं पर ध्यान दिया




प्रयागराज में महिला सशक्तिकरण योजनाओं की शुरुआत
बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ अभियान के जिक्र किया
एक हजार करोड़ रुपये ऑनलाइन ट्रांसफर किया
कन्या सुमंगला योजना को दिये बीस हजार करोड़

प्रयागराज: योगी के लिए उत्तरप्रदेश का चुनावी माहौल बनाने में पूरी ताकत के साथ जुटे प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने मंगलवार को उत्तर प्रदेश के प्रयागराज में आयोजित महिला सशक्तिकरण सम्मेलन को संबोधित करते हुये दावा किया कि केन्द्र सरकार की ओर से शुरु किये गये ‘बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ’ अभियान का ही नतीजा है कि आज देश के तमाम राज्यों में बेटियों की संख्या में बढ़ोतरी हुयी है।




प्रधानमंत्री मोदी ने महिला सशक्तिकरण से जुड़ी विभिन्न योजनाओं को शुरु करने के बाद सम्मेलन को संबोधित करते हुये कहा, ‘‘बेटियां कोख में ही ना मारी जाएं, वो जन्म लें, इसके लिए हमने ‘बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ’ अभियान के माध्यम से समाज की चेतना को जगाने का प्रयास किया।

आज परिणाम ये है कि देश के अनेक राज्यों में बेटियों की संख्या में बहुत वृद्धि हुई है।’’ इस अवसर पर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य, केन्द्रीय मंत्री अनुप्रिया पटेल, और प्रयागराज की सांसद रीता बहुगुणा जोशी तथा मथुरा की सांसद हेमा मालिनी सहित केन्द्र और राज्य सरकार के वरिष्ठ अधिकारी मौजूद थे।

प्रधानमंत्री मोदी ने दोपहर एक बजकर दस मिनट पर परेड ग्राउंड में आयोजन स्थल पर पहुंच कर उत्तर प्रदेश में महिलाओं द्वारा संचालित तमाम स्वयं सहायता समूहों (एसएचजी) की संचालकों के साथ बातचीत की।

महिलाओं के साथ लगभग आधा घंटे के संवाद के बाद मोदी ने रिमोट का बटन दबा कर प्रयागराज में 202 202 पूरक पोषण निर्माण इकाइयों का शिलान्यास कर महिलाओं द्वारा संचालित 1.60 लाख ‘स्वयं सहायता समूहों’ के बैंक खाते में 1000 करोड़ रुपये की राशि ऑनलाइन ट्रांसफर की। इसके बाद उन्होंने रिमोट का बटन दबाकर ‘कन्या सुमंगला योजना’ के तहत एक लाख एक हजार बेटियों के बैंक खातों में 20 करोड़ रुपये की राशि को भी ऑनलाइन ट्रांसफर किया।




योगी के लिए माहौल बनाने के लिए ही योजनाओँ की टाइमिंग

उप्र की पिछली सरकार में महिलाओं के असहाय होने का जिक्र करते हुये मोदी ने कहा कि महिलायें उस दौर में ना तो कुछ कह नहीं सकती थीं, ना ही बोल सकती थीं। क्योंकि थाने गईं तो अपराधी या बलात्कारी की सिफरिश में ‘किसी का’ फोन आ जाता था। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री योगी ने इन गुंडों को उनकी सही जगह पहुंचाया है।

उन्होंने दावा किया कि योगी राज में आज महिलाओं की सुरक्षा भी है और उनके अधिकार भी सुरक्षित हैं। उन्होंने कहा कि आज उप्र में महिलाओं के लिये अपार संभावनाएं भी हैं और वे व्यापार भी कर रही हैं। प्रधानमंत्री ने कहा, उप्र में बिना किसी भेदभाव और बिना किसी पक्षपात के, डबल इंजन की सरकार, बेटियों के भविष्य को सशक्त करने के लिए निरंतर काम कर रही है।’’

इस दौरान उन्होंने देश में लड़कियों की शादी की न्यूनतम उम्र में बदलाव करने के फैसले का भी जिक्र करते हुये कहा कि पहले बेटों के लिए शादी की उम्र कानूनन 21 साल थी, लेकिन बेटियों के लिए ये उम्र 18 साल ही थी। उन्होंने कहा कि बेटियाँ भी चाहती थीं कि उन्हें उनकी पढ़ाई लिखाई के लिए, आगे बढ़ने के लिए समय मिले, बराबर अवसर मिलें। इसलिए, बेटियों के लिए शादी की उम्र को 21 साल करने का प्रयास किया जा रहा है।

महिलाओं को अपने पाले में करने की कोशिश

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, ‘‘देश ये फैसला बेटियों के लिए कर रहा है, लेकिन किसको इससे तकलीफ हो रही है, ये सब देख रहे हैं।’’ उन्होंने कहा, ‘‘मुझे पूरा विश्वास है, जब हमारी माताओं बहनों का आशीर्वाद है, इस नये उप्र को कोई वापस अंधेरे में नहीं धकेल सकता है।’’

इससे पहले योगी ने भी जनसभा को संबोधित करते हुये कहा कि आजादी के बाद से ही महिलाओं को अधिकार संपन्न बनाने की बात लगातार हो रही थी। लेकिन जमीनी स्तर पर इस दिशा मेंं ठोस प्रयास नहीं किये गये। उन्होंने पिछले सात साल में महिला कल्याण के लिये चलायी गयी देशव्यापी योजनाओं का उल्लेख करते हुये कहा, ‘‘देश की आधी आबादी जिस अधिकार को पाने के लिए आजादी के बाद से इंतजार कर रही थी, उनके वे अधिकार 2014 में प्रधानमंत्री बनने के बाद मोदी जी ने दिलाये।



More from HomeMore posts in Home »
More from उत्तरप्रदेशMore posts in उत्तरप्रदेश »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from महिलाMore posts in महिला »

One Comment

Leave a Reply

%d bloggers like this: