fbpx Press "Enter" to skip to content

प्लास्टिक मुक्त झारखंड बनाने में हम सभी जिम्मेदारी निभाएंः रघुवर दास

  • मुख्यमंत्री रघुवर दास ने खुद उठायी प्लास्टिक की बोतल
  • सीताराम डेरा दुर्गापूजा पंडाल गये थे सीएम
  • लोगों के साथ सेल्फी भी खुशी खुशी शामिल
  • अपनी करनी से कई लोगों को प्रेरित कर गये

जमशेदपुरः प्लास्टिक मुक्त झारखंड के अपने आह्वान पर मुख्यमंत्री रघुवर दास को

लोगों ने खुद ही पहल करते देखा। यह महाअष्टमी के उत्सव का माहौल था।

भक्ति भाव में डूबे मां दुर्गा के भक्तगण। इस बीच मुख्यमंत्री भी मां दुर्गा का दर्शन करने और

उनसे याचना करने सीताराम डेरा स्थित पूजा पंडाल पहुंचते हैं।

भक्तों का उत्साह उस समय और बढ़ जाता है जब राज्य के मुख्यमंत्री उनके बीच आते हैं।

हर कोई उनके साथ फोटो लेकर उन्हें अपनी यादों में कैद करना चाहता है।

मुख्यमंत्री किसी को निराश नहीं करते। फोटो लेने का दौर खत्म होने के बाद वे पंडाल से

जैसे ही निकलते हैं तभी, पास में जमीन पर फेंका हुआ प्लास्टिक की बोतल

उन्हें दिखायी देती है। बिना किसी को कुछ कहे मुख्यमंत्री झुककर बोतल उठा लेते हैं

और कहते हैं.. हम सबको मिलकर अपनी जिम्मेवारी निभानी है

तभी प्लास्टिक मुक्त झारखंड हम बना पाएंगे।

हम स्वच्छता के लक्ष्य को जरूर हासिल कर सकते हैं।

उल्लेखनीय है कि मुख्यमंत्री ने कुछ अरसा पहले ही अपनी तरफ से एकल प्लास्टिक के

खिलाफ राज्यव्यापी अभियान प्रारंभ करने की बात कही थी।

उन्होंने पर्यावरण के संदर्भ में इसके नुकसानों को भी रेखांकित किया था।

प्लास्टिक मुक्त झारखंड अभियान को प्रेरणा दे गये रघुवर दास

आज अचानक उन्होंने अपनी बात को अपनी करनी से साबित कर वहां मौजूद

सभी लोगों को हैरान करने के साथ साथ स्पष्ट संदेश भी दिया।

मुख्यमंत्री के वहां से चले जाने के बाद भी लोगों के बीच उनका यह कदम चर्चा का विषय

बना रहा। दरअसल मुख्यमंत्री के साथ चल रहे लोग भी जब तक कुछ समझ पाते मुख्यमंत्री

ने प्लास्टिक के प्रति अपने विचार को करनी में बदल दिया था।

उनके चले जाने के बाद भी कुछ लोगों ने इसी क्रम में पंडाल के आस पास पड़े प्लास्टिक

को एकत्रित करने का काम किया।

इससे साबित हो गया कि मुख्यमंत्री रघुवर दास ने अपने एक कदम से अनेक लोगों को

प्रेरित करने का भी काम किया।

इससे आने वाले दिनों में प्लास्टिक के खिलाफ चल रहा अभियान क्रमवार तौर से गति पकड़ेगा।

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from झारखंडMore posts in झारखंड »
More from पूर्वी सिंहभूमMore posts in पूर्वी सिंहभूम »

5 Comments

Leave a Reply

error: Content is protected !!
Open chat