Press "Enter" to skip to content

फिलिप द्वीप का अजीब नजारा देखकर वैज्ञानिक भी हैरान




पक्षी खाने वाले जहरीले बिच्छु का पता चला
पक्षियों की संख्या कम होने की जांच में खुलासा
जहर से शिकार को मारने के बाद खा जाता है
खास तौर पर बच्चों पर हमला करता है यह
राष्ट्रीय खबर

रांचीः फिलिप द्वीप का नया हाल देखकर वैज्ञनिक भी हैरान हो गये हैं। अपने से आकार में बड़े पक्षियों को वहां का जहरीला बिच्छु अपना शिकार बना रहा है।




ऑस्ट्रेलिया के इस द्वीप पर अचानक से एक खास प्रजाति के पक्षियों की संख्या कम होने पर जब गहन शोध किया गया तो यह जानकारी सामने आयी है।

दरअसल पहले भी इस द्वीप पर जब ऐसे जहरीले बिच्छुओं की आबादी बहुत कम हो गयी थी तो समुद्र में उडऩे वाली पेट्रोल पक्षी ने इस फिलिप द्वीप पर अपना बसेरा बनाया था। प्राकृतिक माहौल में और किसी किस्म की परेशानी नहीं होने की वजह स इस प्रजाति की संख्या तेजी से बढ़ी थी।

अब वैज्ञानिक यह पा रहे हैं कि हर साल करीब चार हजार पक्षियों को यह जहरीला बिच्छु अपना भोजन बनाने लगी है।

इसे देखने के बाद वैज्ञानिकों ने बताया है कि पहले अपनी जहर से शिकार को मार डालने अथवा बेहोश कर देने के बाद बिच्छु उसे खाने का काम प्रारंभ करता है।




दक्षिण प्रशांत महासागर के नरफोक द्वीप से करीब छह किलोमीटर दक्षिण में स्थित इस द्वीप पर इस बारे में अभी और अनुसंधान चल रहा है।

फिलिप द्वीप पर सिर्फ समुद्री पक्षी ही रहते हैं

ऐसी अजीब घटना की जानकारी देते हुए वैज्ञानिकों ने बताया है कि उस द्वीप पर करीब 13 किस्म के पक्षियों का बसेरा है। यह सभी समुद्री पक्षी है।

इनमें सबसे अधिक अभी पेट्रोल पक्षी ही हैं, जो अपने काले डैने की वजह से अलग से पहचाने जाते हैं। जब इस द्वीप पर बिच्छु बहुत कम हो गये थे तो पेट्रोल पक्षी ने यहां बसेरा बनाया था। कोई प्रतिरोध नहीं होने की वजह से उनकी आबादी भी तेजी से बढ़ी थी।

अब देखा जा रहा है कि आकार में करीब 12 ईंच लंबा होने वाला यह बिच्छु इन्हीं पक्षियों के बसेरों के आस पास अधिक देखे गये हैं।

इस पर जांच प्रारंभ होने के बाद वैज्ञानिकों ने इस बिच्छु को पेट्रोल पक्षी का शिकार कर उसे खाते हुए भी देखा है। इस प्रजाति के बिच्छुओं को खास तौर पर पेट्रोल पक्षी के बच्चों पर ज्यादा हमला करते हुए देखा गया है।



More from अजब गजबMore posts in अजब गजब »
More from आस्ट्रेलियाMore posts in आस्ट्रेलिया »
More from पर्यावरणMore posts in पर्यावरण »
More from भोजनMore posts in भोजन »

Be First to Comment

Leave a Reply

Mission News Theme by Compete Themes.
%d bloggers like this: