Press "Enter" to skip to content

इत्र के कारोबार से आता उत्तरप्रदेश का चुनावी राजनीतिक दुर्गंध




चुनावी चकल्लस

इतना पैसा आखिर सिर्फ कारोबार का या कुछ और
भाजपा और सपा का वही पुराना राग जारी है
तीन सौ करोड़ की संपत्ति मिलना छोटी बात नहीं
एक दूसरे पर दोष थोपने से जनता का वास्ता नहीं

राष्ट्रीय खबर

नईदिल्लीः इत्र के कारोबार में जुटे व्यापारी पियूष जैन के पास से करीब तीन सौ करोड़ की संपत्ति जब्त होना कोई छोटी बात नहीं है। लोगों को इस बात पर भी हैरत है कि बहुत ही सामान्य जीवन जीने वाले इस व्यक्ति के पास इतना पैसा हो सकता है, उसका पता तो पड़ोसियों तक को नहीं था।




वह यदा कदा स्कूटर पर आते जाते लोगों को दिख जाता था। उसके मूल घर कनौज के लोगों को पता था कि वह दूसरे कारोबार में हैं। अब दीवार खोदकर भी पैसा निकाले जाने की वजह से अजय देवगन की एक फिल्म की याद आ गयी है। इसमें भी एक बड़े नेता के घर की दीवार खोदकर आयकर वालों ने पैसा निकाला था।

अब इस पैसे को जब्त किये जाते ही मुख्य प्रतिद्वंद्वी भाजपा और सपा के बीच जुबानी जंग शुरु हो चुकी है। लेकिन अच्छी बात है कि इस बार के इस जुबानी जंग से आम जनता के मिजाज पर कोई खास प्रभाव नहीं पड़ रहा है। उल्टे पहली बार यह सवाल जनता के बीच से उभर रहा है कि आखिर चुनाव के वक्त ही केंद्रीय एजेंसियों सक्रिय कैसे हो जाती हैं।

याद दिला दें कि उत्तर प्रदेश में अगले साल विधानसभा चुनाव होने वाले हैं। उससे ठीक पहले इत्र कारोबारी पीयूष जैन के ठिकानों से जांच एजेंसियों को करीब 300 करोड़ रुपए और अकूत संपत्ति मिले हैं।

इत्र के कारोबार से जुड़े सपा नेता दूसरे व्यक्ति हैं

जांच एजेंसियों की यह छापेमारी को लेकर सियासत भी गरमा गई है। केंद्रीय मंत्री और भारतीय जनता पार्टी नेता अनुराग ठाकुर ने समाजवादी पार्टी (सपा) प्रमुख और राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव पर पलटवार किया है। अनुराग ठाकुर ने कहा, सपा को इस पर एजेंसियों को बधाई देनी थी लेकिन सपा के लोग इसका विरोध करते हैं कि इनकम टैक्स के बाद ईडी और सीबीआई भी आएगी।

देश में केवल सपा के लोगों को ही इसका दर्द क्यों हो रहा है? इस इत्र वाले से सपा का क्या संबंध है? पीयूष जैन के घर हुई छापेमारी पर केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर ने कहा, अगर किसी के यहां लगभग 270 किलो सोना-चांदी, 200 करोड़ कैश, 600 करोड़ इत्र का सामान मिल जाए तो आप क्या करेंगे। एजेंसी ने इसलिए कार्रवाई की कि ये पैसा गरीब के विकास और उत्थान पर खर्चा होना चाहिए था लेकिन वो नहीं हुआ।




इससे पहले केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने मंगलवार को यूपी में कहा कि अखिलेश को बस एक छापे से दिक्कत हो गई। कन्नौज में समाजवादी इत्र बनाने वाले कारोबारी के घर से 250 करोड़ कैश निकला, जो गरीब जनता से लूटा गया था। उन्होंने युवाओं को जिगर का टुकड़ा बताकर उनका दिल जीता।

उधर सुलतानपुर में जन विश्वास रैली को सम्बोधित करते हुए उन्होंने कहा कि सपा-बसपा व कांग्रेस तीनों एक साथ मिलकर आ जाएं तब भी 2022 के चुनाव में भाजपा को हरा नहीं सकते। गृहमंत्री हरदोई के राजकीय इण्टर कालेज मैदान में कहा कि इनकम टैक्स की रेड पर सवाल उठाने वाले अखिलेश यादव के पेट में अब मचलन हो रही है। उन्हें जवाब देते नहीं बन रहा है।

अखिलेश ने इस छापामारी पर चुटकी ली है

इत्र कारोबारी के घर से कालाधन निकला है तो इसी रकम जब्ती पर अखिलेश यादव ने न सिर्फ पलटवार किया है बल्कि भाजपा को भी कटघरे में खड़ा कर दिया है। उन्नाव में मंगलवार को विजय रथ यात्रा लेकर पहुंचे सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने भाजपा सरकार पर निशाना साधते हुए कहा था कि दीवारों से निकलने वाला रुपया भाजपा का है।

उन्होंने कहा कि इन दिनों दीवारों से रुपया निकलने का मामला सुर्खियों में है। ना जाने कितनी गड्ड़ियां निकली हैं। बैंकों से मंगाकर रुपया गिनने के लिए कई मशीनें लगाई गईं। चार दिन हो गए अभी भी पैसा गिना जा रहा है। पूरे उत्तर प्रदेश की यह पहली खोज होगी जहां इतने रुपये इकट्ठे मिले हैं।

सपा प्रमुख ने आरोप लगाया कि व्यापारी के सीडीआर (कॉल डिटेल रिकॉर्ड) से कई भाजपा नेताओं के नाम सामने आएंगे जो उनके संपर्क में थे। अखिलेश ने कहा कि गलती से भाजपा ने अपने ही कारोबारी पर छापा मारा दिया।

उन्होंने दावा किया कि समाजवादी इत्र (इत्र) सपा एमएलसी पुष्पराज जैन द्वारा लांच गया था न कि पीयूष जैन ने लांच किया था। अखिलेश ने कहा कि वो छापा मारना चाहते थे पुष्पराज जैन के घर पर लेकिन डिजिटल इंडिया की गलती से अपने ही व्यवसायी (पीयूष जैन) के यहां छापा मार दिया।



More from HomeMore posts in Home »
More from उत्तरप्रदेशMore posts in उत्तरप्रदेश »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »

3 Comments

Leave a Reply

%d bloggers like this: