Press "Enter" to skip to content

मांसाहार एवं मदिरापान के खिलाफ विरोध प्रदर्शन का आयोजन




पीरटांड़ः मांसाहार एवं मदिरापान के खिलाफ आज यहां के प्रदर्शन का आयोजन किया गया। जैनियों के विश्व प्रसिद्ध तीर्थ स्थल मधुबन में मंगलवार को मांसाहार एवं मदिरा पान के खिलाफ विशाल विरोध जुलूस का आयोजन किया गया। जो मधुबन के सभी मुख्य मार्गों से गुजरता हुआ मधुबन थाना परिसर तक गई जहां लोगों के थाना प्रभारी दिलशान विरुवा को एक ज्ञापन सौंप इस पर रोक लगाने की मांग की।




यहां यह बता दें कि सोमवार को पश्चिम बंगाल से आए पर्यटकों ने मकर संक्रांति मेला मैदान में खुले रुप से मुर्गा का मांस बना रहे थे जिसका जैन समाज के लोगों के साथ साथ स्थानीय लोगों ने भी पुरजोर विरोध किया था तब जाकर मांस बनाने वाले लोग भाग खड़े हुए थे।

बतातें चलें कि मधुबन मांसाहार एवं मदिरा पान के लिए सरकार की ओर से वर्जित क्षेत्र घोषित किया गया है। इसके बावजूद धड़ल्ले से मांसाहार एवं मदिरा पान किया जा रहा है और पुलिस प्रशासन मूक दर्शक बनी हुई है। आज यदि पुलिस प्रशासन के लोग सक्रिय रहते तो ऐसी घटना नहीं घटती।




मांस एवं मदिरापान की घटना के बाद समाज में उबाल

थक हार कर मधुबन के भारतवर्षीय दिगंबर जैन तीर्थक्षेत्र कमेटी, जैन श्वेतांबर सोसाइटी,श्री दिगम्बर जैन तेरहपंथी कोठी,श्री दिगम्बर जैन बीस पंथी कोठी,श्री समस्त श्र्वेताम्बर मूर्ति पूजक जैन संघ ट्रस्ट, उत्तर प्रदेश प्रकाश भवन, आचार्य श्री शान्तिसागर ट्रस्ट,सिद्धायतन, बाजार सेवा समिति,श्री शिखरजी स्वच्छता समिति आदि संस्थाओं ने एक रैली निकाल कर मांसाहार मद्यपान के खुले आम बिक्री एवं पर्यटकों के द्वारा खुले रुप से मांस बनाना,खाना, खाने के विरोध में मधुबन थाना प्रभारी को एक ज्ञापन सौंपा।

पारसनाथ की पहाड़ियों पर जैन धर्म का सबसे प्रमुख तीर्थस्थल होने की वजह से सादा जीवन व्यत्तीत करने वाले जैन समाज के लोग हमेशा ही यहां आते रहते हैं। ऐसे श्रद्धालुओं को वहां मांस एवं मदिरापान को देखकर भी परेशानी होती है। इसी वजह से इस क्षेत्र में इसे वर्जित घोषित किया गया है।



More from HomeMore posts in Home »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from धर्मMore posts in धर्म »

One Comment

Leave a Reply

Mission News Theme by Compete Themes.
%d bloggers like this: