fbpx Press "Enter" to skip to content

शहरी क्षेत्र का दर्जा प्राप्त होने के बाद भी कच्ची सड़क का अभी यह हाल

झंझारपुर : शहरी क्षेत्र का दर्जा प्राप्त झंझारपुर नगर पंचायत का तीन वार्डों वाला बेलारही

गांव के सड़क की माली हालत बद से बदतर हो चला है। ग्राम वासी कीचड़ भरे सड़क पर

चलने को मजबूर हैं। यह कहना कि बेलारही गांव सड़क के मामले में ग्रामीण इलाकों से भी

काफी पीछे है अतिश्योक्ति नहीं होगी। शहरी क्षेत्र में आने के कारण गांव के लोगों से टेक्स

पर टेक्स वसूली किया जाता है। प्रतिफल ये है कि गांव के लोगों को आजादी के आठ दशक

बाद भी एक मुख्य सड़क नसीब नहीं हो पाया है। बारिश के पानी ने गांव की कच्ची सड़क

का सूरत बिगाड़ कर रख डाला है। हालात ये हैं कि कोई भी वाहन बीच टोला पर ही छोड़

कर चला जाता है। सबसे परेशानी उन व्यक्तियों को होता है जो कभी कभार आते हैं तो

बिना कीचड़ पार हुए नहीं पहुंच पाते। गांव के लोगों को सुख दुःख में काफी परेशानी होती

है। ग्रामीण सोनल ठाकुर, मनोज ठाकुर, कमलेश ठाकुर, महेश शर्मा आदि ने बताया कि

नगर पंचायत से बेहतर ग्रामीण पंचायतों का सड़क है। वर्क ऑडर मिलने के बाद भी नपं के

बेलारही गांव का मुख्य सड़क कीचड़मय बना हुआ है। पूर्व मंत्री सह विधायक नीतीश मिश्रा

के सहयोग से सड़क निर्माण को लेकर 2012-13 में फंड दिया गया। किन्तु नगर पंचायत

के आपसी नीति और नीयत में समझौता नहीं होने के कारण करीब एक करोड़ बारह लाख

रुपए नगर विकास में वापस चला गया। बाद में राजद से झंझारपुर के विधायक गुलाब

यादव के अथक प्रयास के बाद राशि वर्ष 2019 में फंड वापस आया।

शहरी क्षेत्र का दर्जा होने के बाद भी दो बार पैसा लौट गया

करीब एक वर्ष के बाद सारी प्रक्रिया पूरी की गई। सड़क के संवेदक को वर्क ऑडर भी दिया

गया। संवेदक ने लाल पटवा कलम से प्रदीप कुमार दास के घर तक वर्ष 2020 के फरवरी में

सड़क का काम पूरा कर दिया। इसी सड़क के साथ दूसरे सड़क जो रेलवे लाइन मां पोखरा

से लेकर छुटे सड़क तक निर्माण कराना था। जो एक वर्ष से अधिक समय बीत जाने के

बाद भी नहीं बना और स्थानीय लोगों को कीचड़ से गुजरना मजबूरी हो गया है। ग्रामीण

आश्चर्य व्यक्त करते हैं कि जब वर्क ऑर्डर मिल गया है तो संवेदक काम क्यों नहीं करते।

अगर नहीं करते तो विभाग कार्रवाई क्यों नहीं करती है। ऐसे में स्थानीय लोग जानना

चाहते हैं कि नगर पंचायत प्रशासन इस मामले को लेकर क्यों चुप्पी साधे हुए है।

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from HomeMore posts in Home »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from बिहारMore posts in बिहार »
More from राज काजMore posts in राज काज »

Be First to Comment

... ... ...
error: Content is protected !!
%d bloggers like this: