Press "Enter" to skip to content

अंतिम तिथि करीब आने के पहले ही अपना काम पूरा कर रहे हैं करदाता




तीन करोड़ से अधिक भुगतान हो चुका है
हर दिन औसतन चार लाख लोगों का आंकड़ा
आयकर रिटर्न दाखिल करने में बन रहे हैं रिकार्ड
पहले इस मौके पर दबाव से क्रैश कर गया था पोर्टल
राष्ट्रीय खबर

नईदिल्लीः अंतिम तिथि करीब आने के पहले ही देश के करदाता अपने कर भुगतान का काम निपटा लेना चाहते हैं। दरअसल इससे पूर्व कई अवसरों पर अंतिम तिथि के करीब अत्यधिक दबाव की वजह से इस भुगतान के ऑनलाइन पोर्टल के क्रैश कर जाने की वजह से पहले कर दाताओं को परेशानियों का सामना करना पड़ा था।




तीन दिसंबर के आंकड़े बताते हैं कि अब तक हर रोज करीब चार लाख लोग अपने आयकर का भुगतान करते जा रहे हैं। आंकड़ों के मुताबिक आयकर पोर्टल यह बताता है कि अब तक तीन करोड़ से अधिक लोग अंतिम तिथि के करीब आने के पहले ही अपने आयकर का भुगतान कर चुके हैं।

दरअसल सरकार द्वारा आयकर भुगतान की प्रक्रिया के सरलीकरण की वजह से भी अधिकांश लोग खुद ही यह रिटर्न दाखिल कर पाते हैं। समझा जाता है कि इसकी वजह से भी आयकर भुगतान की गति इतनी तेज हुई है। इसके पहले इस नियम को लागू करने के बाद अंतिम तिथि के दौरान अत्यधिक दबाव की वजह से यह पोर्टल काफी समय तक के लिए ठप पड़ गया था।

अनुमान है कि शायद इसी पूर्व अनुभव की वजह से लोग अधिक दबाव होने के पहले ही अपना यह काम पूरा कर लेना चाहते हैं। अंतिम तिथि के करीब आने के पहले ही हर रोज चार लाख आयकर का भुगतान होना तथा इसकी संख्या में लगातार बढ़ोत्तरी कर भुगतान के लिहाज से एक शुभ संकेत है। आधिकारिक सूचना के मुताबिक वर्ष 2021-22 के लिए अब तक जिनलोगों ने अपने आयकर का भुगतान कर दिया है उसमें अधिकांश लोगों ने आईटीआर 1 का इस्तेमाल किया है।




अंतिम तिथि में पहले कई बार आ चुकी है परेशानी

इस प्रक्रिया के तहत आयकर का भुगतान करने वालों का प्रतिशत 58.98 प्रतिशत है। देश के आठ प्रतिशत लोगों ने आईटीआर 2 का इस्तेमाल किया है। 8.7 प्रतिशत लोगों द्वारा आईटीआर 3 का तथा 23.13 प्रतिशत लोगों द्वारा आईटीआर 4 प्रपत्र का इस्तेमाल किया गया है। इन सभी को मिलाकर यह कुल तीन करोड़ से अधिक होती है।

सरकारी आंकड़ों के मुताबिक इसमें से पचास प्रतिशत से अधिक आयकर फॉर्म पोर्टल पर उपलब्ध ऑनलाइन सहायता की मदद से भरे गये हैं। इसके तहत आधार वेरिफिकेशन के बाद वन टाइम पासवर्ड का इस्तेमाल होता है। आयकर विभाग के मुताबिक पोर्टल पर भरे गये फॉर्मों की वैधता की भी जांच की जाती है।

इसके तहत अब तक 2.69 करोड़ फ्रमों की वैदता की जांच हो चुकी है। आईटीआर 2 के तहत आयकर का भुगतान करने वालों की वैधता की जांच उसी दिन हो जाती है। विभाग ने इसके तहत 82.80 लाख रिफंड का काम भी पूरा कर लिया है। आयकर विभाग ने करदाताओं से यह आग्रह भी किया है कि वे इसे दाखिल करने में देरे नहीं करें और अंतिम समय तक की प्रतीक्षा न करें। वरना एक साथ ढेर सारा फाइल आने पर विभागीय पोर्टल पर भी अत्यधिक दबाव पड़ जाता है। जिससे काम बाधित होता है।



More from HomeMore posts in Home »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from राज काजMore posts in राज काज »

Be First to Comment

Leave a Reply

Mission News Theme by Compete Themes.
%d bloggers like this: