fbpx Press "Enter" to skip to content

कागज की कलम बनाकर ध्यान खींचा महिला स्वयंसेवी संगठन ने







  • चर्चा फैली तो पूरे राज्य से होने लगी है इस कलम की मांग
  • मेला में इस अनोखी कलम खरीदने वालों की भीड़
  • इस्तेमाल के बाद कागज से पेड़ भी रोप लीजिए
  • पर्यावरण सुधार का संदेश दे रही हैं महिलाएं
प्रतिनिधि

अलीपुरदुआरः कागज की कलम बनाकर महिलाओं ने मेला के अंदर आने वालों का

ध्यान खींचा है। लेकिन इस कागज की कलम के पीछे एक पेड़ का बीज भी है।

यानी कलम का इस्तेमाल करने के बाद कमसे कम इस एक कागज की कलम से

आप एक पेड़ लगा सकते हैं। इस सोच की बात जैसे जैसे फैल रही है, वैसे वैसे इसकी

मांग भी बढ़ती जा रही है। फिलहाल यह कलम पहली बार सार्वजनिक तौर पर एक मेला

में प्रदर्शित और बेचा जा रहा है। मेला में आने वाले उत्सुकता के साथ इसे देख रहे हैं।

लोगों में कलम खरीदने की होड़ मची हुई है। कागज की कलम बनाने का यह कमाल कर

दिखाया है लोटस स्वयंसेवी संस्था की महिलाओं ने। यहां के मॉडल हाई स्कूल के मैदान

में चल रहे इस मेला का मुख्य आकर्षण यही कागज की कलम बन चुकी है। सोशल

मीडिया के विस्तार की वजह से जैसे जैसे अन्य इलाकों तक इसकी जानकारी पहुंच

रही है, लोग इसे खरीदने अथवा तैयार करने के बारे में विस्तृत जानकारी हासिल करना

चाह रहे हैं। सरकार की तरफ से प्लास्टिक की रोकथाम पर कदम उठाये जाने के बीच

महिलाओं का यह प्रयास सामने आया है।  कागज की कलम की स्याही खत्म होने के बाद

ही उसके अंतिम छोर पर रखा बीज कहीं भी रोपा जा सकता है। इसके माध्यम से इस

महिला स्वयंसेवी संस्था की महिलाएं पर्यावरण पर ध्यान देने का संदेश देने में पूरी

तरह सफल रही है। अनेक लोग कलम की जरूरत नहीं होने के बाद भी अपनी तरफ से पेड़

रोपने की जरूरत को समझते हुए इन कलमों को खरीद रहे हैं।

कागज की कलम पर जानना चाहता है पूरा राज्य

पूरे डुआर्स के इलाके में जंगल कटने के बाद जिस तरीके से प्राकृतिक आपदाएं आ रही हैं,

उससे पूरे इलाके के लोग इस बात को अच्छी तरह समझ रहे हैं कि प्राकृतिक संकट को दूर

करने का आसान तरीका अधिक से अधिक पेड़ लगाना ही है। इसी वजह से वे अपने साथ

इस कागज की कलम को ले जा रहे हैं, जो कमसे से कम पर्यावरण सुधार की दिशा में

उनके एक पेड़ लगाने का योगदान साबित हो। वैसे पश्चिम बंगाल के अन्य इलाकों से भी

लोगों ने कागज के कलम पर रुचि दिखायी है और समझा जा रहा है कि यह तकनीक शीघ्र

ही तेजी से पूरे देश में लोकप्रिय होने जा रही है।



Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

One Comment

Leave a Reply