fbpx Press "Enter" to skip to content

पाकुड़ पुलिस अब रक्तदान कर अपनी पहचान बता रही

पाकुड़ : पाकुड़ पुलिस अब वैसी भूमिका में है जिसे इस संकट की घड़ी में आम आदमी

निभा नहीं पा रहा है। कोरोना जैसी महामारी की घड़ी में जनता के साथ सड़कों पर अगर

कोई दिख रहा है तो वो है यहां का यही महकमा और उसका प्रशासन।

पाकुड़ पुलिस ने क्या किया इसे वीडियो मे देखिये

संकट की घड़ी में असली पुरुषार्थ की पहचान होती है, इस कथन को फिर से चरितार्थ कर

देखाया पाकुड़ के पुलिस कप्तान राजीव रंजन सिंह ने। उन्हें जैसे ही सूचना मिली कि

सीनाजोरी सदर अस्पताल मे एक थैलेसीमिया पीड़ित बच्ची रोहाना कुमारी जिसको ब्लड

की जरुरत है, तुरंत उन्होंने अपने पुलिस कर्मियों को नन्ही सी बच्ची की जान बचाने के

लिये ओ पॉजिटिव ब्लड डोनेट करने को कहा। इतने मे सब इंस्पेक्टर पुनीत कुमार गौतम

ने बच्ची को ब्लड देने के लिये अस्पताल पहुंचे जहाँ बच्ची को ब्लड देकर उसकी जान

बचायी गयी। लॉकडाउन मे राज्य मे जिस तरह पाकुड़ पुलिस की टीम ने चौबीसो घंटा

जनता को भोजन, मेडिकल सुविधा, यहाँ तक की अपने जेब के पैसे से गरीबों को भोजन,

दवाई लोगों दिये। जनता के लोग भी अब यह मानते हैं कि वे पाकुड़ पुलिस के इस उपकार

को सारी जिंदगी में नहीं चूका सकते। इस दुख की आपदा घड़ी गरीबों के साथ कंधे से कंधे

मिलाकर जिला में विधि व्यवस्था देखने वाला विभाग चला रहा है। 

पहले से ही संचालित हो रहा है सामुदायिक किचन

बताते चले कि सरकार इस दुख की घड़ी मे डीलर के मिलने वाले गरीबों के अनाजो मे एक

रुपया भी नहीं छोड़ रहे हैँ ऐसी स्थिति में विभाग के लोग अपने जेब से गरीब लोगों भोजन

देने के अलावा अब अपने शरीर का ब्लड देकर भी इस दुख की आपदा घड़ी यह साबित कर

दिखाया कि उनका प्रशासन जनता के प्रतियोनिधि के रूप मे साथ साथ चल रहा हैँ।

रक्तदान में अग्रणी भूमिका अदा कर पाकुड़ पुलिस ने अपनी अलग छवि बनाने में

सफलता पायी है।


 

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from पाकुड़More posts in पाकुड़ »
More from वीडियोMore posts in वीडियो »

One Comment

Leave a Reply

error: Content is protected !!