Press "Enter" to skip to content

पाकिस्तान एयरलाइंस ने काबुल के लिए विमान सेवा रोक दी




इस्लामाबादः पाकिस्तान एयरलाइंस ने काबुल के लिए सबसे पहले विमान सेवा चालू की थी। अब वहां तालिबान सैनिकों के रवैये से तंग आकर उसने काबुल के लिए अपनी विमान सेवा को रोक देने का एलान किया है।




तालिबान की सरकार को अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर मान्यता दिलाने के लिए आगे बढ़कर काम करने वाली पाकिस्तान की सरकार के लिए यह स्थिति एक जबर्दस्त धक्का है।

इससे स्पष्ट हो गया है कि अफगानिस्तान में तालिबानी शासन कायम होने के बाद पाकिस्तान वहां जिस तरीके से हुक्म चलाने की नीयत से काम कर रहा था, वह शायद पूरा नहीं होने जा रहा है।

पाकिस्तान एयरलाइंस ने काबुल हवाई अड्डे पर तैनात तालिबान सैनिकों के आचरण को लेकर ही यह फैसला किया है। इसलिए यह समझा जा रहा है कि वहां अत्यधिक तनाव होने की वजह से ही ऐसा कठोर फैसला लेना पड़ा है।

दूसरी तरफ यह खबर भी आयी थी कि तालिबान ने काबुल की उड़ान के लिए पाकिस्तान एयरलाइंस को टिकटों के दाम कम करने का निर्देश दिया था।

साथ ही तालिबान ने यह चेतावनी भी दे दी थी अगर उसके आदेश का पालन नहीं हुआ तो काबुल में विमान संचालन रोक दिया जाएगा। इसके बाद ही शायद उड़ान बंद करने का ऐसा फैसला लिया गया है।




पाकिस्तान एयरलाइंस तालिबान के रवैये पर नाराज

पाकिस्तान एयरलाइंस के एक प्रवक्ता ने काबुल की उड़ान बंद किये जाने का एलान करते हुए कहा कि जिस तरीके से वहां तालिबान कार्रवाई कर रहा है, उसमें विमान सेवा का संचालन नहीं किया जा सकता है।

वैसे यह बता देना भी प्रासंगिक है कि पीआईए ही एकमात्र अंतर्राष्ट्रीय विमान सेवा थी, जो काबुल से संचालित हो रही थी। अन्य सभी विमान कंपनियों ने फिलहाल वहां से दूरी बनाकर रखी है।

दरअसल तालिबान द्वारा सत्ता हासिल करन के पहले क्बुल से इस्लामाबाद के उड़ान का टिकट किराया अधिकतम 150 डॉलर हुआ करता था जो अभी के हालात में बढ़कर ढाई हजार डॉलर पहुंच गया है।

वैसे नियमित उड़ान बंद करने की घोषणा के साथ साथ पाकिस्तान एयरलाइंस ने यह साफ कर दिया कि मानवीय आधार पर वहां तक की चार्टर्ड विमान सेवा अभी जारी रहेगी।

पीआइए ने साफ किया है कि अभी के माहौल में काबुल की उड़ान सेवा के लिए इंश्यूरेंस की सीमा प्रति उड़ान चार लाख डॉलर के करीब पहुंच गयी है।

ऐसे में सस्ते में उड़ान संचालन घर से घाटा उठाने जैसी स्थिति होगी। ऊपर से तालिबान सैनिकों को भी अंतर्राष्ट्रीय उड़ानों के संचालन का कोई अनुभव नहीं होने की वजह से वे असभ्य की तरह आचरण कर रहे हैं।



More from HomeMore posts in Home »
More from अफगानिस्तानMore posts in अफगानिस्तान »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from पर्यटन और यात्राMore posts in पर्यटन और यात्रा »
More from पाकिस्तानMore posts in पाकिस्तान »

Be First to Comment

Leave a Reply

%d bloggers like this: