fbpx Press "Enter" to skip to content

बारिश के अभाव में खेत नहीं हो रहा है कादो धान रोपनी ठप

  • प्रतिनिधि

बुंडूः बारिश के अभाव से पाँचपरगना सूखाड़ की हालात झेल रही है। सिर पर हाथ लिये

किसान आसमान की ओर रूख किये हैं। शायद आज बारिश होगी, इस उम्मीद में किसान

दिन काट रहे है लेकिन बारिश दगाबाज बना है। सूखे खेत देखकर किसान बहुत निराश हैं।

अल्प बारिश से निचले स्तर के खेतों मे तो किसी तरह धान की रोपाई हो रही है लेकिन

ऊपरी खेत बारिश की अभाव से खाली हैं। वर्ष में एक बार धान की खेती कर परिवार चलाने

वाले किसानो के सक्षम समस्या उत्पन्न होती जा रही है। पाँचपरगना क्षेत्र के कई हिस्से मे

अब तक धान की रोपाई नहीं हो पायी है। किसान चिंतित हैं। हालांकि धान के बिछड़ा अल्प

बारिश से लहलहा रही है लेकिन खेत कादो-कादो नहीं है। खास बात यह है कि जिन नदियों

में छाती भर पानी बहती थी इस वर्ष उन नदियों में हिलोर तक नहीं उठी। पोखर-तालाब-

कुंआ में मेढ़क की आवाज तक नहीं गूंजी। मछली पालक भी पानी के अभाव से तालाब में

मछली तक नहीं छोड़े हैं। दरअसल इस मौसम में मछली के तेजी से बढ़ने के लिए भी

तालाबों में जितने पानी की जरूरत है, वे कम हैं। ऐसे में मछलियों को छोड़ने से मेंढ़क और

अन्य मछलियां ही इन मछलियों के चारों को अपना निवाला बना लेंगी। उमड़-घूमड़ कर

गड़गड़ाते आने वाले बादल ने ठनका से कई लोगों की जाने भी ले ली।

बारिश के अभाव से सिर्फ निचले इलाकों में रोपाई

कभी कभार पाँचपरगना में धुरीमुआन बारिश होती रही है, मेड़तोड़ पानी के लिए किसान

तरसते रह गए हैं। आखिरकार मौसम की दगाबाजी से किसान चितन के साये में समा गये

हैं। ऊपरी जमीन पर अब तक धान की रोपाई नहीं हुई है। केवल मध्यम एंव निचले इलाकों

के खेतों में लगभग धान की रोपाई हो पायी है, हो रही है और इधर नहर वाले क्षेत्र में धान

की रोपाई जोरों पर हो रही है।


 

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from रांचीMore posts in रांची »

One Comment

Leave a Reply

error: Content is protected !!