fbpx Press "Enter" to skip to content

दिवंगत पत्रकार रामानुजम की मौत मामले में एसआईटी का गठन किया जाएगा

  • पत्नी की सुरक्षा में दो महिला कांस्टेबल

  • मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने जताया शोक

  • पूर्व केंद्रीय मंत्री सुबोध कांत ने जतायी संवेदना

संवाददाता

रांची: दिवंगत पत्रकार और पीटीआई के रांची ब्यूरो चीफ 56 वर्षीय पीवी रामानुजम की

मौत के मामले में रांची के ग्रामीण पुलिस अधीक्षक नौशाद आलम ने बताया कि वे बुधवार

रात करीब एक बजे सोने की बात कह कर दूसरे कमरे में आये थे। लेकिन उनकी पत्नी

आज सुबह साढ़े पांच बजे जगी तो उन्हें रामानुजम नहीं दिखे और कमरे का दरवाजा भी

बाहर से बंद था। धक्का देकर दरवाजा खोला तो रामानुजम को पंखे से लटकता पाया।

उन्होंने बिछावन की चादर से फंदा बनाया था ।

इधर मुख्यमंत्री ने इस मौत पर शोक व्यक्त किया है

रामानुजम ने जिस कमरे में फंदा लगाकर इस घटना को अंजाम दिया, उसी कमरे से

पीटीआई का रांची कार्यालय संचालित होता है। वहीं दो अन्य कमरे में वे अपनी पत्नी के

साथ रहते है, जबकि उनके इकलौते पुत्र अभी पढ़ाई के सिलसिले में रांची से बाहर है।

नौशाद आलम ने बताया कि सूचना मिलते ही मौके पर पहुंची लालपुर थाना पुलिस ने वहां

से दिवंगत पत्रकार के शव को फंदे से नीचे उतारा । शव को पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया

गया है। उन्होंने कहा कि मामले की जांच के लिए विशेष जांच दल (एसआईटी) का गठन

किया जाएगा।

पुलिस अधीक्षक ने बताया कि दिवंगत पत्रकार पीवी रामानुजम के पुत्र ओडिशा की

राजधानी भुवनेश्वर में रहकर पढ़ाई करते है। पुलिस उसके वहां से रांची सुरक्षित लाने का

इंतजाम करेगी और यदि परिवार की ओर से इच्छा जताई गई तो शव को भुवनेश्वर भेजने

की भी व्यवस्था की जाएगी।

वहीं, इस हादसे से आहत रामानुजम की पत्नी ज्यादा बोलने की स्थिति में तो नहीं दिखी

लेकिन उन्होंने केवल इतना कहा कि उनपर परिवार का कोई दबाव नहीं था।

इधर, रांची के वरीय पुलिस अधीक्षक ने रामानुजम की अकेली रह रही पत्नी की सहायता

के लिए दो महिला कांस्टेबल की प्रतिनियुक्ति भी उनके आवास पर की है। एसएसपी के

निर्देश पर दोनों महिला पुलिसकर्मी आवास पर पहुंच गयी है। वहीं प्रशासन की ओर से

आवास के बाहर पेयजल की भी व्यवस्था की गयी है। लॉकडाउन के बीच खबर सुनते ही

उनके जानने वाले और परिचित लोग आवास पर पहुंच रहे हैं।

दिवंगत पत्रकार के परिजन रांची आने की तैयारी में

रामानुजम के एक सहकर्मी ने बताया कि उनके पुत्र ओड़िशा की राजधानी भुवनेश्वर से

अपने अन्य परिजनों के साथ रांची आने की तैयारी कर रहे है। पुत्र और अन्य परिजनों के

पहुंचने के बाद ही अंत्येष्टि के संबंध में कोई अंतिम फैसला लिया जाएगा, फिलहाल शव

के पोस्टमार्टम के पहले कोरोना जांच की प्रक्रिया पूरी की जा रही है और रिपोर्ट आने के

बाद पार्थिव शरीर को परिजनों को सौंपा जाएगा।


 

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from अपराधMore posts in अपराध »
More from कोरोनाMore posts in कोरोना »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from रांचीMore posts in रांची »
More from वीडियोMore posts in वीडियो »

One Comment

Leave a Reply