fbpx Press "Enter" to skip to content

एक गांव से पांच विधायक चुने जाने का रिकार्ड बनाया चौटाला ने

सिरसाः एक गांव से पांच विधायक चुने जाएं, यह अपने आप में बड़ी बात है।

हरियाणा के इतिहास में सिरसा जिले के गांव चौटाला ने आज एक नया

इतिहास जोड़ दिया।

पहले का रिकार्ड चार विधायकों का था

सिरसा जिले से विधानसभा चुनाव में पांच विधायक जीतकर विधानसभा

पहुंचे हैं। इनमें ऐलनाबाद से अभय चौटाला इनैलो,डबवाली से अमित सिहाग

कांग्रेस,उचाना से दुष्यंत चौटाला जजपा व बाढड़ा से नैना चौटाला व

रानियां से चौ.रणजीत सिंह (निर्दलीय )शामिल हैं।

इससे पहले वर्ष 2001 में इस गांव से एक साथ तीन विधायक विधानसभा में

पहुंचने का रिकार्ड था। उस समय ओम प्रकाश चौटाला उचाना,अभय सिंह

चौटाला रोड़ी व डा.सीताराम डबवाली से विधायक थे। इससे पहले चौधरी

देवीलाल व मनीराम इस गांव से कई बार विधायक बने। दिलचस्प बात

यह है कि पूर्व उप-प्रधानमंत्री चौधरी देवीलाल के परिवार से चार विधायक

बनकर विधानसभा पहुंचे हैं।

पांचवा अमित सिहाग भी चौ. देवीलाल के करीबी परिवार से संबध रखता है।

पिछले वर्ष गोहाना में पूर्व उप-प्रधानमंत्री चौ.देवीलाल के जन्मोत्सव के

उपलक्ष्य में आयोजित राज्य स्तरीय महा सम्मेलन में चौटाला परिवार

दो फाड़ हो गया था। रूष्ट होकर ओम प्रकाश चौटाला के पोते व हिसार

से तत्कालीन सांसद दुष्यंत चौटाला ने अलग राह अपनाते हुए जन नायक

जनता पार्टी बना ली थी।

इनैलो के दो फाड़ होने से चौटाला परिवार लोकसभा चुनाव में प्रदेश की

सियासतमें हाशिये पर चला गया। खाप पंचायतों व कुछ अन्य सामाजिक

संगठनों ने परिवार की एक जुटता को लेकर काफी प्रयास किये लेकिन

कामयाब नहीं हो पाए। इनैलो ने पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल

की अगुवाई वाले शिरोमणि अकाली दल के साथ सांझेदारी कर प्रदेश में चुनाव

लड़ा। इनैलो को इस चुनाव में काफी नुकसान झेलना पड़ा है।

इनैलो के अभय चौटाला ने ऐलनाबाद सीट जीतकर पार्टी की नाक बचाने

का काम किया है। दुष्यंत चौटाला के सिरसा स्थित आवास पर चुनाव

परिणाम आरम्भ होने के साथ ही जुटने आरम्भ हो गए थे।

एक गांव के निर्दलीय प्रत्याशी रिकार्ड में पांचवे बने हैं

कार्यकर्ताओं ने दुष्यंत चौटाला के आवास पर दिनभर मिठाई बंटती रही

व कार्यकर्ताओं ने एक दूसरे के गले मिलकर बधाई दी।

इसी तरह निर्दलीय प्रत्याशी के तौर पर रानियां सीट से विजयी हुए चौधरी

रणजीत सिंह के आवास पर सुबह से की कार्यकर्ता जुटने आरम्भ हो गए थे।

हजारों की तादाद में कार्यकर्ता जुटे और ढोल की थाप थिरकते देखे गए।

रणजीत सिंह चौटाला 32 साल के लम्बे संघर्ष के बाद विधानसभा पहुंचेंगे।

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from चुनावMore posts in चुनाव »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from राजनीतिMore posts in राजनीति »
More from हरियाणाMore posts in हरियाणा »

2 Comments

Leave a Reply

error: Content is protected !!