Press "Enter" to skip to content

आग उगलती ज्वालामुखी पहाड़ का एक हिस्सा ढह गया




ला पाल्माः आग उगलती ज्वालामुखी पहाड़ का एक हिस्सा पूरी तरह ढह गया है। जिस स्थान पर पहले ही दो बड़े छेद बन गये थे, वह इलाका पूरी तरह गिर जाने के बाद अब इस हिस्से से भी लावा का प्रवाह तेज होने लगा है।




वैसे इस पहाड़ के हालत देखकर पहले से ही यह आशंका बन गयी थी कि पहाड़ का एक हिस्सा कभी भी गिर सकता है। परसों से दो अलग छेदों से भी ज्वालामुखी का लावा लगातार निकलता रहा।

उसके बाद अचानक से पूरी हिस्सा ही ढह जाने के बाद अब कुंबरे वियेजा ज्वालामुखी के दो हिस्सों से लगातार उबलता हुआ लावा बाहर आ रहा है।

आग उगलती इस ज्वालामुखी का एक हिस्सा ढह जाने की वजह से अब लावा निकलने की गति भी पहले के मुकाबले तेज हो गयी है।

करीब दो सप्ताह से लगातार जारी इस क्रम में अब शायद अधिक तेजी आ गयी है। अब जो लावा निकलकर आ रहा है वह अपेक्षाकृत ज्यादा तरल है और इसी वजह से तेज गति से नीचे आ रहा है।

कैनरी द्वीप के नेशनल जिओग्राफिक इंस्टिटयूट के निदेशक मॉरिया जोस ब्लांको ने कहा कि खतरे को भांपते हुए पूरे इलाके की और कड़ी नजरदारी की जा रही है।

ऐसा इसलिए किया जा रहा है क्योंकि अब जो लावा नीचे आ रहा है, उसकी गति पहले के लावा के मुकाबले अधिक तेज है।




उन्होंने कहा कि यह पहाड़ एक डैम की तरह था, जिसके ऊपर बने छेद से पहले लावा निकला था। अब डैम का एक बड़ा हिस्सा ढह गया है इसलिए अधिक लावा तेज गति से बाहर आ रहा है, जो बड़े खतरे का संकेत है।

आग उगलती ज्वालामुखी का लावा प्रवाह और चौड़ा

इस स्थिति पर नजर रखने वाले वैज्ञानिकों के मुताबिक गले हुए पत्थरों का यह लावा प्रवाह अब करीब 1250 मीटर चौड़ा हो गया है।

इससे पता चलता है कि रविवार के मुकाबले लावा प्रवाह का इलाका और बड़ा हो गया है। इस प्रवाह के बढ़ जाने की वजह से नये नये इलाकों तक गलते हुए पत्थर गिरने लगे हैं।

इसलिए कभी भी किसी अवरोध को पूरी तरह ध्वस्त कर यह लावा प्रवाह नई दिशा से भी आगे बढ़ सकता है।

इसके बीच ही जहरीले गैस और भाप के साथ साथ पूरे आसमान पर राख के बादल बने हुए हैं। इस प्रवाह के रास्ते में जो गड्ढे थे, वहां लावा जमकर ठोस होने की वजह से भी नये इलाकों तक लावा बहने लगा है।

इस दौरान वहां कई बार भूकंप के और झटके महसूस किये गये है। दूसरी तरफ लगातार समुद्र में गिरने वाले लावा के पानी के संपर्क में आकर जम जाने की वजह से द्वीप के एक छोर पर करीब एक हजार 20 एकड़ नये जमीन का निर्माण हो चुका है।



More from HomeMore posts in Home »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »

One Comment

Leave a Reply

Mission News Theme by Compete Themes.