fbpx Press "Enter" to skip to content

काजीरंगा अभयारण्य में मां से बिछड़े नवजात गैंडे के बच्चे को बचाया गया

भूपेन गोस्वामी

गुवाहाटी : काजीरंगा अभयारण्य और पोबितोरा में वन्यजीव अभ्यारण्य के 98% से

ज्यादा इलाके में अभी बाढ़ का पानी भरा हुआ है। इसी स्थिति के बीच जंगली जानवरों को

बचाने में वहा के गांव वाले और वन विभाग के कर्मचारी जान जोखिम में लेकर भी काम

कर रह हैं। अकेले काजीरंगा में इस भीषण बाढ़ की वजह से अब तक 211 से ज्यादा कई

जंगली-जानवरों की मौत हो चुकी है। इन मरने वाले जानवरों में 6 गैंडे भी हैं। इसी क्रम में

आज मां से बिछड़ गये जंगली गैंड़ा का एक लगभग नवजात बच्चे को बचाया गया है।

उसकी उम्र तीन चार दिन की है। बाढ़ का पानी चढ़ने की वजह से वह अपनी मां से बिछड़

गया था। लोगों की नजर उस पर पड़ने और बिना मां के होने की वजह से उसे बचाने की

कोशिश प्रारंभ की गयी थी। एक सींग वाले राइनो के इस बच्चे को आज सुबह 10:30 बजे

काजीरंगा नेशनल पार्क के कर्मचारियों द्वारा बचाया गया। उसे लाने के लिए वन विभाग

के कर्मचारियों ने नाव का भी इस्तेमाल किया। उसे सुरक्षित लाकर काजीरंगा बचाव केंद्र

में ले जाया गया। अब उसे सुरक्षित रखते हुए उसकी मां से मिलाने की कोशिश हो रही है।

रविवार की दैनिक स्थिति रिपोर्ट के अनुसार, बाढ़ से ओवर 60 लाख लोग प्रभावित हुए हैं,

जो असम के 30 जिलों में कहर बरपा रहे हैं। रिपोर्ट के मुताबिक, 22 मई से असम के 30

जिलों में कुल 62,89,887 लोग प्रभावित हुए हैं और बाढ़ से जुड़ी घटनाओं में 128 लोग

अपनी जान गंवा चुके हैं।

काजीरंगा अभयारण्य के जानवरो को बचाना बड़ी चुनौती

वहीं, इस समय सबसे बड़ी परेशानी जानवरों के लिए खड़ी हो गई है। हाल ही में काजीरंगा

राष्ट्रीय पार्क के निदेशक, पी शिवकुमार ने बताया था कि काजीरंगा राष्ट्रीय पार्क का 98

फीसदी हिस्सा बाढ़ में डूब गया है। बता दें कि बाढ़ जैसी स्थिति में जानवरों के लिए बहुत

भारी संकट पैदा हो जाता है। जानवरों के लिए भी कई तरह के अभियान चलाए जा रहे हैं,

लेकिन फिलहाल असम में हालात को ठीक होने में समय लगेगा। इस दौरान केंद्रीय मंत्री

प्रकाश जावड़ेकर ने भी काजीरंगा राष्ट्रीय पार्क के बारे में कुछ जानकारी साझा की। इसमें

उन्होंने काजीरंगा में 121 जानवरों को बचाने में सफल रहने पर खुशी जताई हैं। उन्होंने

ट्वीट करते हुए नरेंद्र मोदी सरकार की भी सराहना की और कहा कि हम कीमती

वन्यजीवों को बचाने के लिए और अधिक निर्माण कर रहे हैं। मंत्री द्वारा काजीरंगा

राष्ट्रीय पार्क की एक वीडियो को भी री-ट्वीट किया गया। जिसमें बताया गया कि

काजीरंगा नेशनल पार्क में बाढ़ के कारण एक मादा राइनो बछड़ा अपनी मां से अलग हो

गया था। मां से बिछड़ा गया गैंडे का बच्चा को लोगों ने तुरंत बचाया था ।


 

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from असमMore posts in असम »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from पर्यावरणMore posts in पर्यावरण »

Be First to Comment

Leave a Reply

error: Content is protected !!