fbpx Press "Enter" to skip to content

वकील हत्याकांड में एक पत्रकार का नाम भी आया

  • मुख्य आरोपी गोपाल भारती एवं सहयोगी राजकुमार गिरफ्तार

  • पत्रकार का नाम आते ही कई किस्म की चर्चाओं का बाजार गर्म

  • पुलिस भी अब संभलकर जांच की गाड़ी आगे बढ़ाने में जुटी है

  • पूरे घटनाक्रम पर पुलिस मुख्यालय की लगी है कड़ी नजर

प्रतिनिधि

भागलपुर: वकील हत्याकांड में अब एक बड़े अखबार के पत्रकार का नाम भी चर्चा में आ

गया है। यह नाम खुद इस हत्याकांड में गिरफ्तार अभियुक्त द्वारा लिया गया है। इससे

माहौल और गरमा गया है। बिहार स्टेट बार काउंसिल के को-चेयरमैन व भागलपुर

व्यवहार न्यायालय के वरीय अधिवक्ता कामेश्वर पांडे और उनकी घरेलु दाई रेणु देवी

हत्याकांड के मुख्य आरोपी गोपाल भारती सहयोगी राजकुमार को बंगाल के बोलपुर रेलवे

स्टेशन दो नंबर प्लेटफार्म से गिरफ्तार किया है।

वीडियो में देखिये क्या कहा मुख्य अभियुक्त ने

गिरफ्तार आरोपी को भागलपुर लाने के लिए पुलिस टीम को बंगाल भेज दिया था

एसएसपी आशीष भारती बंगाल पुलिस से लगातार संपर्क बनाए हुए थे आरोपी की

गिरफ्तारी के बाद एसएसपी ने इशाकचक थाना के इंस्पेक्टर संजय कुमार सुधांशु और

जोगसर थानेदार विश्वबंधु कुमार को पुलिस टीम के साथ सुबह बंगाल भेज गया था।

गिरफ्तार आरोपी ने सीनियर एसपी आशीष भारती के प्रेस वार्ता के बाद पत्रकारों को

बताया कि वकील कामेश्वर पांडे और उनके यहां काम करने वाली नौकरानी ने हद पार कर

दी थी इसीलिए मैंने हत्या की है उसने बताया कि मेरे परिवार और मेरी बच्ची के साथ

काफी गलत किया गया है जिसकी जानकारी मेरी पत्नी ने पुलिस को दी है। डीआईजी

सुजीत कुमार और सीनियर एसपी मैं वैज्ञानिक साक्ष्य के आधार पर कार्रवाई की है इस

मामले में पुलिस के पास कोई ठोस सबूत भी हाथ लगे हैं।

वकील हत्याकांड के बाद यह बातें काफी सुर्खियों में

वकील हत्याकांड में लगातार यह बातें हैं सुर्खियों में कि जब वकील का मिश्र पांडे का मृत

शरीर अंत्येष्टि के लिए सब यात्रा में लोग जा रहे थे उन्होंने कहा कि आज ही करना है

अंत्येष्टि इस तरह जब संघ के महासचिव ने कहा कि इतनी जल्दबाजी क्यों आप कर रहे

हैं तो भतीजा ने कहा कि हमारा यह अपना मामला है संघ को हम नहीं जानते हैं इस विरोध

के बाद महासचिव संजय मोदी ने उनके आवास पर गए और परिवार के बुजुर्गों से मिले

और उन्होंने अपनी बातें रखी जिस पर परिवार के लोग काफी समझाने बुझाने के बाद

भतीजे को मनाया गया कि यह लोग संघ के लोग हैं स्टेट बार कौंसिल के बड़े पद पर हैं

लोग आएंगे दूरदराज से लोग आएंगे इसलिए  सुबह इनका शव  यात्रा निकाला जाए

शव यात्रा निकालने में भी हुआ था विवाद

इस प्रकार की तनातनी एवं धमकी देने की बात सामने आई यहां के अनेक समाज के

कुछ संभ्रांत लोगों कहने के बाद फैसला बदला गया और शव यात्रा में हजारों लोग हजारों

अधिवक्ता एवं सामाजिक संगठन के कई लोग शामिल हुए तत्पश्चात श्मशान घाट पर

मुखाग्नि देने के लिए भतीजे ने कहने लगा कि मैं इनका लीगल बारिश हूं इस पर उनकी

बेटी एवं दामाद ने कहा कि मैं मां को भी आग दिया हूं इसलिए मैं अपने पिताजी का

मुखाग्नि मैं दूंगा इस पर काफी लोग इकट्ठा कर लिया था। जिससे घाट पर काफी तनाव

स्थिति कुछ देर के लिए बन गई थी और बरारी थाना के बीच-बचाव के बाद पूरा मामला

शांत हुआ हत्या के बाद इन बातों की सुर्खियों में कितनी सच्चाई है पुलिस ऐसे बिंदुओं पर

भी अपनी निगरानी रखने की आवश्यकता है। आरोपी ने किया बड़ा खुलासा कहा कि

पत्रकार ने कहा जो करना है कीजिए।

मुख्य आरोपी ने बताया कि कैसे लोग थे इसमें शामिल

मुख्य आरोपी गोपाल भारती ने अपने बयान में बताया है कि अधिवक्ता की हत्या में उनके

दो भतीजों अरिजीत और अभिजीत के अलावा पत्रकार कौशल की संलिप्तता है। पत्रकारों

से बातचीत में गोपाल ने ये बातें कहीं। उसने बताया कि अधिवक्ता के भतीजे और पत्रकार

की संलिप्तता के बारे में पुलिस को सब बता दिया है।

कई किस्म की चर्चाओं की वजह से मामला अधिक चर्चा में 

कोलकाता से पकड़े गए गोपाल ने बताया कि एक दिन उसकी पत्नी ब्यूटी पार्लर गई थी

तब उस अधिवक्ता ने उसकी बेटी को गलत नियत से अपनी गोद मे बिठा लिया था। तभी

उसने अपनी पत्नी और बेटी को कोलकाता छोड़ दिया। हत्या कराए जाने के सवाल पर

गोपाल ने कहा कि अधिवक्ता की हत्या वक्त ने किया है। उसने बताया कि उसकी पत्नी ने

कोलकाता पुलिस को भी बयान दिया है। उसका कहना है कि उस पत्रकार ने कहा था कि

मकान खाली नहीं करना है। उसने कहा था कि उसी मकान में रहो जो होगा देखा जाएगा।

वकील हत्याकांड में कई वकील आपस में एक बात करते दिख रहे हैं कि स्टेट वार

काउंसिल के चुनाव के दौरान औरंगाबाद और जहानाबाद में कामेश्वर पांडे के एक

नजदीकी वकील ने लाखों रुपए वितरण किए थे आखिर वकील कोई और नहीं कौशल है।

वकील हत्याकांड में एक आरोपी गब्बर अभी भी फरार है। जिसकी गिरफ्तारी के लिए

पुलिस छापामारी कर रही है।

वकील हत्याकांड में पत्रकार की भूमिका की जांच होगी पुलिस मुख्यालय

भागलपुर में वकील हत्याकांड मैं आरोपी गोपाल भारती की गिरफ्तारी के बाद भागलपुर के

एक बड़े प्रकाशक समूह के एक पत्रकार कौशल का नाम आया है जिसके बाद पुलिस

मुख्यालय ने मामले को गंभीरता से लेकर भागलपुर के एसएसपी और डीआईजी को

मामले की गंभीरता से जांच करने का निर्देश दिया है डीआईजी सुजीत कुमार ने बताया कि

मामले में पत्रकार की क्या भूमिका है इसकी उच्च स्तरीय जांच की जाएगी और जब तक

जांच पूरी नहीं हो जाती है अभी इस मामले में किसी को भी क्लीन चिट नहीं दिया जाएगा

पत्रकार की क्या भूमिका है इस बिंदु पर पुलिस अपनी जांच कर रही है जांच के बाद जो भी

तथ्य सामने आएंगे उस पर कार्रवाई की जाएगी डीबीए के अध्यक्ष अभय कांत झा ने कहा

है कि वकील कामेश्वर पांडे की हत्या में जो भी लोग शामिल है उन पर पुलिस के द्वारा

कार्रवाई होनी चाहिए चाहे वह कितना ही प्रभावशाली क्यों न हो उन्होंने कहा कि घटना में

शामिल आरोपी गोपाल भारती ने जो बयान दिया है उसका अध्ययन करेंगे और सभी

अधिवक्ताओं की एक आम बैठक बुलाई गई है जिसमें कई महत्वपूर्ण निर्णय लेने की बात

है। अब सभी अधिवक्ताओं की आम बैठक के बाद क्या निर्णय लिया जाता है इस पर सभी

पुलिस अधिकारियों की नजर टिकी है।


 

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from अपराधMore posts in अपराध »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from बिहारMore posts in बिहार »
More from लाइफ स्टाइलMore posts in लाइफ स्टाइल »

One Comment

Leave a Reply

error: Content is protected !!