fbpx Press "Enter" to skip to content

रविवार को कृषि बिल को राज्यसभा ने भारी हंगामे के बीच मंजूरी

  •  मोदी ने कहा, किसानों को बिचौलियों से आजादी मिली

  • तीनों विधेयकों को एक साथ पारित किया गया

  • नरेंद्र सिंह तोमर ने पेश किया था यह विधेयक

  • सांसद डेरेक ओ ब्रायन ने रूल बुक को फाड़ दिया

रास बिहारी

नई दिल्लीः रविवार को संसद में कृषि से जुड़े तीन विधेयकों को पारित कर दिया गया है।

विपक्ष के भारी हंगामे के बीच राज्यसभा में कृषि बिल ध्वनि मत से पास हो गया। बिल

पारित होने पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्वीट कर कहा ट्वीट कर कहा किसानों को

बिचौलियों से आजादी मिल गई है। भारत के कृषि इतिहास में आज एक बड़ा दिन है।

संसद में अहम विधेयकों के पारित होने पर मैं अपने परिश्रमी अन्नदाताओं को बधाई देता

हूं। यह न केवल कृषि क्षेत्र में आमूलचूल परिवर्तन लाएगा, बल्कि इससे करोड़ों किसान

सशक्त होंगे।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि दशकों तक हमारे किसान भाई-बहन कई प्रकार के बंधनों में

जकड़े हुए थे और उन्हें बिचौलियों का सामना करना पड़ता था। संसद में रविवार को पारित

विधेयकों से अन्नदाताओं को इन सबसे आजादी मिली है। इससे किसानों की आय दोगुनी

करने के प्रयासों को बल मिलेगा और उनकी समृद्धि सुनिश्चित होगी। हमारे कृषि क्षेत्र को

आधुनिक तकनीक की तत्काल जरूरत है, क्योंकि इससे मेहनतकश किसानों को मदद

मिलेगी। अब इन बिलों के पास होने से हमारे किसानों की पहुंच भविष्य की टेक्नोलॉजी

तक आसान होगी। इससे न केवल उपज बढ़ेगी, बल्कि बेहतर परिणाम सामने आएंगे। यह

एक स्वागत योग्य कदम है। उन्होंने कहा कि मैं पहले भी कहा चुका हूं और एक बार फिर

कहता हूं कि न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) की व्यवस्था जारी रहेगी। सरकारी खरीद

जारी रहेगी। हम यहां अपने किसानों की सेवा के लिए हैं। हम अन्नदाताओं की सहायता के

लिए हरसंभव प्रयास करेंगे और उनकी आने वाली पीढ़ियों के लिए बेहतर जीवन

सुनिश्चित करेंगे।

रविवार को सरकार ने विधेयक के समर्थन में अनेक दलीलें दी

केंद्रीय कृषि और किसान कल्याण मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने राज्यसभा में कृषक उपज

व्यापार और वाणिज्य (संवर्धन और सरलीकरण) विधेयक 2020, कृषक (सशक्तिकरण

और संरक्षण) कीमत आश्वासन और कृषि सेवा पर करार विधेयक 2020 प्रस्तुत किया

था। इन बिलों को पेश करते हुए उन्होंने कहा था कि ये बिल ऐतिहासिक हैं और किसानों के

जीवन में क्रांतिकारी बदलाव लाने वाले हैं। इस बिल के माध्यम से किसान अपनी फसल

किसी भी जगह पर मनचाही कीमत पर बेचने के लिए आजाद होगा। इन विधेयकों से

किसानों को महंगी फसलें उगाने का अवसर मिलेगा। कृषि बिल के विरोध में अकाली दल

नेता और मोदी सरकार में मंत्री हरसिमरत कौर ने इस्तीफा दे दिया था। बिल के खिलाफ

विपक्ष के सांसदों ने वेल में उतरकर जोरदार हंगामा किया। तृणमूल कांग्रेस सांसद डेरेक

ओ’ ब्रायन ने राज्यसभा के उप सभापति हरिवंश से सामने रूल बुक को भी फाड़ दिया।

राज्यसभा की कार्यवाही को सोमवार तक स्थगित कर दिया गया है। केंद्रीय कृषि मंत्री ने

कहा कि राज्यसभा में चर्चा ठीक हो रही थी, बिल बहुमत से पास होने वाले थे। जब कांग्रेस

को लगा कि वो बहुमत में नहीं है तो वो गुंडागर्दी पर उतर आए। आज कांग्रेस ने

आपातकाल के बाद फिर एक बार ये सिद्ध कर दिया कि इस कांग्रेस का लोकतंत्र और

प्रजातंत्र पर भरोसा नहीं है।


 

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from HomeMore posts in Home »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from दिल्लीMore posts in दिल्ली »
More from राज काजMore posts in राज काज »
More from राजनीतिMore posts in राजनीति »

One Comment

Leave a Reply

error: Content is protected !!