Press "Enter" to skip to content

ओमीक्रॉन संक्रमण के लक्षण भिन्न पाये जा रहे हैं




जेनेवाः ओमीक्रॉन संक्रमण के बारे में कम सूचना प्राप्त होने के बाद भी यह पाया गया है कि यह काफी संक्रामक है। इसी वजह से दक्षिण अफ्रीका से फैलता हुआ यह कई देशों तक जा पहुंचा है। दक्षिण अफ्रीका में इस वायरस के नये स्वरुप का पता चलने तक ही अनेक लोग यह वायरस अपने साथ लेकर दूसरे देशों तक पहुंच गये हैं।




इनमें से एक वैसे व्यक्ति की पहचान हुई है जिसकी वजह से उसके परिवार के पांच लोग कोरोना संक्रमित हो गये हैं। संक्रमित होने वाले परिवार के सदस्यों में दो बच्चे भी हैं। इस ओमीक्रॉन संक्रमण के बारे में अब तक जो सूचनाएं मिल पायी हैं, उसके मुताबिक इस संक्रमण के लक्षण पहले के कोरोना लक्षणों से थोड़े भिन्न होते हैं।

दक्षिण अफ्रीका के चिकित्सकों ने इस बारे में अब तक जो कुछ बताया है उसके मुताबिक गले में खरास के साथ मांसपेशियों में दर्द और अत्यधिक थकान महसूस करना इस संक्रमण के प्रारंभिक लक्षण है। बाद में ऐसे रोगियों में सूखी खांसी भी होने की जानकारी मिली है। संक्रमण के और अधिक बढ़ने के बाद हल्के टेंपरेचर का बुखार भी रहता है।




वैसे अब तक के घटनाक्रमों से यह स्पष्ट हो गया है कि ओमीक्रॉन संक्रमण पूर्व के कोरोना वेरियंटों के मुकाबले बहुत अधिक संक्रामक है। इसी वजह से दुनिया भर में इसे लेकर आशंकाएं जतायी गयी हैं। लेकिन अब तक यह स्पष्ट नहीं हो पाया है कि यह संक्रमण कितना घातक है। दरअसल चिकित्सा वैज्ञानिकों के पास इसकी जांच के लिए अभी पर्याप्त आंकड़े नहीं हैं। पूरी दुनिया के कोरोना संक्रमण के लेकर सतर्क होने के बीच ही इसका पता चलते ही पूरी दुनिया सतर्क हो गयी है।

ओमीक्रॉन संक्रमण का आंकड़ा अभी जांच के लिए कम है

अब संक्रमण के संबंध में अधिक आंकड़े एकत्रित होने के बाद ही यह पता चल पायेगा कि वास्तव में यह संक्रमण किस किस्म की पेचिदगियां पैदा करने लगा है।

दक्षिण अफ्रीका मेडिकल एसोसियेशन के अध्यक्ष एंजेलिक कोयेट्जी ने कहा है कि वह खुद पिछले दस दिनों में ऐसे तीस मरीजों को देख चुकी हैं। इन मरीजों में नजर आये पहचान की वजह से ही वह यह बता पा रहा है कि इस ओमीक्रॉन के संक्रमण के लक्षण पहले के संक्रमणों के लक्षणों से भिन्न है। लेकिन उनके बयान के मुताबिक जिन मरीजों को उन्होंने देखा है उनमें से आधे ने कोरोना के टीके लगा रखे थे।



More from HomeMore posts in Home »
More from कोरोनाMore posts in कोरोना »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from दक्षिण अफ्रीकाMore posts in दक्षिण अफ्रीका »

One Comment

  1. […] ओमीक्रॉन वेरियंट वाला कोरोना वायरस भारत में न चाहते हुए भी पहुंच चुका है। इसकी वजह से महाराष्ट्र और कर्नाटक में ढाई सौ से अधिक लोगों को निगरानी सूची में रखना पड़ा है। जिसमें से पांच लोगों में संक्रमण के प्रारंभिक लक्षण नजर आये हैं। […]

Leave a Reply

%d bloggers like this: