Press "Enter" to skip to content

डायन बिसाही के अंधविश्वास में पति पत्नी को मार डाला

  • पत्नी सुबह मरी पति ने शाम छह बजे दम तोड़ा

  • डॉक्टरों ने घायल मंगरा उरांव को भेज दिया था घर

  • रिम्स रेफर की जाती तो शायद बच सकती थी जान

  • घटना के बाद पूरे इलाके में पसरा है मरघट सा सन्नाटा

संवाददाता

बेड़ो: डायन बिसाही को लेकर अंधविश्वास में आकर ग्रामीणों ने लोमहर्षक घटना को

अंजाम देते हुए सामूहिक रूप से एक बुजुर्ग महिला बिरसी उराईन और उसके पति मंगरा

उरांव को लाठी डंडा से मार-मार कर हत्या कर दी। सुबह 4:00 बजे की पिटाई के बाद पत्नी

ने सुबह 7:00 बजे दम तोड़ा जबकि पति ने शाम 6:30 बजे दम तोड़ दिया । मामला बेड़ो

थाना क्षेत्र के रोगाड़ीह पतराटोली गांव की है। जहां एक 62 वर्षीय बुजुर्ग महिला को

ग्रामीणों ने डायन बिसाही का आरोप लगाते हुए अखरा में बुलाया और फैसला सुनाते हुए

उसे सामूहिक रूप से लाठी डंडा से मारकर हत्या कर दी। घटना की सूचना मिलते ही थाना

प्रभारी श्याम बिहारी मांझी, सब इंस्पेक्टर आकाशदीप समेत सशस्त्र बल के साथ रोगाड़ीह

पतराटोली गांव पहुंचे। इस दौरान बेड़ो पुलिस प्रशासन ने रोगाड़ीह पतराटोली पुराना

अखरा के समीप पड़े बुजुर्ग महिला के शव को उठाकर पोस्टमार्टम के लिए रांची भेज

दिया। उधर घटना के बाद गांव पहुंचने पर मिली जानकारी के अनुसार मृतक बुजुर्ग

महिला बिरसी उराईन की पिछले कुछ दिनों से मानसिक स्थिति ठीक नहीं थी बताया

जाता है कि वह सोमवार की रात्रि करीब 1:00 बजे अपने घर से लोटा में पानी लेकर

निकली। जिसके बाद पास के बुधवा उरांव के घर समक्ष जाकर सरना झंडा को हिलाकर

उसमें पानी दी। जिसके बाद बुधवा उरांव उक्त बुजुर्ग महिला की जानकारी उसके पति

मंगरा उरांव को दी। वही पति मंगरा उरांव ने अपनी पत्नी को घर वापस ले आया। ऐसी

प्रक्रिया उस महिला ने लगातार तीन बार किया जिसके बाद बुधवा उरांव बुजुर्ग महिला को

यहां आने जाने का कारण पूछा जिस पर बुजुर्ग महिला ने कहा कि हम अपने मृत परिजनों

को पानी देने के लिए आए थे।

डायन बिसाही के मुद्दे पर कई इलाके अत्यंत संवेदनशील

इस घटना को लेकर गांव वालों से मिली जानकारी के अनुसार मृतक बुजुर्ग महिला बिरसी

उराईन को गांव वालों ने अखरा में फैसला करने को लेकर ले गए। जहां किसी बातों से उग्र

ग्रामीणों ने सामूहिक रूप से अखरा के पास ही बुजुर्ग महिला की लाठी-डंडों से पीट-पीटकर

हत्या कर दी। इसके पूर्व मृतक के पति मंगरा उरांव को अखरा बुलवाने को लेकर दो बच्चों

को उसके घर भेजा। जिसके बाद मृतक के पति मंगरा उरांव भी अखरा के समीप पहुंचा ।

इस दौरान ग्रामीणों ने मंगरा उरांव से कहा कि तुम्हारी पत्नी क्या करती है इससे पूछो नहीं

तो तुमको भी पीटेंगे और इतना कहते हुए कुछ ग्रामीणों ने बुजुर्ग पति को भी मारने लगे।

लेकिन किसी समझदार व्यक्ति के मना करने पर मृतक के पति मंगरा उरांव को भी मार

कर घायल छोड़ दिया। जिसके बाद घटना की जानकारी मिलते ही स्थानीय मुखिया बसंती

कुमारी अपने पति संतोष तिर्की के साथ घटनास्थल पहुंचे। जहां उन्होंने ग्रामीणों द्वारा

मारपीट से घायल बुजुर्ग मंगरा उरांव को इलाज के लिए बेड़ो सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र

भिजवाया। जहां डॉक्टर की लापरवाही के बाद सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में डॉक्टरों ने

बुजुर्ग मंगरा उरांव का इलाज करते हुए उसे ठीक बताकर वापस गांव भेज दिया। जिसके

बाद घायल मंगरा उरांव की भी मौत घर पहुंचने के कुछ घंटों बाद ही हो गई। उधर बुजुर्ग

दंपति की ग्रामीणों द्वारा लाठी डंडा से मार कर की गई हत्या के बाद उसके पुत्र सोमरा

उरांव उर्फ गुड्डू ने हत्या के अपने माता पिता की हुई हत्या खिलाफ बेड़ो थाना में अज्ञात

लोगों के खिलाफ मामला दर्ज कराया है।

थाना प्रभारी ने कहा सभी अपराधियों को जल्द पकड़ा जाएगा

वही बुजुर्ग दंपतियों की लाठी डंडा से हुई हत्या के बाद थाना प्रभारी श्याम बिहारी मांझी ने

कहा कि पुलिस प्रशासन हत्या के हर पहलुओं पर जांच कर रही है। हत्या में शामिल दोषी

बहुत जल्द पुलिस गिरफ्त में होंगे। उधर इस घटना को लेकर प्रखंड प्रमुख महतो भगत ने

कहा कि इस तरह की अंधविश्वास की घटना क्षेत्र में नहीं होनी चाहिए। इसकी जितनी

निंदा की जाए कम है।

[subscribe2]

Spread the love
More from अपराधMore posts in अपराध »
More from इतिहासMore posts in इतिहास »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from महिलाMore posts in महिला »
More from रांचीMore posts in रांची »
More from शिक्षाMore posts in शिक्षा »
More from स्वास्थ्यMore posts in स्वास्थ्य »

Be First to Comment

... ... ...