fbpx Press "Enter" to skip to content

एनटीपीसी पकरी बरवाडीह कोल माइन्स में कोयला खनन शुरू

  • केंद्र और राज्य सरकार के बीच उत्पन्न विवाद समाप्त

  • ढाई महीना के बाद शुरू किया गया कोयला खनन

  • 21 लाख टन कोयला का उत्पादन हुआ प्रभावित

  • कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच शुरू किया खनन

  • विधायक को आने से किया प्रतिबंधित

अशोक कुमार शर्मा

हज़ारीबाग: एनटीपीसी पकरी बरवाडीह कोल माइन्स में 18 नवंबर बुधवार को कोयला

खनन कार्य बड़ी संख्या में पुलिस बल तैनात कर शुरू किया गया ।

वीडियो में जानिये सारा घटनाक्रम

उक्त कोयला खनन 2 सितंबर से बंद था। कोयला खनन बंद होने से ढाई महीने में 21लाख

टन कोयला का उत्खनन प्रभावित हुआ है।केंद्र सरकार के ऊर्जा विभाग के सचिव झारखंड

सरकार के मुख्य सचिव के बीच एनटीपीसी कोयला खनन को लेकर पिछले दिनों बैठक

रांची में हुई थी केंद्र सरकार का राज्य सरकार पर काफी दबाव था । उत्खनन कार्य शुरू

कराएं राज्य सरकार की ओर से पांच सदस्यीय उच्चस्तरीय कमेटी भी बनाई गई थी।

उत्तरी छोटानागपुर के आयुक्त कमल जॉन लाकड़ा कमेटी के अध्यक्ष थे। बड़कागांव

विधायक अंबा प्रसाद समेत कमेटी में तीन अन्य सदस्यों को रखा गया था। इस कमेटी ने

भी विस्थापित मोर्चा के साथ कई दौर की बैठकें की। 18 स्थानों पर विस्थापित संघर्ष मोर्चा

का आंदोलन से उत्खनन कार्य बंद था। बड़कागांव प्रखंड के विभिन्न 18 स्थानों पर

विस्थापित संघर्ष मोर्चा के बैनर तले जनता आंदोलन कर रही थी। बड़कागांव विधायक

अंबा प्रसाद आंदोलन का नेतृत्व करते हुए जनता के हित में कई मांगों को रखा था। भूमि

मुआवजा दर बढ़ाने विस्थापितों के पुनर्वास की व्यापक व्यवस्था स्थानीय लोगों को

रोजगार देने समेत कई मांग जनता की ओर से रखा गया था। जिला प्रशासन ने

आंदोलनकारियों से मिलकर उनकी मांगों पर कई दौर की। बैठकें की जिला प्रशासन की

ओर से सदर एसडीओ एवं अन्य अधिकारियों ने कई बार विस्थापित संघर्ष मोर्चा के

आंदोलनकारियों के साथ वार्ता किया। जिला अधिकारी के कक्ष में भी आंदोलनकारियों

और एनटीपीसी के अधिकारियों के साथ बैठक हुई।

एनटीपीसी पकरी बरवाडीह में वार्ता के कई दौर चले

जिला प्रशासन के प्रस्ताव पर बारी बारी से धरना प्रदर्शन समाप्त कराते हुए पहले डंप

किया गया कोयला को ट्रांसपोर्टिंग किया गया तत्पश्चात अब ढाई महीने के बाद कोयला

खनन शुरू की गई। इसके बाद स्थानीय विधायक अंबा प्रसाद के तेवर को देखते हुए खुद

मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने भी अपना बयान से स्पष्ट कर दिया कि वह अब भी गठबंधन

दल की विधायक के साथ खड़े हैं। उन्होंने प्रोजेक्ट भवन में इस पर अपनी बात भी रखी।


 

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from HomeMore posts in Home »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from राज काजMore posts in राज काज »
More from विधि व्यवस्थाMore posts in विधि व्यवस्था »
More from वीडियोMore posts in वीडियो »
More from हजारीबागMore posts in हजारीबाग »

Be First to Comment

Leave a Reply

... ... ...
%d bloggers like this: