fbpx Press "Enter" to skip to content

एनआरसी का भूत गोरखा वोट का नुकसान कर सकता है इस इलाके में




  • असम भाजपा के नेताओं की कालिम्पोंग में भीड़
भूपेन गोस्वामी

दार्जिलिंगः एनआरसी का भूत बंगाल के गोरखा वोट का नुकसान कर सकता है। केंद्रीय

गृह मंत्री अमित शाह ने इसका उल्लेख कर दिया है। जब नुकसान को कम करने के लिए

असम भाजपा के नेता गोरखा वोट को अपने पाले में रखने के लिए मोर्चा में तैनात हो चुके

हैं। पश्चिम बंगाल के तीन चरण के चुनाव निपट गए हैं और अब अगले पांच चरणों में 203

सीटों पर चुनाव होने हैं। सूबे में अभी तक के जिन इलाकों में वोटिंग हुई है, वह ममता

बनर्जी का मजबूत गढ़ माना है। लेकिन अब आगे के चरण में ममता बनर्जी की टीएमसी

को बीजेपी से ही नहीं बल्कि कांग्रेस-लेफ्ट गठबंधन से भी दो-दो हाथ हाथ करने होंगे ।

राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर एनआरसी का भूत गोरखाओं के बहिष्कार की आशंका को दूर

करने के लिए असम से भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) का एक दल, जिसमें एक मौजूदा

विधायक भी शामिल है, आज उत्तर बंगाल पहुंच गया। असम के मार्गेरिटा विधायक

भास्कर शर्मा, असम गोरखा विकास के अध्यक्ष प्रेम तमांग और भाजपा सचिव किशोर

उपाध्याय की टीम उत्तर बंगाल क्षेत्र के कालिम्पोंग पहुंची। इस क्षेत्र में गोरखा बहुल सीट

2016 में गोरखा जनमुक्ति मोर्चा ने जीती थी। गोरखा विकास अध्यक्ष ने कहा कि हमने

देखा है कि बंगाल के लोग एनआरसी के मुद्दे पर भ्रम में हैं लेकिन ऐसा कुछ नहीं है और

किसी भी गोरखा लोगों को एनआरसी से बाहर नहीं रखा जा रहा है । यह सुप्रीम कोर्ट से

निर्देश की प्रक्रिया है वहां डी मतदाता हैं, लेकिन यह विचाराधीन है, “तमांग ने अपनी बोली

में लोगों को आश्वस्त करने के लिए कहा कि एनआरसी एक मुद्दा नहीं होगा ।

एनआरसी का भूत अमित शाह के बयान से जिंदा हुआ

विधायक सरमा ने मीडिया के माध्यम से लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि भाजपा

पार्टी ‘सबको सुरक्षित रखेगी।गोरखा नेताओं के इस दौरे को भाजपा द्वारा गोरखा बहुल

क्षेत्र में चुनाव से पहले प्रचार के अंतिम दौर के लिए मंच तय करने के रूप में देखा जा रहा

है। गोरखा विकास अध्यक्ष ने कहा कि भाजपा को उम्मीद है कि वह सोमवार को

दार्जिलिंग, कालिम्पोंग और कुरसेंग की तीनों पर्वतीय सीटों और आसपास के इलाकों में

गृहमंत्री अमित शाह के अभियान और बैठकों के साथ उत्तर बंगाल पर अपनी पकड़

मजबूत करेगी । अध्यक्ष ने कहा कि गृह मंत्री को मतदाताओं के मूड का आकलन करने

और 17 अप्रैल को वोट देने वाले क्षेत्र में अपनी पार्टी के अभियान को बढ़ाने के लिए

दार्जिलिंग जिले के कुरसेंग में रहने की उम्मीद है । शाह कालिम्पोंग और सिलीगुड़ी में रोड

शो का नेतृत्व कर सकते हैं और जलपाईगुड़ी के धुपगुड़ी में जनसभाओं को संबोधित

करेंगे। बता दें कि पश्चिम बंगाल में 2016 में हुए विधानसभा चुनाव में कुल 294 सीटों में

टीएमसी को 211 सीटें मिली थीं जबकि वामपंथी दलों को 33, कांग्रेस को 44 और बीजेपी

को 3 सीटों पर जीत मिली थी। इसके अलावा तीन सीटें गोरखा मुक्ति मोर्चा को मिली थीं।

इस तरह से बंगाल में 294 विधानसभा सीटों में से जिन 91 सीटों पर अभी तक चुनाव हुए

है, उनमें से 77 सीटों पर टीएमसी का कब्जा था जबकि 10 सीटें लेफ्ट, तीन कांग्रेस और

एक सीट पर बीजेपी का कब्जा था। यहां एनआरसी का भूत भी वोटों का फैसला इधर उधर

करने में बड़ी भूमिका निभायेगी।



Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from HomeMore posts in Home »
More from चुनाव 2021More posts in चुनाव 2021 »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from पश्चिम बंगालMore posts in पश्चिम बंगाल »
More from राजनीतिMore posts in राजनीति »

Be First to Comment

... ... ...
error: Content is protected !!
%d bloggers like this: