fbpx Press "Enter" to skip to content

शादी की तैयारियों में अब बाधक बन रहे कोरोना प्रतिबंध

  • दोनों पक्षों के बीच अतिथियों को लेकर भी तनाव
  • घर के अंदर भी इसी बात पर हो रही है कहासुनी
  • कोरोना के कारण लगा है कई किस्म का प्रतिबंध
संवाददाता

रांचीः शादी की तैयारियों में कोरोना की वजह से सोशल डिस्टेंसिंग बड़ी चुनौती बनी हुई है।

यहां तक कि शादी के आयोजन से जुड़े पंडित भी किसी कानूनी पचड़े में फंसने से बचना

चाह रहे हैं। लिहाजा अन्य तैयारियों को अंतिम रुप देने के पहले ही किस पक्ष से कितने

अतिथि होंगे, इस पर सबसे अधिक विवाद हो रहा है। यहां तक कि वर- वधु पक्ष के अंदर

भी इसी बात को लेकर घमासान की स्थिति है। याद रहे कि अन्य किस्म की छूट दिये जाने

के बाद भी भीड़ एकत्रित होने पर पूर्ण प्रतिबंध है। सोशल डिस्टेंसिंग के साथ मात्र पचास

लोगों को ही किसी विवाद समारोह में शामिल होने की इजाजत है। ऐसे में यह पचास लोग

कौन होंगे, इसे लेकर सबसे अधिक माथापच्ची हो रही है। दरअसल अचानक कोरोना की

वजह से लॉक डाउन होने की वजह से यहां सैकड़ों विवाद स्थगित कर दिये गये थे। अब

धीरे धीरे कारोबार चालू होने की वजह से उसी तैयारी के तहत दिये गये एडवांस के जरिए

ही कम खर्च में काम निपटाने पर भी लोगों का जोर है। ऐसा इसलिए भी है क्योंकि कोरोना

ने सबकी जेब ढीली कर दी है। लॉक डाउन होने के पहले शादी की तैयारियों के लिए जो

एडवांस दिये गये थे, उससे काम चलाने की तैयारी चल रही है। फिर भी स्वागत भवन

आदि को खोलने और वहां समारोह आयोजित करने पर अब भी प्रतिबंध लगा हुआ है।

शादी की तैयारियों में कन्या के पिता भी खुश

यहां तक कि मंदिरों में भी विवाद के आयोजन पर प्रतिबंध है। ऐसे में लोगों को अपने

अपने घरों पर अथवा अपने किसी परिचित के यहां यह आयोजन करने की मजबूरी है।

किस पक्ष के अतिथि कितने होंगे, इसी बात पर सबसे अधिक किचकिच है क्योंकि वर

अथवा वधु पक्ष अपने अतिथियों की संख्या कम करना नहीं चाहता। ऊपर से एक ही पक्ष

में माता अथवा पिता के रिश्तेदारों के लेकर भी खींचातानी की नौबत है।

वैसे अंदरखाने की बात यह भी है कि कोरोना के इस प्रतिबंध की वजह से अनेक कन्याओं

के पिता यह देखकर भी खुश हैं कि सारा काम काज कम खर्च में निपट रहा है और इस मुद्दे

पर किसी को फिलहाल शिकायत करने का भी अवसर नहीं मिल पायेगा क्योंकि कोरोना ने

भीड़ जुटाने पर रोक लगा रखी है।


 

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Be First to Comment

Leave a Reply

error: Content is protected !!