fbpx Press "Enter" to skip to content

अब सिर्फ परिस्थितियों के सीएम रह गये हैं नीतीश कुमार

  • भाजपा की जाल में पूरी तरह फंस चुके हैं

  • दबाव नहीं माने तो फिर कुर्सी जाना तय

  • चिराग खुद को मोदी का हनुमान कहते हैं

दीपक नौरंगी

भागलपुरः अब सिर्फ भाजपा का खेल देखते जाना है। मुख्यमंत्री के पद पर नीतीश कुमार

के फिर से आसीन होने के बाद यह खेल जारी रहेगा। वैसे भाजपा का दबाव और अपनी

पार्टी को आगे बढ़ाने की चाल में नीतीश कुमार जब तक हामी भरते रहेंगे, उनकी कुर्सी

उतने दिनों तक ही रहेगी। जिस दिन उन्होंने इसे झेलने से इंकार कर दिया तो स्वाभाविक

तौर पर वह कुर्सी से हटा दिये जाएंगे और भाजपा का कोई इस कुर्सी पर बैठेगा। अब सिर्फ

यह कब और कैसे होता है, यह देखने वाली बात है। इसके लिए किसी विशेष ज्ञान की

जरूरत भी नहीं है। सारे घटनाक्रम तो इसी तरफ इशारा करते हैं कि नीतीश कुमार अब

महज परिस्थितियों के तहत मुख्यमंत्री बनाये गये हैं। लगता है खुद नीतीश कुमार भी इस

बात को बहुत अच्छी तरह समझ रहे हैं

वीडियो में देखिये यह पूरी रिपोर्ट

समाजवादी पार्टी के पुराने नेता सैयद असद इकबाल को भागलपुर रूमी जी के नाम से

ज्यादा जानता है। उनसे हुए मुलाकात पर जो बात चीत का सिलसिला प्रारंभ हुआ तो यह

सारी बातें उन्होंने बड़े ही बेबाक तरीके से कही। उन्होंने कहा कि खुद नीतीश कुमार भी

अच्छी तरह जानते हैं कि इस बार का जनादेश उनके खिलाफ है। यानी उन्होंने जो कुछ

काम करने का बार बार दावा किया था, उन दावों को जनता ने अपने समर्थन की मुहर नहीं

मिली है। श्री रूमी ने कहा जिन महिलाओं के समर्थन की बात अब सिर्फ नीतीश कुमार बार

बार कहते हैं, उन महिलाओं से भी जान लीजिए कि क्या वाकई बिहार में शराबबंदी है। हर

रोज तो शराब के अवैध कारोबार में लिप्त लोगों के खिलाफ चालान कट रहे हैं। हर इलाके

में शराब पकड़ी जा रही है तो अब सिर्फ दावा करने से तो शराबबंदी है, उसकी पुष्टि कतई

नहीं होती।

अब सिर्फ देखते जाइये कि भाजपा क्या कुछ करती है

उन्होंने कहा कि राजग में आज भी लोजपा शामिल है। लोजपा ने इस चुनाव में नीतीश

कुमार के खिलाफ क्या कुछ किया, यह भी जगजाहिर है। फिर भी अगर भाजपा ने लोजपा

से अपना नाता नहीं तोड़ा है तो उसे क्या समझा जाए। खुद चिराग पासवान भी अपने आप

को नरेंद्र मोदी का हनुमान बताते हैं। दूसरी तरफ नीतीश के खिलाफ उन्होंने जो कुछ भी

कहा या चुनाव में किया, उस पर खुद नरेंद्र मोदी ने एक शब्द नहीं कहा। अब सिर्फ एलान

कर देने भर से कौन भाजपा पर यकीन कर सकता है। अब सिर्फ कितने दिनों तक नीतीश

जी मुख्यमंत्री रह पाते हैं, यह देखने वाली बात होगी


 

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from HomeMore posts in Home »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from बिहारMore posts in बिहार »
More from राजनीतिMore posts in राजनीति »
More from वीडियोMore posts in वीडियो »

Be First to Comment

Leave a Reply

... ... ...
%d bloggers like this: