fbpx Press "Enter" to skip to content

अब फिर से देश के असली मुद्दो की बात हो

अब फिर से वे सारे मुद्दे फिलहाल निपट चुके हैं, जो टीवी के पर्दे के जरिए लोगों के दिमाग

तक पहुंचाये जा रहे थे। देश के असली मुद्दे निश्चित तौर पर ये नहीं थे। श्रीराम के मंदिर

के भूमि पूजन से करोड़ों लोगों की आस्था जुड़ी हुई थी। अब भूमि पूजन संपन्न हो चुका है।

इसलिए देश में कोरोना संक्रमण की जांच की गति बढ़ाने, गरीबों के साथ साथ मध्यम वर्ग

को भी आर्थिक राहत देने, देश की अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने और कूटनीतिक स्तर

पर चीन की चालबाजी को विफल करने पर ध्यान केंद्रित होना चाहिए। इस बीच देश में

पेट्रोल और डीजल की कीमतों में बढ़ोत्तरी के बारे में भी अब सरकार को सफाई देनी

चाहिए क्योंकि पूर्व में इसी सरकार के लोग जब विपक्ष में थे तो जिन मुद्दों को लेकर वे डॉ

मनमोहन सिंह की सरकार को पानी पी पीकर कोसा करते थे, अब सवालों का उत्तर भी

देने से कतराते हैं। स्थिति कितनी विकट है उसका अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता

है कि केंद्रीय वित्त सचिव अजय भूषण पांडे ने मंगलवार को हुई एक बैठक में स्थायी

संसदीय समिति को बताया है कि राजस्व साझेदारी की मौजूदा फॉर्मूला के तहत केंद्र

सरकार राज्यों के वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) का हिस्सा दे पाने में सक्षम नहीं है।

अब फिर से देश दरअसल कहां खड़ा है, इस पर चर्चा हो

जिम्मेदार अधिकारी के इस बयान के बाद केंद्र सरकार की तरफ से इसका कोई खंडन अब

तक नहीं आया है। लिहाजा यह माना जा सकता है कि इस एलान को केंद्रीय वित्त मंत्री

श्रीमती निर्मला सीतारमण और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का समर्थन प्राप्त है। स्थायी

समिति की अध्यक्षता भाजपा सांसद जयंत सिंहा कर रहे थे। बैठक में शामिल होने वाले

कम से कम दो सदस्यों ने बताया कि वित्त सचिव ने यह टिप्पणी कोरोना वायरस

महामारी के कारण राजस्व में आई कमी को लेकर पूछे गए सवाल पर की। एक सदस्य ने

अपनी पहचान गुप्त रखने की शर्त पर बताया कि बाद सदस्यों ने पांडे से पूछा कि सरकार

राज्यों से किए गए वादे को कैसे पूरा करेगी। इस पर उन्होंने कहा कि अगर राजस्व संग्रह

एक निश्चित सीमा से कम हो जाता है तो जीएसटी अधिनियम में राज्य सरकारों को

मुआवजे का भुगतान करने के फार्मूले को फिर से लागू करने के प्रावधान हैं। राज्यों को

किए जाने वाले मुआवजे के भुगतान के फॉर्मूले पर दोबारा काम करने के लिए जुलाई में

जीएसटी परिषद की बैठक होने वाली थी। हालांकि, अभी तक यह बैठक नहीं हो सकी है।

देश को हुए नुकसान का अनुमान जीएसटी से होता है

सांसदों ने इस बात की पुरजोर मांग की कि समिति को महामारी के कारण भारी नुकसान

उठाने वाली अर्थव्यवस्था की मौजूदा स्थिति पर चर्चा करनी चाहिए। समिति के अध्यक्ष

जयंत सिंहा को लिखे गए एक पत्र में मनीष तिवारी ने कहा था कि संकट की इस घड़ी में

चुने गए विषय पर चर्चा कराने से लोगों को लगेगा कि समिति भ्रम का शिकार हो गई है।

यह ज्ञात हुआ है कि समिति के अध्यक्ष जयंत सिंहा ने कहा कि सदस्यों द्वारा पूछे गए

अधिकतर प्रश्न राजनीतिक थे जिनका जवाब वित्त मंत्रालय के अधिकारी नहीं दे सकते

थे। इनका जवाब केवल मंत्री निर्मला सीतारमण दे सकती हैं वह भी संसद में इस मुद्दे पर

बहस के दौरान। सूत्रों के अनुसार, इस पर प्रफुल्ल पटेल ने कहा कि अगर वित्त मामलों की

स्थायी समिति अर्थव्यवस्था की स्थिति से जुड़े सामान्य सवालों पर भी चर्चा नहीं कर

सकती है तो अच्छा होगा कि समिति को भंग ही कर दिया जाए। इसलिए देश की आर्थिक

स्थिति को समझना अभी आसान है। गरीबों को राशन दिये जाने की वजह से देश में अब

तक भूखमरी की मौत के आंकड़े बहुत कम है। लेकिन इस स्थिति को हम कितने दिनों

तक कायम रख पायेंगे, यह भी बड़ा सवाल है।

मध्यमवर्ग की सरासर अनदेखी हो रही है

जिनको टैक्स के माध्यम से सरकार को पैसा देना है, उनके हितों के लिए अब तक कोई

कदम नहीं उठाये गये हैं। जिन आर्थिक पैकेजों की घोषणा की गयी थी, उनका कोई खास

असर बाजार पर नहीं दिख रहा है। पेट्रोल और डीजल की कीमतों में बढ़ोत्तरी से परिवहन

लागत भी बढ़ गयी है। दूसरी तरफ हर स्तर पर आर्थिक गतिविधि सुस्त होने की वजह से

सभी की जेबें या तो खाली हैं या तेजी से खाली हो रही है। ऐसे में अन्य गैर जरूरी मुद्दों की

तरफ देश का ध्यान भटकाने से तो बेहतर है कि हम अब फिर से देश के असली मुद्दों पर ही

कुछ करें ताकि आम जनता का भला हो। वरना सिर्फ झांसे की चर्चा से गरीबों के पेट में दो

वक्त की रोटी उपलब्ध कराना सिर्फ जादूई करिश्मा हो सकता है, यह देश की समस्या का

समाधान नहीं है।


 

 

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from कोरोनाMore posts in कोरोना »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »

Be First to Comment

Leave a Reply

error: Content is protected !!