fbpx Press "Enter" to skip to content

कोरोना आतंक की समाप्ति के करीब हैं हमः मिशेल लेविट

  • दुनिया भर के वैज्ञानिक रात दिन कर रहे हैं परिश्रम

वाशिंगटनः कोरोना आतंक से जूझती दुनिया को नोबल पुरस्कार विजेता ने दिलासा

दिलाया है। नोबल पुरस्कार विजेता बॉयोफिजिस्ट मिशेल लेविट ने कहा है कि शीघ्र ही

पूरी दुनिया इस कोरोना के आतंक से मुक्त हो जाएगा। उन्हें वर्ष 2013 में  विश्व

विख्यात नोबल पुरस्कार से सम्मानित किया गया है। उन्हें रसायनशास्त्र के शोध की

वजह से ही यह पुरस्कार प्रदान किया गया है। उन्होंने कहा कि जिस तरीके दुनिया भर

में काम चल रहा है , उससे शीघ्र ही कोविड 19 की समाप्ति का कोई कारगर तरीका

निकल आयेगा। इसलिए पूरी दुनिया को धैर्य के साथ इसमें काम करने वाले वैज्ञानिकों

के निष्कर्षों की प्रतीक्षा करनी चाहिए।

उनके मुताबिक यह महामारी प्राकृतिक तौर पर भी अपनी गति खोने लगी है। चीन की

तरह अमेरिका को भी इसके सबसे खराब दौर से अभी गुजरना शेष है। वह खुद पिछले

जनवरी माह से इस बीमारी की गतिविधियों पर नजर रखे हुए हैं। उनका मत है कि

कोरोना से बचाव के लिए तो वैज्ञानिक काम कर ही रहे हैं लेकिन जो आतंक फैल रहा है,

उसे समाप्त किया जाना ज्यादा जरूरी है। इसके बिना लोग विश्वास खो रहे हैं। साथ ही

मनाही के बाद भी एक दूसरे से दूरी बनाकर नहीं रखना भी बीमारी के फैलने का एक

मुख्य कारण साबित हो चुका है। इस नोबल पुरस्कार विजेता का आकलन है कि फरवरी

के मुकाबले मार्च में इस वायरस से मरने वालों की संख्या धीरे धीरे कम हो रही है। दूसरी

तरफ इस संक्रमण से ठीक होने वालों की संख्या बढ़ रही है।

कोरोना आतंक का प्रभाव अब कम हो रहा है

इसलिए लोगों को आशावान बने रहना चाहिए और वैज्ञानिकों को इस सामाजिक

आतंक की वजह से तनाव में नहीं डालना चाहिए। उन्हें चिंतामुक्त होकर अपना काम

सही तरीके से करने का मौका मिलना चाहिए। इससे कोई ठोस और सटीक उपाय पूरी

दुनिया के सामने आ सकेगा। चूंकि इस पर लगातार शोध चल रहा है और नये नये

तथ्य सामने आ रहे हैं, इसलिए तय है कि इससे बचाव का स्थायी रास्ता भी जल्द ही

सभी के सामने आ ही जाएगा।


 

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

One Comment

Leave a Reply

error: Content is protected !!