Press "Enter" to skip to content

भारतीय खिलाड़ियों के खिलाफ कोई औपचारिक आरोप दायर नहीं किया गया







केप टाउन: भारतीय खिलाड़ी विराट कोहली और उनकी टीम के साथियों से आईसीसी मैच अधिकारियों ने न्यूलैंड्स टेस्ट के तीसरे दिन डीआरएस में फील्ड अंपायर के फै सले को बदलने के बाद हुए घटनाक्रम के बारे में बात की है। हालांकि इस बाबत किसी भी खिलाड़ी पर कोई औपचारिक आरोप नहीं लगाया गया है।

क्रिकइंफो समझता है कि तीसरे दिन डीन एल्गर के आउट करार दिए जाने के फैसले को डीआरएस के द्वारा पलटने के बाद आईसीसी के मैच अधिकारियों ने भारतीय टीम प्रबंधन के साथ उनके आचरण के बारे में उन्हें आगाह किया था, लेकिन भारत के खिलाफ कोई अधिकारिक आचार संहिता उल्लंघन का आरोप नहीं लगाया गया था। तीसरे टेस्ट के बाद की प्रेस कॉन्फ्रेंस में कोहली ने ख़ुद कहा था कि तीसरे दिन डीआरएस मामले में स्टंप माइक के पास उन्होंने और उनके खिलाड़ियो ने जो कुछ भी कहा, उसके बारे में वह कोई टिप्पणी नहीं करेंगे।

हालांकि उस दौरान यह देखा गया था कि कई भारतीय खिलाड़ियों ने स्टंप माइक के पास आकर उस फैसले के बारे में मैच के ब्रॉडकास्टर सुपरस्पोर्ट को संबोधित करते हुए कुछ कहा था। हालांकि विराट ने यह भी कहा कि उन्हें नहीं लगता कि उस घटना के बाद आवेश में आकर उनकी टीम ने साउथ अफ्रीकी टीम को कोई फायदा पहुंचाया। कोहली ने कहा हम समझ गए थे कि मैदान पर उस वक्Þत क्या हुआ, और बाहर के लोगों को मैदान में क्या हो रहा है, इसका सटीक विवरण नहीं पता है।

इसलिए मैदान पर हमने जो किया उसे सही या गलत ठहराने की कोशिश करना उचित नहीं है। कोहली ने आगे कहा अगर हम ज्यादा जोश के साथ खेलते और उस वक्त तीन विकेट ले लेते, तो शायद यही वह क्षण होता जो खेल को बदल सकता था। वास्तविकता यह है कि हमने दक्षिण अफ्रीका पर लंबे समय तक पर्याप्त दबाव नहीं डाला। इसलिए हम यह मैच हार गए।

भारतीय खिलाड़ियों ने इस फैसले के बाद नाराजगी जताई

जब कोई बात विवाद में बदलने लगती है तो कई लोगों के लिए वह रोमांचक और मजेदार हो जाता है। ईमानदारी से मुझे कोई भी विवाद खड़ा करना अच्छा नहीं लगता। मुझे इसमें बिल्कुल भी दिलचस्पी नहीं है। मैदान पर वह एक ऐसा क्षण था जो बीत गया और हम इससे आगे बढ़े और बस खेल पर ध्यान केंद्रित करते हुए विकेट लेने की कोशिश करते रहे।

तीसरे दिन के खेल के अंतिम सत्र में एल्गर को मैदान पर रविचंद्रन अश्विन की एक गेंद पर फील्ड अंपायर के द्वारा एलबीडब्ल्यू घोषित कर दिया गया था। एल्गर ने अंपायर के इस फैसले के खिलाफ रिव्यू लेने का निर्णय लिया। इसके बाद हॉक आई में यह दिखाया गया कि गेंद विकेट के ऊपर से चली जाती, जिसके कारण अंपायर को अपना फैसला वापस लेना पड़ा। इस फैसले के बाद कई भारतीय खिलाड़ियों ने नाराजगी जताई, जिसमें स्पष्ट रूप से नाराज दिख रहे कोहली स्टंप माइक के पास गए और सुपरस्पोर्ट को संबोधित करते हुए कहा जब आपकी टीम गेंद को चमकाती है, तब भी ध्यान दिया करो, सिर्फ विपक्षी टीम पर नहीं।

हमेशा लोगों को पकड़ने की कोशिश मत किया करो। सिर्फ कोहली अकेले नहीं थे। टीम के उपकप्तान लोकेश राहुल ने कहा, पूरा देश 11 खिलाड़ियों के खिलाफ है। वहीं अश्विन ने कहा, सुपरस्पोर्ट, आपको जीतने के लिए कुछ और उपाय अपनाने चाहिए। 21 ओवर में यह घटना हुई। उस वक्त एल्गर 22 रन बना कर खेल रहे थे और टीम का स्कोर 1 विकेट के नुकसान पर 60 रन था।

भारतीय खिलाड़ी अकेले नहीं थे जो इस बात से सहमत नहीं थे। जैसे ही तीसरे अंपायर ने फील्ड अंपायर मराय इरासमस के फैसले को गलत ठहराया इरासमस को भी अपना सिर हिलाते हुए देखा जा सकता था और उन्हें यह कहते हुए सुना गया, यह असंभव है। दक्षिण अफ्रीका ने उस ओवर की समाप्ति के बाद, अगले छह ओवरों में बाउंड्री की झड़ी लगा दी और 35 रन बनाए। हालांकि एल्गर अंतत: दिन की आखिरी गेंद पर जसप्रीत बुमराह की गेंद पर आउट हुए।



More from HomeMore posts in Home »
More from क्रिकेटMore posts in क्रिकेट »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from दिल्लीMore posts in दिल्ली »

One Comment

Leave a Reply

Mission News Theme by Compete Themes.
%d bloggers like this: