fbpx Press "Enter" to skip to content

केंद्र में मंत्री बनने के पहले ही आरोपों से घिर गये हैं निशिकांत दुबे

  • संवाददाता

रांचीः केंद्र में मंत्री बनने का कार्यक्रम शायद अनिश्चिकाल के लिए टल गया है। केंद्रीय

मंत्रिपरिषद का विस्तार पिछले महीने के अंतिम सप्ताह में होना तय था। इस विस्तार में

स्थान पाने में सबसे आगे चल रहे गोड्डा के सांसद निशिकांत दुबे लगातार आरोपों से

घिरते जा रहे हैं। जमीन खरीद में अपनी पत्नी के जरिए नियम के उल्लंघन पर काफी

अधिक रकम का नगद भुगतान करने का मामला पहले से ही चर्चा में हैं। अब झामुमो ने

उन पर चुनाव आयोग को गलत जानकारी देने का आरोप लगाया है। पार्टी के प्रवक्ता

सुप्रियो भट्टाचार्य ने कहा कि बीजेपी में फर्जीवाड़ा करनेवालों की लंबी फेहरिस्त है। उन्होंने

कहा कि गोड्डा सांसद निशिकांत दुबे समेत सभी सांसदों के चुनावी हलफनामे की जांच

की जाये। उन्होंने कहा कि गोड्डा सांसद निशिकांत दुबे ने लोकसभा का चुनाव लड़ने के

दौरान चुनाव आयोग को दिये हलफनामे में खुद के एमबीए होने की जानकारी दी है।

केंद्र में मंत्री बनने में एक नंबर पर थे पर अब नहीं

जबकि एक आरटीआइ से पता चला है कि उन्होंने जो जानकारी दी है वह गलत है। इस

बार भी आरोप लगाने वाले देवघर के विष्णुकांत झा ही हैं। जमीन खरीद में गड़बड़ी की

शिकायत भी उन्होंने ही की थी। इसे लेकर उन्होंने देवघर सदर थाना में एक आवेदन दिया

है। विष्णुकांत झा ने सांसद निशिकांत पर आरोप लगाया है कि उन्होंने तीन बार लोकसभा

चुनाव लड़ने के लिए चुनाव आयोग को गुमराह किया है। 2009, 2014 और 2019 में जो

हलफनामा निशिकांत दुबे की तरफ से चुनाव आयोग को दिया गया है, उसमें उन्होंने

अपनी शैक्षणिक जानकारी गलत दी है। इस बीच दिल्ली दरबार का संकेत है कि इन

विवादों में नाहक ही घिरने तथा पार्टी के अंदर से निशिकांत का विरोध होने की वजह से

शायद अब उनके बदले धनबाद के सांसद पीएन सिंह के नाम की लॉटरी खुल सकती है।

इन दोनों नामों पर विचार सिर्फ पश्चिम बंगाल के विधानसभा चुनाव को लेकर हो रहा था।

गलवान घाटी में चीन के साथ सीमा विवाद होने के बाद से यह मामला फिलहाल ठंडे बस्ते

में चला गया है।


 

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from गोड्डाMore posts in गोड्डा »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from धनबादMore posts in धनबाद »
More from विवादMore posts in विवाद »

Be First to Comment

Leave a Reply