fbpx Press "Enter" to skip to content

नकली रेमडेसिविर इंजेक्शन लगे मरीजों में से नब्बे प्रतिशत ठीक




  • पुलिस ने चौंकाने वाला खुलासा किया है

  • नकली रेमडेसिविर लगवाने वाले कई मरीज ठीक हुए

  • नकली इंजेक्शन में ग्लूकोज और नमक का घोल भर था

राष्ट्रीय खबर

भोपालः नकली रेमडेसिविर इंजेक्शन इंदौर और जबलपुर में जिन कोरोना मरीजों को

लगाए गए, उनमें से 90 फीसदी मरीजों का लंग्स इंफेक्शन ठीक हो गया। जी हां, पुलिस ने

खुद ये चौंकाने वाला खुलासा किया है। पुलिस का कहना है कि इस मामले में प्रदेश के

स्वास्थ्य विभाग को गंभीरता से सोचना चाहिए। वैसे यह स्पष्ट कर दें कि विश्व स्वास्थ्य

संगठन ने पहले ही विज्ञप्ति जारी कर यह स्पष्ट कर दिया था कि इस रेमडेसिविर

इंजेक्शन से कोरोना के ठीक होने का कोई क्लीनिकल रिकार्ड नहीं है। इसलिए उसे कोरोना

के ईलाज की दवा तो कतई नहीं माना जाना चाहिए। दरअसल अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति

डोनाल्ड ट्रंप द्वारा इस दवा की वकालत किये जाने के बाद ही पूरी दुनिया में बार बार इस

दवा के पक्ष में माहौल बनाने का काम चलता आ रहा है। इस इंजेक्शन की जरूरत बताने

वाले डाक्टरों के पास भी ऐसा कोई मान्यताप्राप्त आंकड़ा नहीं हैं कि इस इंजेक्शन से रोगी

पर बेहतर प्रभाव पड़ता है । वैसे मध्यप्रदेश के एक पुलिस अधिकारी ने नाम न बताने की

शर्त पर बताया कि इंदौर में जिन लोगों को नकली रेमडेसिविर दिए गए, उनमें से दस की

मौत हो गई जबकि, 100 से ज्यादा लोग ठीक हो गए। जांच में पाया गया है कि इस नकली

रेमडेसिविर इंजेक्शन में केवल ग्लूकोज और नमक था। हालांकि, जिन लोगों की मौत हो

गई उनके शरीर की जांच नहीं हो सकती, क्योंकि सभी का अंतिम संस्कार हो चुका है।

नकली रेमडेसिविर की कालाबाजारी में कांग्रेस नेता भी

इंदौर की विजय नगर दो दिन पहले ही 4 आरोपियों को पकड़ा था। एक आरोपी को भोपाल

से, एक आरोपी को सांवेर से जबकि 2 अन्य आरोपियों को शहर से गिरफ्तार किया था।

अब तक इस मामले पुलिस एक दर्जन से अधिक आरोपियों को हिरासत में ले चुकी है।

पुलिस जल्द ही कालाबाजारी के मुख्य आरोपियों सुनील मिश्रा, पुनीत शाह और कौशल

वोरा को गुजरात से इंदौर ले आएगी। पुलिस ने भोपाल से आरोपी प्रशांत पाराशर को

गिरफ्तार किया है। ये पेशे से इंजीनियर है और सब इंस्पेक्टर की तैयारी कर रहा था।

इसने 100 इंजेक्शन मुख्य आरोपी सुनील मिश्रा से खरीदे थे और इंदौर जिले से बाहर बेचे।

जानकारी मिली है कि प्रशांत पाराशर कांग्रेस से सक्रिय तौर पर जुड़ा है और संक्रमण के

वक़्त में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाने के लिए राजनैतिक दल से दायित्व भी दिए गए थे।



Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from HomeMore posts in Home »
More from अजब गजबMore posts in अजब गजब »
More from एक्सक्लूसिवMore posts in एक्सक्लूसिव »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from मध्यप्रदेशMore posts in मध्यप्रदेश »

Be First to Comment

... ... ...
error: Content is protected !!
%d bloggers like this: