Press "Enter" to skip to content

दिल्ली में मारे गये किसान के परिवार वालों को दूसरा दावा

  • प्रत्यक्षदर्शियों ने कहा गोली के निशान देखे थे

  • अंतिम क्रिया के बाद अदालत जाएंगे लोग

  • आस्ट्रेलिया से लौटा था और दिल्ल गया था

  • पोस्टमार्टम रिपोर्ट में दो घावों का उल्लेख है

राष्ट्रीय खबर

नईदिल्लीः दिल्ली में 26 जनवरी की हिंसा के दौरान मारे गये गये किसान नवरीत सिंह के

परिवार लोगों का दावा है कि वह ट्रैक्टर एक्सीडेंट में नहीं पुलिस की गोली से मारा गया है।

इस युवा की पोस्टमार्टम रिपोर्ट में यह बताया गया था कि उसकी मौत ट्रैक्टर पलट जाने

से लगी चोटों की वजह से हुई थी। दिल्ली के आईटीओ के पास इस घटना के प्रत्यक्षदर्शी

होने के दावा करने वाले गांव के कई लोगों ने कहा कि उन्होंने उसके शरीर पर गोली के

निशान अपनी आंखों से देखे थे। यह युवक पुलिस की गोली से मरा, ऐसा दावा करने वाले

कई लोगों के खिलाफ दिल्ली पुलिस ने मुकदमा भी दायर किया है। इसमें कांग्रेस नेता

शशि थरूर और इंडिया टूडे के पत्रकार राजदीप सरदेसाई भी हैं। दिल्ली पुलिस ने अपने

दावे के संबंध में एक वीडियो का फुटेज भी जारी किया है, जिसमें तेजी से आते एक ट्रैक्टर

द्वारा पुलिस बैरिकेड तोड़ने के बाद उलट जाने की दृश्य नजर आया है। रामपुर के जिला

अस्पताल में हुई पोस्टमार्टम रिपोर्ट में यह कहा गया है कि उसकी मौत दुर्घटना में लगी

चोट की वजह से हुई है।

अब उसके परिवार वाले पुलिस और पोस्टमार्टम के इस दावे को चुनौती दे रहे हैं। वे इस

मामले को अदालत में ले जाने की बात कह चुके हैं। लोगों का कहना है कि खुद डाक्टर ने

भी उनसे कहा था कि उसके शरीर पर गोलियों के निशान थे। इसी बात पर उसका अंतिम

संस्कार भी कर दिया गया। अब पोस्टमार्टम रिपोर्ट में कुछ और ही कहा जा रहा है।

दिल्ली में मौत से दो दिन पहले ही विदेश से लौटा था

नवरीत के दादा हरदीप सिंह डिबडिबा ने कहा कि बाद में पूछ ताछ होने पर डाक्टर ने कहा

है कि वह कोई मदद नहीं कर सकता क्योंकि उसके भी हाथ बंधे हुए हैं। वैसे इस

पोस्टमार्टम रिपोर्ट का अध्ययन करने वाले जानकारों ने राय दी है कि डाक्टरों ने पूरी तरह

बेइमानी भी नहीं की है। रिपोर्ट में ठुड्डी और कान के नीचे दो घाव होने की बात कही गयी

है। अब अदालत में मामला जाने के बाद जब इस पर बहस होगी तो और भी खुलासा हो

जाएगा क्योंकि तब डाक्टरों को अदालत को अपनी बात के संबंध में स्पष्ट जानकारी देनी

पड़ेगी। नवरीत के पिता विक्रमजीत सिंह ने कहा कि जिस किसी ने भी शव को देखा था,

सभी की नजर में यह बात आयी थी कि उसके शरीर पर बुलेट के घाव थे। नवरीत हाल ही

में आस्ट्रेलिया से लौटा था और गांव के किसानों के साथ दिल्ली में  ट्रैक्टर परेड में भाग

लेने गया था। आगामी 4 फरवरी को उसका अंतिम अरदास संपन्न होगा। अंतिम क्रिया से

संपन्न होने के बाद ही यह परिवार अदालत की चौखट पर जायेगा।

राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग भी सूचना पर सतर्क

एक पक्ष की तरफ से ऐसी शिकायत आने के बाद राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग भी सतर्क

हो गया है। वहां की जानकारी रखने वाले विधि विशेषज्ञों का कहना है कि जब यह मामला

आयोग के संज्ञान में आयेगा तो पोस्टमार्टम के दौरान की गयी वीडियो रिकार्डिंग की भी

जांच की जाएगी।

Spread the love
More from HomeMore posts in Home »
More from अपराधMore posts in अपराध »
More from एक्सक्लूसिवMore posts in एक्सक्लूसिव »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from दिल्लीMore posts in दिल्ली »
More from राजनीतिMore posts in राजनीति »

One Comment

... ... ...
Exit mobile version