पुलिस के साथ मुठभेड़ में एरिया कमांडर चंदर ढेर हथियार बरामद

पुलिस के साथ मुठभेड़ में एरिया कमांडर चंदर ढेर हथियार बरामद
Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

संवाददाता

चतरा/रांचीः पुलिस व सीआरपीएफ की संयुक्त टीम ने जिले में सक्रिय

भाकपा माओवादी के एरिया कमांडर चंदर सिंह भोक्ता उर्फ गंझू को मार गिराया है।

पुलिस को विशेष अभियान के दौरान यह सफलता हाथ लगी है।

इस दौरान पुलिस ने घटनास्थल से एक इंसास रायफल और नक्सली साहित्य भी बरामद किया है।

एसपी अखिलेश वी वारियर ने बताया कि जोनल कमांडर आलोक के दस्ते में

शामिल उक्त उग्रवादी अन्य नक्सली नेताओं के साथ विगत

कई दिनों से बिहार-झारखंड सीमा पर स्थित कौलेश्वरी जोन में सक्रिय था।

उन्होंने बताया कि यह दस्ता आए दिन छोटी बड़ी घटनाओं को अंजाम देकर

अपने खिसकते जनाधार को हासिल करने के फिराक में लगा था।

जिसकी सूचना पुलिस को लगातार मिल रही थी।

एसपी ने बताया कि गुप्त सूचना मिली थी कि आलोक अपने  दस्ते के साथ

एक बार फिर से जिले में किसी बड़ी घटना को अंजाम देने के उद्देश्य से राजपुर-वशिष्टनगर जोरी थाना क्षेत्र के सीमावर्ती जंगल मे योजना बना रहा है।

वशिष्टनगर जोरी थाना पुलिस और सीआरपीएफ 190 बटालियन के अधिकारियों व जवानों समेत सैट के जवानों को नक्सलियों की घेराबंदी के लिए जंगल मे भेजा गया।

उन्होंने बताया कि अभियान के दौरान ही तड़के सुबह जंगल मे पेट्रोलिंग पार्टी को देखकर नक्सलियों ने अंधाधुंध फायरिंग शुरू कर दी।

जिसके बाद जवानों ने मोर्चा संभालते हुए नक्सलियों को मुंहतोड़ जवाब दिया।

इस दौरान करीब तीन घंटों तक चले गोलीबारी में एरिया कमांडर चंदर उर्फ गंझू को सुरक्षाबलों ने ढेर कर दिया।

हालांकि इस दौरान दस्ते की अगुवाई कर रहा आलोक अपने अन्य साथियों के साथ जंगल का लाभ उठाकर मौके से भागने में सफल रहा।

जिसके बाद एएसपी निगम प्रसाद, एसडीपीओ वरुण रजक, सदर थाना प्रभारी

पुलिस निरीक्षक राम अवध सिंह, इंस्पेक्टर शिव गोप, वशिष्टनगर जोरी थाना प्रभारी

कुणाल कुमार व राजपुर थाना प्रभारी घनश्याम साव ने दलबल के साथ जंगल की घेराबंदी कर सर्च अभियान चलाया।

सर्च अभियान के दौरान ही एरिया कमांडर का शव पुलिस ने बरामद करते हुए

इंसास रायफल और अन्य दस्तावेज जप्त करने में सफलता पाई।

घटना के बाद डीआईजी पंकज कंबोज और एसपी अखिलेश वी वारियर भी मौके पर पहुंचे और घटनास्थल का जायजा लिया।

मौके पर डीआईजी और एसपी ने संयुक्त रूप से एक बार फिर नक्सलियों को

चेतावनी देते हुए कहा कि या तो वे आत्मसमर्पण नीति का लाभ लेते हुए हथियार डालकर मुख्यधारा में शामिल हो जाएं या इसी तरह गोली खाने के लिए तैयार रहे।

अधिकारियों ने कहा कि जिले में नक्सल गतिविधि किसी भी सूरत में बर्दास्त नहीं कि जाएगी।

मौके पर अधिकारियों ने मुठभेड़ के दौरान और भी नक्सलियों के मारे जाने के दावे किए हैं।

अधिकारियों ने कहा है कि मुठभेड़ के दौरान सुरक्षाबलों की गोलियों के शिकार अन्य साथियों को लेकर नक्सली भागने में सफल रहे हैं।

जिनकी गिरफ्तारी के लिए जंगलों की घेराबंदी कर लगातार सर्च अभियान चलाया जा रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.