माओवादियों के कहर से परेशान लोग, सड़क निर्माण कार्य में डाले रोड़े

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

चतरा : माओवादियों के कहर से परेशान चतरा के लोगों ने जैसे इन उग्रवाद जैसी घटनाओं के साथ जीने की आदत डाल दी है जो कहीं न कहीं उनके नित्यक्रम हो गए है। जहां कई बार तो जान तक भी गवाने पड़ते है तो सम्पत्तियों से भी हाथ धोना पड़ता है। रविवार की शाम भाकपा माओवादी उग्रवादी संगठन ने लेवी की मांग को लेकर ऐसे ही एक घटनाक्रम को दोहराया जब सड़क निर्माण में खड़े जेसीबी सहित अन्य कई वाहनों को उग्रवादी संगठनों ने किया आग के हवाले।

देखें नक्सलियों द्वारा जलाया गया वाहन

दरअसल प्रतापपुर थाना क्षेत्र के कौरा प्रतापपुर में सड़क निर्माण कार्य जोड़ो-शोरों से चल रहा है जहां निर्माण सिंह कन्स्ट्रकशन द्वारा नीमा से लेकर कौरा पथ का निर्माण कार्य करवाया जा रहा है जो सड़क निर्माण विभाग झारखंड सरकार के अंतर्गत आते है। माओवादियों ने उक्त कन्स्ट्रकशन कंपनी से संभवत लेवी की मांग की होगी जिससे कार्य रुक-रुक कर कराये जा रहे है पर भी काफी हद तक सड़कों का कार्य खत्म हो चुका है।

घटना कि जानकारी –

बता दें कि रविवार की शाम 5:30 बजे भाकपा माओवादियों ने सड़क निर्माण कार्य पर रोक लगते हुए जेसीबी, ट्रेलर समेत कई वाहन जो घटनास्थल पर मौजूद थे सभी को आग के हवाले कर दिया। जो धु-धु कर जलते नज़र आए पर किसी की हिम्मत नहीं हुई की आग पर काबू पाने को आगे आए। उग्रवादियों ने घटनास्थल पर पोस्टर लगाकर कार्य को रोकने की धमकी भी दी है साथ ही यह भी चेतावनी भी है कि अगर फिर से निर्माण शुरू हुआ तो इससे ज्यादा डरावनी शक्ल होगी निर्माण कार्य के साथ निर्माण कर्मियों की। वहीं मौजूदा मजदूरों को भी चेतावनी देकर कार्य को रोकने की धमकी देते हुए जगह खाली करने की चेतावनी दी गयी।

पुलिस और स्थानीय लोग

विदित हो कि मौके पर पुलिस पहुंची और हालत का जायजा लिया और जांच में जुट गयी। पर सूत्रों कि माने तो पुलिस प्रशासन इन घटनाओं से कहीं न कहीं अनदेखी कर रहा है, तभी तो ऐसी घटनाएँ चतरा जैसे क्षेत्रों में आए दिन होते रहते है। सरकार के इतने बड़े बड़े कदम नकसलवाद के खिलाफ लिए गए है पर कुछ उग्रवादी अपनी सोंच को बदलना नहीं चाहते। स्थानीय लोगों के अनुसार वे लोग भय और दहशत में अपनी जिंदगी गुजारते है पर कोई भी ऐसी घटनाओं के खिलाफ कुछ बोल नहीं सकते।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.