Press "Enter" to skip to content

नाटो अब अंतरिक्ष में अपने सुरक्षा अभियान की शुरुआत करेगा







ब्रुसेल्सः नाटो यानी उत्तर अटलांटिक संधि संगठन ने वायु, जमीन, समुद्र और साइबर

क्षेत्र की तरह अंतरिक्ष क्षेत्र की सुरक्षा चुनौतियों से निपटने के लिए इस क्षेत्र में अपने

अभियान शुरू करने के संकेत दिए हैं। नाटो के महासचिव जेंस स्टोल्टनबर्ग ने बुधवार को

यहां नाटो के विदेश मंत्रियों की बैठक के बाद एक संवाददाता सम्मेलन में यह बात कही।

श्री स्टोल्टनबर्ग ने कहा, ‘‘ हम इस मुद्दे पर सहमत हुए हैं कि वायु, जमीन, समुद्र और

साइबर क्षेत्र की तरह अंतरिक्ष क्षेत्र में भी हमें अपने अभियान शुरू करने चाहिए। यहां

पृथ्वी पर प्रतिदिन अंतरिक्ष किसी न किसी रूप में हमारी गतिविधियों से जुड़ा हुआ है।

इसे शांतिपूर्ण उद्देश्यों के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है। लेकिन इसे आक्रामक तरीके

से भी इस्तेमाल किया जा सकता है।’’ नाटो के महासचिव ने कहा कि अंतरिक्ष में उपग्रहों

को जाम किया जा सकता है, हैक किया जा सकता है अथवा हथियारबंद किया जा सकता

है, जिससे संचार और विभिन्न सेवाओं तथा क्षेत्रों को बाधित एवं प्रभावित किया जा

सकता है। अंतरिक्ष क्षेत्र में अपने अभियान की शुरुआत करना नाटो की रक्षा क्षमता को

मजबूती प्रदान करेगा। इससे मिसाइल प्रक्षेपण का पता लगाने और खुफिया जानकारी

एकत्र करने की गठबंधन की क्षमता को भी बल मिलेगा। श्री स्टोल्टनबर्ग ने इस बात पर

जोर देते हुए कहा कि नाटो एक रक्षात्मक गठबंधन है जिसका अंतरराष्ट्रीय कानून के

अनुरूप अंतरिक्ष में हथियार तैनात करने का कोई इरादा नहीं है।

नाटो अब इस तैयारी में जुटा क्योंकि अन्य काफी आगे निकले

रुस और अमेरिका ने काफी पहले से ही इस अंतरिक्ष सुरक्षा पर काम किया है। यहां तक

कि भारत भी अंतरिक्ष में दुश्मन देश की सैटेलाइट को ध्वस्त करने का सफल परीक्षण

कर चुका है। भावी पीढ़ी की तकनीक को ध्यान में रखते हुए नाटो अब इसकी तैयारियों को

प्रारंभ करने की औपचारिक घोषणा की है।



More from अंतरिक्षMore posts in अंतरिक्ष »
More from बयानMore posts in बयान »
More from रक्षाMore posts in रक्षा »
More from विश्वMore posts in विश्व »

4 Comments

Leave a Reply