fbpx Press "Enter" to skip to content

सीसीएल द्वारा महिला कर्मियों की सुरक्षा हेतु पहल सराहनीय-श्रीमती चंद्रमुखी देवी

  • राष्ट्रीय महिला आयोग की सदस्या ने सीसीएल में बैठक की

  • कन्वेंशन सेंटर में हुई महिला सुरक्षा पर बैठक

  • सीसीएल के वरीय अधिकारी भी हुए शामिल

  • महिला आयोग के निर्देशों का पालन होगा

राष्ट्रीय खबर

रांचीः सीसीएल द्वारा अपने महिला कर्मियों की सुरक्षा के लिए जो उपाय किये गये हैं, वे

निश्चित तौर पर सराहनीय हैं। यह विचार राष्ट्रीय महिला आयोग की सदस्य श्रीमती

चंद्रमुख देवी के हैं। सीसीएल मुख्यालय, रांची स्थित ‘कन्वेंशन सेंटर’ में राष्ट्रीय महिला

आयोग की सदस्य  श्रीमती चंद्रमुखी देवी की अध्य्क्षता में सीसीएल में महिलाओं की

सुरक्षा एवं अन्य संबंधित विषयों पर इंटरनल कमिटी की बैठक का आयोजन किया गया।

बैठक में निदेशक (कार्मिक), सीसीएल विनय रंजन सहित इंटरनल कमिटी के अध्यक्षा

महाप्रबंधक (समाधान सेल/भर्ती) सुश्री रश्मि दयाल, महाप्रबंधक (विधि) पार्थो

भट्टाचार्यजी, महाप्रबंधक (पी. एण्ड आई.आर.) उमेश सिंह, महाप्रबंधक (कोटरे बसंतपूर)

गिरिश राठौर, सीएमएस सीसीएल श्रीमती मंजू मिश्रा, श्रीमती अर्चना सिन्हा, श्रीमती रेखा

पाण्डेय, श्रीमती अनुराधा प्रियदर्शनी एवं अन्य् उपस्थित थे।

सीसीएल द्वारा आयोग के निर्देशों का पूरा पालन किया जाएगा

मुख्य अतिथि श्रीमती चंद्रमुखी देवी ने बैठक को संबोधित करते हुये कहा कि कार्यस्थलों

पर एक बेहतर वातावरण निर्माण करना हम सभी की नैतिक जिम्मे दारी है जिससे सभी

महिलाकर्मी निर्भिक रूप से अपने कार्य निष्पादन कर सकें। उन्होंने सीसीएल द्वारा

महिलाकर्मियों हेतु एक सु‍रक्षित वातावरण बनाने की दिशा में किए गए कार्यों की सराहना

की। उन्होंने सरकार द्वारा महिलाकर्मियों को उनकी समस्याओं के निवारण एवं सुरक्षा

प्रदान करने हेतु उपलब्ध कराये गये विभिन्न व्यवस्थाओं के प्रति जागरूक करने व उसके

प्रचार-प्रसार हेतु आवश्यक कदम उठाने के लिए कहा। निदेशक (कार्मिक) ने कहा कि

सीसीएल प्रबंधन महिला कर्मियों की सुरक्षा के प्रति सदैव संवेदनशील रहा है और इस

दिशा में हर संभव पहल किये गये जिसे भविष्य में भी जारी रखा जाएगा। उन्होंंने सदस्य्

महोदया को आश्वस्त किया कि उनके द्वारा बैठक में दिये गये निर्देशों का शत-प्रतिशत

पालन किया जाएगा। बैठक में महिलाओं को उनके अधिकार हेतु जागरुक करने के लिए

नोटिस बोर्ड, सेमिनार, नुक्कड़ नाटक आदि का प्रयोग करने के निर्देश दिये गये। इंटरनल

कमिटी के एक तिहाई सदस्यों का हर वर्ष पुन: नामंकण करने के साथ-साथ कंपनी

डिजिटल माध्यनम से शिकायत दर्ज उपलब्ध‍ करने पर भी चर्चा की गयी।

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from HomeMore posts in Home »
More from कामMore posts in काम »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from महिलाMore posts in महिला »
More from रांचीMore posts in रांची »

Be First to Comment

... ... ...
%d bloggers like this: