तेलंगाना : पिछड़े मुसलमानों का आरक्षण में हुई बढ़ोतरी, भाजपा ने किया विरोध

पिछड़े मुसलमानों का आरक्षण बढ़ाकर 12% करने को मंजूरी

Spread the love

हैदराबाद : राज्य विधानसभा में पिछड़े मुसलमानों और अनुसूचित जनजाति वर्ग के लिए आरक्षण की सीमा में वृद्धि से संबंधित विधेयक को सर्वसम्मति से पारित कर दिया। इस विधेयक को राज्य के मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव ने अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति आरक्षण विधेयक 2017 पेश किया। ये विधेयक राज्य विधानसभा और विधान परिषद के विशेष संयुक्त सत्र में पेश हुआ। इस विधेयक के तहत पिछड़े वर्ग के मुस्लिमों के कोटे में 12 प्रतिशत की बढ़ोत्तरी हो जाएगी, वहीं एसटी श्रेणी में भी आरक्षण कोटा बढ़कर 10 प्रतिशत हो जाएगा।

विधेयक पारित होने के बाद मीडिया से बातचीत में मुख्यमंत्री राव ने कहा कि राज्य सरकार ने यह आरक्षण केवल सामाजिक-आर्थिक पिछड़ेपन के आधार पर प्रदान करने का निर्णय लिया है। उन्होंने कहा कि ये धर्म या जाति के आधार पर नहीं दिया जा रहा है जैसा कि कुछ पार्टियां लोगों को गुमराह करने के लिए कह रहे हैं। इसे ऐतिहासिक दिन बताते हुए राव ने कहा कि तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) ने चुनावों के दौरान पिछड़े वर्ग (ई) और अनुसूचित जनजाति के लिए राज्य में आबादी के आधार पर कोटा बढ़ाने का वादा किया था।

वही विधानसभा में मुस्लिम आरक्षण विधेयक के खिलाफ प्रदर्शन करने वाले भारतीय जनता पार्टी के पांच विधायकों को निलंबित कर दिया गया। जिन भाजपा विधायकों को सदन की कार्यवाही बाधित करने के आरोप में निलंबित किया गया है, इनमें जी.किशन रेड्डी, के. लक्ष्मण, राजा सिंह, एनवीएसएस प्रभाकर और चिंताला रामचंद्रण रेड्डी शामिल है।

You might also like More from author

Comments are closed.

Optimization WordPress Plugins & Solutions by W3 EDGE