कश्मीरियों की सुरक्षा को प्राथमिकता दें राज्य के मुख्यमंत्री :  राजनाथ सिंह

कश्मीरियों को अपनाे भाई समझे देश के युवा

0 491

नई दिल्ली : देश के सभी राज्यों में रहने वाले कश्मीरियों की सुरक्षा सुनिश्चित करने की दिशा में गृह मंत्रालय ने एक दिशा निर्देश जारी किया है। मंत्रालय ने इस दिशा में सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियों से अपने यहां रहने वाले कश्मीरियों को सुरक्षा देने की बात कही है। मंत्रालय का यह फैसला गत बुधवार को राजस्थान के चित्तौड़गढ़ में कश्मीरी छात्रों पर हुए कथित हमले के बाद सामने आया है।

कश्मीरियों की सुरक्षा सुनिश्चित करने की बात करते हुए केन्द्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह मुख्यमंत्रियों से से अपील करते हुए कहा है कि  है कि वे यह सुनिश्चित करें कि उनके राज्य में ऐसी घटनाएं न हों, कश्मीरी भी भारत के ही नागरिक हैं और राष्ट्रीय सुरक्षा में उनका योगदान भी बहुत बड़ा है। साथ ही इस मामले में उन्होंने गृह सचिव से दिशा निर्देश जारी करने को कहा है। मालूम हो कि राजस्थान के चित्तौड़गढ़ में गत बुधवार कश्मीरी छात्रों पर हुए कथित हमले के बाद राजनाथ सिंह ने यह बात कही है। गृहमंत्री ने कहा कि उन्हें गरूवार रात इस बारे में जानकारी मिली कि भारत के एक दो हिस्सों में कश्मीरी युवाओं के साथ लोगों ने बदसलूकी की है। रिपोर्ट के मुताबिक उत्तरप्रदेश और राजस्थान में कश्मीरी छात्रों को प्रताड़ित किया गया है।

देश के सभी युवाओं से अपील करते हुए केन्द्रीय गृह मंत्री ने कहा कि कश्मीरियों को वे अपना भाई समझें। वे भी भारतीय नागरिक हैं और इस परिवार का हिस्सा हैं। गौरतलब है कि चितौड़गढ़ की मेवाड़ यूनिवर्सिटी में छह कश्मीरी छात्रों को कथित तौर पर पीटा गया था। पुलिस का कहना है कि इस हिंसा के पीछे की वजह का पता नहीं चल पाया है। हमले में छात्रों को हल्की चोटें आई हैं और उन्हें अस्पताल से छुट्टी मिल गई है।

उधर यूपी के मेरठ में मेडिकल कॉलेज के बाहर लगाया गया एक पोस्टर फेसबुक पर चक्कर लगा रहा है जिसमें ‘कश्मीरियों उत्तरप्रदेश छोड़ो’ लिखा हुआ है। बताया जा रहा है कि यह पोस्टर एक स्थानीय नेता द्वारा लगाया गया है जिसका किसी पार्टी से कोई लेना देना नहीं है। अमित जॉनी नाम का यह शख्स खुद को उत्तरप्रदेश नवनिर्माण सेना का सदस्य बताता है और इससे पहले उसने मायावती की मूर्ति तोड़ने और कन्हैया को मारने की घोषणा करके भी ध्यान बटोरने की कोशिश की है। यह पोस्टर शुभार्थी मेडिकल कॉलेज के बाहर  लगाया गया है जहां कई कश्मीरी छात्र पढ़ते हैं।

You might also like More from author

Comments

Loading...