कांग्रेस को झटका, मणिपुर में पार्टी के चार विधायक भाजपा में शामिल

गुरूवार को ही थी राहुल गांधी ने क्षेत्र की मजबूती के लिए बैठक

0 1,807

नई दिल्ली :  लगातार विधानसभा चुनाव में हार का सामना कर रही कांग्रेस पार्टी को शुक्रवार को एक और झटका लगा है। उत्तर पूर्वी राज्य मणिपुर में पार्टी के चार विधायक भाजपा में शामिल हो गए है। वो भी तब जब कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने गुरूवार को उत्तर पूर्वी राज्यों के लिए पार्टी समन्वय समिति की बैठक की अध्यक्षता की थी। सबसे मजेदार बात यह की है कि दिलचस्प पहलू ये है कि राहुल गांधी ने समन्वय समिति की बैठक उत्तर पूर्वी राज्यों में पार्टी को मजबूत करने के उपायों पर विचार के लिए बुलाई थी। पाला बदलने वाले विधायकों में वाई सुरचंद्रा, नगाम्थांग हाओकिप, ओ लुखोई और एस बीरा. शामिल है। इन विधायकों को मुख्यमंत्री एन बीरेन सिंह और भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष के भाबानदा की उपस्थिति में पार्टी में शामिल किया गया। इस दौरान उत्तर पूर्व मामलों के प्रभारी राम माधव और नॉर्थ ईस्ट डेमोक्रेटिक अलायंस के संयोजक हिमंता बिस्वासर्मा भी मौजूद रहे।

कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी पर निशाना साधते हुए हिमंता बिस्वासर्मा ने कहा, ‘राहुल गांधी ने गुरूवार को ही अपनी पार्टी के नेताओं के साथ उत्तर पूर्व में कांग्रेस को मजबूत बनाने के लिए बैठक की थी और आज उनके चार विधायक भाजपा में शामिल हो गए। ये अपने आप में दिखाता है कि राहुल जी यहां कांग्रेस की ओर आगे प्रगति नहीं दिखा सकते। बिस्वासर्मा ने कहा कि हम कांग्रेस मुक्त उत्तर पूर्व के लिए काम कर रहे हैंऱ। हमने असम, अरुणाचल और मणिपुर में कामयाबी पाई है और अब हम मेघालय और त्रिपुरा में काम कर रहे हैं।

मालूम हो कि मणिपुर विधानसभा चुनाव के बाद कांग्रेस विधायक टी श्याम कुमार ने पाला बदल कर भाजपा में शामिल हो गए थे। बदले में भाजपा ने उन्हें कैबिनेट मंत्री का पद दिया था। 60 सदस्यीय मणिपुर विधानसभा के हाल में सपंन्न चुनाव में कांग्रेस 28 सीट जीत कर सबसे बड़ी पार्टी के तौर पर उभरी थी। सरकार बनाने के लिए 31 के बहुमत से कांग्रेस 3 सीट दूर रही। भाजपा ने इस चुनाव में 21 सीट जीती थीं। फिर भी भाजपा ने एनपीपी और एनपीएफ जैसी क्षेत्रीय पार्टियों के समर्थन से मणिपुर में अपनी सरकार बनाने में सफल रही।

You might also like More from author

Comments

Loading...