fbpx

वैश्विक लोकप्रियता में भारतीय प्रधानमंत्री अब भी सबसे ऊपर कायम

वैश्विक लोकप्रियता में भारतीय प्रधानमंत्री अब भी सबसे ऊपर कायम
  • लोकप्रियता में कमी के बाद भी मोदी सबसे शीर्ष पर
राष्ट्रीय खबर

नईदिल्लीः वैश्विक लोकप्रियता के मामले में भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अब भी शीर्ष

पर बने हुए हैं। कल जारी हुए इस वैश्विक सर्वेक्षण आंकड़े यही बता रहे हैं। वैसे इस दौरान

सर्वेक्षण से साफ हो गया है कि कोरोना से निपटने में अनेक नेता जनता की नजरों में पूरी

तरह खरे नहीं उतरे हैं। इसी वजह से उनकी लोकप्रियता का ग्राफ भी नीचे आया है।

भारतीय प्रधानमंत्री की बात करें तो उनकी लोकप्रियता भी 75 से घटकर 66 प्रतिशत पर

आ गयी है। इसके बाद भी वह वैश्विक लोकप्रियता में शीर्ष पर बने हुए हैं। वैश्विक सर्वेक्षण

के आंकड़े बताते हैं कि दो और तीन मई 2020 को श्री मोदी की लोकप्रियता 84 प्रतिशत

थी। लेकिन अब कोरोना महामारी के दौरान जो कुछ भी हुआ है, उससे यह लोकप्रियता

तेजी से कम हुई है।

अमेरिकन डाटा इंटैलिजेंस द्वारा कराये गये इस वार्षिक सर्वेक्षण के आंकड़ों को 17 जून

को जारी कर दिया गया है। इस सर्वेक्षण को दुनिया के 13 देशों में किया गया ता। इनमें

अमेरिका, रुस, फ्रांस और जर्मनी भी शामिल थे। इस लोकप्रियता सूची में इटली के

प्रधानमंत्री मारियो ड्रागी 65 प्रतिशत के साथ दूसरे नंबर पर है। उनके बाद मैक्सिको के

प्रेसिडेंट आंद्रेज मैनूएल लोपेज ओबराडोर को 63 प्रतिशत मिले हैं। इसी वर्ष अमेरिका में

राष्ट्रपति बने जो बिडेन की लोकप्रियता महज 53 प्रतिशत है जबकि इस वैश्विक सूची में

उनके ऊपर ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री स्कॉट मॉरिसन (54 प्रतिशत) जर्मनी की चांसलर

एंजेला मर्केल (53 प्रतिशत) हैं।

वैश्विक लोकप्रियता का रिपोर्ट 17 जून को जारी किया गया

सर्वेक्षण का निष्कर्ष है कि तमाम ऐसे वैश्विक नेताओं की लोकप्रियता पर कोरोना

महामारी का जबर्दस्त प्रभाव पड़ा है। इससे निपटने में नेताओं की भूमिका और काम करने

के आधार पर ही लोगों ने उनका मूल्यांकन किया है। वैश्विक लोकप्रियता सूची में कनाडा

के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडे (48 प्रतिशत), ब्रिटेन के बॉरिस जॉनसन ( 44 प्रतिशत), दक्षिण

कोरिया के प्रेसिडेंट मून जे इन (37 प्रतिशत), स्पेन के प्रधानमंत्री पेड्रो सांचेज (36

प्रतिशत), ब्राजिल के राष्ट्रपति जॉयर बोलसोनारो ( 35 प्रतिशत) हैं। रिपोर्ट के मुताबिक

इस सर्वेक्षण के लिए भारत से 2126 लोगों से उनके मत लिये गये थे। यह पूरा सर्वेक्षण

ऑनलाइन था और लोगों ने इस दौरान पूछे गये प्रश्नों के आधार पर यह लोकप्रियता का

निष्कर्ष निकाला गया है।

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
Rkhabar

Rkhabar

... ... ...
error: Content is protected !!
%d bloggers like this: