fbpx Press "Enter" to skip to content

ननकाना साहिब पर हंगामे का मुख्य अभियुक्त हिरासत में

  • पूरी दुनिया ने देखा था गुरुद्वारा में हंगामे की घटना

  • पाकिस्तान पर आर्थिक प्रतिबंध का मामला गरमाया

  • सरकार ने गिरफ्तारी के बाद अभियुक्त की तस्वीर जारी की

रासबिहारी

नईदिल्लीः ननकाना साहिब पर हमला और वहां मौजूद सिक्ख तीर्थयात्रियों

के साथ अभद्र व्यवहार करने के आरोपी भीड़ के मुख्य अभियुक्त को

पाकिस्तान पुलिस ने हिरासत में ले लिया है। उनके खिलाफ आतंकवादी

विरोधी कानून की धाराएं लगायी गयी हैं। गुरुद्वारा ननकाना साहिब में

हुए इस हमले की घटना को पूरी दुनिया ने देखा है। साथ ही आतंकवादियों

की मदद एवं अल्पसंख्यकों को उत्पीड़न का आरोप झेल रहे पाकिस्तान

सरकार की इस घटना ने अंतर्राष्ट्रीय परेशानियां बढ़ा दी हैं। समझा जाता

है कि अंतर्राष्ट्रीय आर्थिक प्रतिबंध के खतरे को भांपते हुए पाकिस्तान

ने आनन फानन में ऐसी कार्रवाई की है।

सिक्खो के इस प्रमुख तीर्थस्थल को गुरु नानक देव की जन्मस्थल के तौर

पर जाना जाता है। अभी हाल ही में एक उग्र भीड़ ने इस गुरुद्वारा पर हमला

कर रोड़ेबाजी की थी। टीवी की मौजूदगी में उग्र भीड़ में मौजूद लोगों ने इसे

अपने कब्जे में लेकर इस धर्मस्थान का नाम बदलते हुए तमाम सिक्खों को

यहां से भगा देने की बात कही थी। स्थिति अत्यंत विकट और संघर्षपूर्ण होने

की वजह से पाकिस्तान की पुलिस ने काफी सावधानी से वहां कार्रवाई की।

उग्र भीड़ को धीरे धीरे वहां से हटाने के बाद गुरुद्वारा को फिर से खाली कराया

गया था। सब कुछ शांत होने के बाद अब इस घटना के लिए मुख्य तौर पर

जिम्मेदार समझे गये व्यक्ति को आतंकवाद विरोधी कानून के तहत

गिरफ्तार कर लिया गया है।

ननकाना साहिब के घटना के लिए इमरान गिरफ्तार

जिस व्यक्ति को इस मामले में पकड़ा गया है वह स्थानीय है और उसका नाम

भी इमरान है। उसे ही इस घटना के लिए मुख्य तौर पर जिम्मेदार माना गया

है। ननकाना पुलिस थाना में जिन धाराओं में यह मामला दर्ज किया गया है,

उसमें आतंकवाद विरोधी कानून भी दर्ज किया गया है। पाकिस्तान की पंजाब

सरकार की तरफ से इस बारे में जो घोषणा की गयी है, उसमें संबंधित व्यक्ति

को हिरासत में बंद भी दिखाया गया है। इस मामले में पाकिस्तान सरकार ने

स्पष्ट कर दिया है कि आतंकवाद विरोधी कानून यानी वहां की एटीए की धारा

7 जमानत योग्य नहीं है।

इस घटना के बाद पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने भी अपनी चुप्पी

तोड़ते हुए ननकाना साहिब पर हुए इस हमले की निंदा की है। उन्होंने कहा है

कि इस किस्म की कार्रवाई के विरुद्ध उनकी सरकार का रवैया जीरो टॉलरेंस

का रहेगा। किसी को इस किस्म की आतंकवादी गतिविधियों की कोई छूट

नहीं दी जाएगी। उल्लेखनीय है कि इस घटना के बाद नईदिल्ली में भी

पाकिस्तानी दूतावास के बाहर कई संगठनों ने प्रदर्शन किया है। इसके अलावा

भी देश में कई स्थानों पर सिक्ख संगठनों तथा अन्य सामाजिक संगठनों ने

इस घटना के विरोध में प्रदर्शन किये हैं। देश में गुरुद्वारों की देखभाल करने

वाली शीर्ष संस्था शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी (एसजीपीसी) ने भी कहा

है कि इस मामले की जांच के लिए वह अपनी तरफ से चार सदस्यों की टीम

वहां भेजेगी तथा पाकिस्तान सरकार से भी इस बारे में सीधी बात करेगी।

 

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

2 Comments

Leave a Reply