fbpx Press "Enter" to skip to content

नामकुम के चुरणी झरना देखने भी पहुंचने लगी भीड़

नामकुमः नामकुम के चुरणी झरना पर भी अब पर्यटकों की भीड़ इकट्ठी होने लगी है।

सिल्वे पंचायत अंतर्गत करमा डिपा स्थित चुरणी जलप्रपात को देखने की जिज्ञासा अब

बढ़ने लगी है। अब तक यहाँ आस पास के ग्रामीण ही पहुंचते थे किंतु राष्ट्रीय खबर में इस

जलप्रपात से सम्बंधित खबर प्रकाशित होने के पश्चात आस पास के अलावा झारखंड के

अन्य जिलों से भी पर्यटकों का आवागमन शुरू हो गई। बता दें कि जंगल के बीच ये

जलप्रपात का दृश्य मन मोहनेवाला है। गांव के लोग इसे चुरणी जलप्रपात के नाम से

जानते हैं। पर्यटन के अपार सम्भावनाओं के बीच इस स्थान को भी खूबसूरत रमणीक

स्थल में शूमार किया जा सकता है। इसे बेहतर ढंग से विकसित कर इसकी खूबसूरती को

निखारा जा सकता है। क्षेत्रीय निवासी व समाज सेवी मुकेश महतो का कहना है कि ये

जलप्रपात राँची से काफी नजदीक है। ऐसे में हुंडरू व जोन्हा पहुंचने वाले पर्यटकों के लिए

इस जलप्रपात पहुंचना आसान होगा। प्राकृतिक के आंचल में पल्लवित ये झरना खूबसूरत

व बेहद आकर्षक है। यह जगह वनक्षेत्र में है चारों तरफ ऊँची क्षेत्र व हरियाली से घिरा हुआ।

इस सुरम्य ऊँचाई से गिरता निर्मल पानी जो आह्लादित और अभिभूत करता है। इस

जलप्रपात को लेकर ग्रामीणों में भी जागरूकता आई है। कुछ दिन पूर्व यहां किसी तरह का

चहल कदमी नहीं था किन्तु पत्राचार के पश्चात काफी बदलाव आना शुरू हो गया है ।

नामकुम के चुरणी झरना के लिए बांस का बैरियर लगाया

किरण महिला समिति के सदस्यों ने एक कमिटी गठित कर जलप्रपात प्रवेश द्वार में

अपने खर्चे से बांस के बैरियर लगा दिए हैं। झूगी झोपड़ी बना कर दुकाने खोली गई आने

जाने वाले पर्यटकों को पार्किंग के लिये भी व्यवस्था दी गई है। इससे लोगों को कुछ

आमदनी हो रही है । महिला समिति के अध्यक्ष किरण देवी ने कहा की पार्किंग से जो भी

आमदनी आता है उससे हम सब ग्रामीण बुजुर्गों को खाने पीने का व्यवस्था प्रदान करतें है

। कमिटी के सदस्य महाबीर महतो ने बताया कि रोजाना लगभग हजारों की संख्या में

पर्यटक यहाँ घूमने आतें हैं किंतु प्रशासनिक व्यवस्था नहीं होने से हमेशा भय बना रहता

है। सिर्फ सुरक्षा की भावना को बेहतर कर यहां अनेक पर्यटकों को लाया जा सकता है।

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from पर्यटन और यात्राMore posts in पर्यटन और यात्रा »
More from पर्यावरणMore posts in पर्यावरण »
More from रांचीMore posts in रांची »

Be First to Comment

Leave a Reply

error: Content is protected !!