fbpx Press "Enter" to skip to content

नागा लोग कुत्ते का मांस खा सकते हैं कोरोना के कारण लगी थी रोक

  • कुत्तों को बोरो में भरकर तस्करी जारी है

  • पड़ोसी राज्यों में ऐसी तस्करी का धंधा

  • कोरोना के वक्त इस पर प्रतिबंध लगा था

भूपेन गोस्वामी

गुवाहाटी: नागा लोग कुत्ते का मांस खा सकते हैं। गुवाहाटी उच्च न्यायालय की कोहिमा

पीठ ने बाजारों और रेस्तरां में कुत्ते के मांस के व्यावसायिक आयात और व्यापार पर

प्रतिबंध लगाने के नागालैंड सरकार के आदेश पर रोक लगा दी है। मामले में राज्य सरकार

द्वारा जवाब दाखिल करने में विफल रहने के बाद अदालत ने 25 नवंबर को अंतरिम रोक

जारी की थी। .न्यायमूर्ति एस हुकाटो स्वू की अध्यक्षता वाली पीठ ने यह कहते हुए आदेश

सुनाया कि केस की अगली तारीख तक 4 जुलाई, 2020 तक लगाए गए आदेश पर रोक

लगाई जा सकती है । कोर्ट ने राज्य के याचिकाकर्ताओं को अपना हलफनामा दाखिल

करने का निर्देश दिया और मामले को शीतकालीन अवकाश के बाद सूचीबद्ध किया जाना

है। बता दें कि नागालैंड में मांस के लिए कुत्तों की बिक्री पर प्रतिबंध 4 जुलाई को लागू हो

गया जब राज्य मंत्रिमंडल ने कुत्तों के दोनों पके हुए और बिना पके हुए मांस का

व्यावसायिक आयात और व्यापार पर रोक लगा दी थी, साथ ही कुत्ते के बाजारों और कुत्ते

के मांस की बिक्री पर प्रतिबंध लगाने का फैसला किया। राज्य के संसदीय मामलों के मंत्री

एन. क्रोनू ने बताया कि कुत्तों के वाणिज्यिक आयात और व्यापार पर और कुत्ते के मांस

की बिक्री पर प्रतिबंध लगाने का निर्णय राज्य मंत्रिमंडल की बैठक में लिया गए थे। यहाँ

उल्लेख है कि,पिछले कुछ दिनों से लगातार नागालैंड में कुत्तों के मांस के लिए बड़े पैमाने

पर कुत्तों की अवैध रूप से तस्करी की जा रही थी। कुत्तों को बोरो में भरकर तस्करी को

अंजाम दिया जा रहा था। सोशल मीडिया में इससे संबंधित फोटो जमकर वायरल हुई।

नागा लोग तक हो रही तस्करी की तस्वीर सोशल मीडिया में वायरल

इसके बाद से ही इस मामले ने तूल पकड़ लिया। ट्विटर पर पोस्ट किए गए एक पोस्ट के

मुताबिक कुत्तों को कथित तौर पर पश्चिम बंगाल और असम की राज्य सीमाओं से

नागालैंड में अवैध रूप से ले जाया जा रहा था। भी सोशल मीडिया पर वायरल हो रही हैं,

जिसमें कुत्तों का मुंह रस्सी से बंधा हुआ और उनका शरीर बोरे में बंद दिखाई दे रहा है।

इस फोटो को शेयर करते हुए एक ट्विटर यूजर ने लिखा है- ‘इन कुत्तों को पिछले महीने

की 26 तारीख को पश्चिम बंगाल से नागालैंड ले जाया जा रहा था ताकि इन्हें मांस के लिए

बेचा जा सके। सोशल मीडिया में बवाल होने के बाद अब इस राज्य सरकार ने कुत्तों के

मांस की बिक्री पर रोक लगाई थे ।स कदम ने नागा लोगों की मिश्रित प्रतिक्रियाओं को

रोक दिया था। हालांकि, ऐसे कई नागा हैं, जो कुत्ते के मांस का सेवन नहीं करते हैं, इसे

नागों और इस क्षेत्र के कुछ अन्य समुदायों के लिए काफी महत्वपूर्ण माना जाता है। माना

जाता है कि कुत्ते के मांस का एक अलग ही औषधीय महत्व भी है।प्रतिबंध के संबंध में

कानूनी आधार और अधिकार क्षेत्र को चुनौती देते हुए कोहिमा नगर परिषद के तहत

लाइसेंस प्राप्त व्यापारियों द्वारा कुत्तों को आयात करने और कुत्ते का मांस बेचने के लिए

एक याचिका दायर की गई थी। याचिकाकर्ताओं का विचार है कि अधिसूचना को खाद्य

सुरक्षा अधिनियम पर गलत तरीके से व्याख्या और भरोसा किया गया है।

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from अदालतMore posts in अदालत »
More from कोरोनाMore posts in कोरोना »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »

2 Comments

Leave a Reply

... ... ...
%d bloggers like this: