fbpx Press "Enter" to skip to content

मशरूम की खेती से आत्मनिर्भर बन रहे हैं किसानः पद्मश्री सिमोन उरांव







बेड़ोः मशरूम की खेती अब किसानों के काम आ रही है। इसके जरिए किसान स्वरोजगार के तहत आत्मनिर्भर बन रहे

हैं। उक्त बातें खेल गांव के इंडोर स्टेडियम रांची में एमपीजी ई बिजनेस का प्रथम नेशनल कॉन्वेंट के तहत रविवार को

आयोजित मशरूम का महामेला कार्यक्रम के दौरान बतौर मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित पद्मश्री सिमोन उरांव ने

कही।

उन्होंने मशरूम महामेला कार्यक्रम का संयुक्त रूप से विशिष्ट अतिथि मिस इंडिया के प्रथम रनर गुरवीर कौर और

पद्मश्री मुकुंद नायक के साथ मिलकर कार्यक्रम का दीप प्रज्वलित कर उद्घाटन किया।

इस दौरान पद्मश्री सिमोन उरांव ने कहा कि सरकार के वादों को एमपीजी ई बिजनेस परिवार पूरा कर रहा है।

आज पूरे राज्य में 10 हजार से अधिक किसान मशरूम की खेती कर अपना आय दोगुनी कर रहे हैं।

पद्मश्री उरांव ने मशरूम महामेला में आए हुए लोगों से कहा कि किसानों के लिए वरदान बनकर मशरूम आया है।

यहां के किसान कम मेहनत कर अधिक कमा रहे हैं। मशरूम महामेला कार्यक्रम के दौरान मिस इंडिया गुरवीर कौर

ने कहा कि किसान मशरूम की खेती कर खुशहाल हैं वही मशरूम की सही सेवन से कई परिवार भी खुशहाल है।

उन्होंने कहा कि मशरूम का सेवन करने से कई बीमारियों से छुटकारा मिलती है।

मशरूम महामेला में झारखंड, उड़ीसा, बंगाल व छत्तीसगढ़ समेत कई राज्यों से लगभग 10000 से अधिक किसान

भाग लिए। मशरूम महामेला कार्यक्रम के दौरान पद्मश्री मुकुंद नायकए आधुनिक नागपुरी के सुपरस्टार

पवन राय समेत कई कलाकारों ने मशरूम महामेला में कई कार्यक्रम आयोजित किए।

मशरूम की खेती पर एमपीजी ई बिजनेस ने अपनी गतिविधियों पर प्रकाश डाला

इस दौरान एमपीजी ई बिजनेस के सीईओ दिलीप प्रसाद नोनिया मशरूम महामेला में आए हुए किसानों को

संबोधित करते हुए कहां कि किसान को मशरूम की खेती के बाद बेचने के लिए दर.दर भटकना नहीं पड़ता है।

बल्कि कंपनी के द्वारा ही किसानों से उचित मूल्य देकर मशरूम खरीदी जाती है।

जिससे किसानों को बाजार में मशरूम को बेचने की जरूरत नहीं पड़ती है।

वही मशरूम महामेला को संचालित करते हुए मार्केटिंग डायरेक्टर पंकज कुमार ने कहा कि 5 हजार की लागत में

किसानों को 90 दिनों में मशरूम की खेती से पूरे 30 हजार रुपये की कमाई होती है।

मशरूम का खेती कर प्रत्येक परिवार खुशहाल है। मशरूम महामेला को सफल बनाने में फाइनेंसियल डायरेक्टर

सीमा देवांगन, मैनेजिंग डायरेक्टर चंदन चटर्जी, शंकर लोहरा, संतोष लोहरा, राजेश ओहदार समेत

कई लोगों ने सराहनीय योगदान दिया।



Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

2 Comments

Leave a Reply

Mission News Theme by Compete Themes.