fbpx Press "Enter" to skip to content

मुंगेर पुलिस प्रशासन के खिलाफ लोगों का गुस्सा फूटा

  • थानों पर हमला और कई गाड़ियां जला दी

  • चुनाव आयोग की निष्पक्षता पर उठे सवाल

  • दुर्गापूजा विसर्जन में गोली से मरा था युवक

  • इलाके में हिंसा और आगजनी के बाद तनाव

दीपक नौरंगी

भागलपुरः मुंगेर पुलिस प्रशासन के खिलाफ आम जनता का गुस्सा अब हिंसक होकर

विस्फोट कर गया। राष्ट्रीय खबर ने पहले ही वहां की एसपी लिपि सिंह के खिलाफ चुनाव

आयोग द्वारा कार्रवाई नहीं किये जाने को लेकर सवाल खड़े किये थे। आज जनता भी इसी

बात पर सड़कों पर आयी।

देखें इससे संबंधित तस्वीर और वीडियो

अचानक हिंसक हुई भीड़ ने कई थानों पर हमला किया है। सोशल मीडिया में वायरल हो

रही तस्वीरों और वीडियों से साफ पता चलता है कि वहां कई वाहन भी जलाये गये है।

गोलीचालन में मारे गये युवक अनुराग के हत्यारों को दंड देने की मांग पर जनता न सिर्फ

सड़कों पर है बल्कि विभिन्न चौक चौराहों पर इसके समर्थन में जबर्दस्त नारेबाजी भी चल

रही है।

स्थानीय जनता वहां की एसपी लिपि सिंह की भूमिका को लेकर घटना के दिन से ही

असंतुष्ट थी। इस बीच जनता को उम्मीद थी कि चुनाव आयोग के अधीन सरकार होने की

वजह से चुनाव आयोग के स्तर पर कार्रवाई की जाएगी। दरअसल बिहार के मुख्यमंत्री

नीतीश कुमार के करीबी नेता की पुत्री होने की वजह से भी लिपि सिंह आरोपों से घिरी हुई

थी। इससे पहले जब वह बाढ़ में एएसपी थी, तब भी चुनाव आयोग ने चुनाव के दौरान

उन्हें हटा दिया था। लिहाजा विभागीय अधिकारी भी यह मान रहे थे कि चुनाव आयोग इस

बार भी कुछ वैसा ही फैसला लेगा। प्रचलित परंपरा के मुताबिक चुनाव कार्य से एक बार

अलग किये गये अफसर को हर चुनाव में चुनाव से जुड़े कार्यों से हटा दिया जाता है।

मुंगेर पुलिस एसपी के खिलाफ बना हुआ था माहौल

विलंब से फैसला लेने की वजह से चुनाव आयोग भी विवादों मेंलेकिन इस बार लिपि सिंह के मामले में चुनाव आयोग ने ऐसा कुछ नहीं किया। इस वजह

से आज जनता भड़क उठी। मिली जानकारी के मुताबिक मुंगेर में यह आंदोलन ही एसपी

लिपि सिंह के खिलाफ है। सूचना के मुताबिक मुंगेर के सरायपुर थाने के बाहर में गाड़ी में

आग लगाई गई है। अपुष्ट जानकारी के मुताबिक वहां के पुलिस ऑफिस में भी तोड़फोड़

की सूचना मिल रही है।

हिंसा के बाद हटाये गये डीएम और एसपी

प्रशासनिक सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक चुनाव आयोग ने घटना की जानकारी

मिलने के बाद चुनाव आयोग ने एसपी और डीएम को हटा दिया है। लेकिन औपचारिक

तौर पर अब तक इसकी पुष्टि नहीं की गयी है। बिहार निर्वाचन आयोग ने कड़ी कार्रवाई

करते हुए मुंगेर की एसपी लिपि सिंह और डीएम राजेश मीणा को तत्काल प्रभाव से हटाने

का आदेश जारी किया है। निर्वाचन आयोग ने यह फैसला मुंगेर में लगातार भड़क रही

हिंसा के बाद लिया है। इस घटना के बाद निर्वाचन आयोग ने पूरे मामले की जांच के भी

आदेश दिए हैं। मगध प्रमंडल के आयुक्त घटना की गहनता से जांच करेंगे। निर्वाचन

आयोग ने उन्हें 07 दिनों के भीतर जांच प्रतिवेदन समर्पित करने को कहा है।


 

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from HomeMore posts in Home »
More from अपराधMore posts in अपराध »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from बिहारMore posts in बिहार »
More from बिहार विधानसभा चुनाव 2020More posts in बिहार विधानसभा चुनाव 2020 »
More from विधि व्यवस्थाMore posts in विधि व्यवस्था »
More from वीडियोMore posts in वीडियो »

Be First to Comment

Leave a Reply

... ... ...
%d bloggers like this: