fbpx Press "Enter" to skip to content

मुंबई पुलिस ने वरीय आईपीएस रश्मि शुक्ला को समन भेजा

  • स्टेट इंटैलिजेंस कमिशनर थी वह अधिकारी

  • देवेंद्र फडणवीस को गोपनीय सूचनाएं दी थी

  • परमवीर सिंह मामले की जांच में नये नाम भी

  • अधिकारियों की राजनीतिक निष्ठा पर से पर्दा उठने लगा

राष्ट्रीय खबर

मुंबईः मुंबई पुलिस ने अपने ही एक वरीय आईपीएस अधिकारी को भी समन भेजा है।

रश्मि शुक्ला नामक यह अधिकारी वर्तमान में सीआरपीएफ में केंद्रीय प्रतिनियुक्ति पर हैं।

1988 बैच की इस अधिकारी को नई सरकार के आने के बाद शंटिंग में भेज दिया गया था।

उसके बाद ही वह केंद्रीय प्रतिनियुक्ति पर चली गयी थी। अब परमवीर सिंह प्रकरण की

जांच के क्रम में यह राज भी खुलता हुआ दिख रहा है कि रश्मि शुक्ला भाजपा सरकार में

काफी करीबी रही हैं और शायद अपने स्टेट इंटैलिजेंस कमिशनर के पद पर रहते हुए

उन्होंने पुलिस के फोन टैपिंग के रिकार्ड पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस तक उपलब्ध

कराये थे। कई अत्यंत गोपनीय पुलिस सूचनाओँ के लीक होने के पीछे भी अब रश्मि

शुक्ला को जिम्मेदार मानते हुए उन्होंने यह समन जारी किया गया है। रश्मि शुक्ला को

स्टेट इंटैलिजेंस कमिशनर के पद पर लोगों के फोन टैप करने का अधिकार प्राप्त था।

लेकिन यह सूचनाएं भाजपा नेता और पूर्व मुख्यमंत्री तक पहुंचाने की घटना ने उन्हें

परेशानी में डाल दिया है। परमवीर सिंह मामले की जांच के क्रम में कड़ी से कड़ी जुड़ते हुए

अब अधिकारियों की राजनीतिक निष्ठा के सवाल भी पर्त दर पर्त उजागर होते हुए दिखने

लगे हैं। इस बारे में राज्य के मुख्य सचिव ने भी मामले की जांच कर अपनी रिपोर्ट सरकार

को सौंपी है। इसमें बताया गया है कि पुलिस की गोपनीय सूचना किसी नेता को देकर

उन्होंने गैरकानूनी काम किया है। मुख्य सचिव की रिपोर्ट में कहा गया है कि रश्मि शुक्ला

ने फोन टैप करने के परमिशन लिये थे। लेकिन उन्होंने इसका गलत इस्तेमाल किया है।

इस किस्म की फोन टैपिंग राष्ट्रीय सुरक्षा के मुद्दों अथवा आपराधिक गतिविधियों की

रोकथाम के लिए की जाती है।

मुंबई पुलिस ने मुख्य सचिव की रिपोर्ट पर कार्रवाई की

इसमें राजनीतिक बात चीत अथवा घरेलू विवादों को सुनने का अधिकार नहीं होता है। इस

लिहाज से रश्मि शुक्ला ने अपने अधिकार का गलत इस्तेमाल किया है। मुख्य सचिव की

रिपोर्ट के आधार पर अब राज्य सीआइडी ने मुंबई साइबर पुलिस स्टेशन में एक प्राथमिकी

दर्ज करायी है। इसमें सरकारी गोपनीयता कानून का उल्लंघन करने के आरोप में 88 बैच

की आईपीएस अधिकारी शुक्ला को भी समन भेजा गया है। चर्चा है कि देवेंद्र फडणवीस ने

जिन अधिकारियों से सूचना मिलने का जिक्र किया है, उन्हें भी पूछताछ के लिए बुलाया

जाएगा। साथ ही अपने बयान की वजह से खुद देवेंद्र फडणवीस को भी बयान दर्ज कराने

के लिए बाद में बुलाया जा सकता है।

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from HomeMore posts in Home »
More from एक्सक्लूसिवMore posts in एक्सक्लूसिव »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from महाराष्ट्रMore posts in महाराष्ट्र »
More from राजनीतिMore posts in राजनीति »
More from साइबरMore posts in साइबर »

Be First to Comment

... ... ...
error: Content is protected !!
%d bloggers like this: