fbpx Press "Enter" to skip to content

हेमंत के खिलाफ आयशा खान मामले में पुलिस ने दायर की क्लोजर रिपोर्ट

  • अगली सुनवाई अब आगामी तीन मार्च को

  • राजनीतिक तौर पर चर्चित रहा था मामला

  • याचिकादाता के वकील कोरोना पॉजिटिव

  • मॉडल ने बाद में अपना बयान भी बदला था

राष्ट्रीय खबर

रांची: हेमंत के खिलाफ मॉडल द्वारा दायर मामले पर मुंबई की पुलिस ने अब अदालत में

मामला बंद करने का रिपोर्ट दाखिल किया है। जाहिर है कि मुंबई पुलिस की इस कार्रवाई

से झारखंड भाजपा द्वारा हेमंत सोरेन पर हो रहे हमले में अब नये तीर नहीं बचेंगे वरना

इस मुद्दे को लेकर भाजपा ने हमला करने और बाद में मॉडल के बयान बदल देने के मामले

में प्याली में तूफान खड़ी करने में कोई कसर नहीं छोड़ी थी। वैसे मुंबई पुलिस द्वारा अपनी

तरफ से क्लोजर रिपोर्ट दाखिल किये जाने के बाद अब बंबई हाईकोर्ट में चल रहा मामला

अगली सुनवाई में अंतिम रुप से निष्पादित हो सकता है। झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत

सोरेन के खिलाफ बंबई हाईकोर्ट में चल रहे मुकदमे की सुनवाई के लिए बंबई हाईकोर्ट ने

आगामी 3 मार्च की तारीख निर्धारित की है। गुरुवार को हुई सुनवाई के दौरान पुलिस ने

मामले में सीलबंद क्लोजर रिपोर्ट अदालत में दायर कर दिया है। पिछली सुनवाई के

दौरान सरकारी अधिवक्ता ने क्लोजर रिपोर्ट जमा करने के लिए समय मांगा था। वहीं

उच्च न्यायालय में दो हस्तक्षेप याचिकाएं दायर कर मामले में उनका पक्ष सुने जाने का

अनुरोध किया गया था। न्यायमूर्ति एसएस शिंदे और न्यायमूर्ति मनीष पिताले की

खंडपीठ अब इस मामले की सुनवाई 3 मार्च को करेगी। इए दाखिल करने वाले प्रार्थी

सुनील तिवारी के मुताबिक उनके अधिवक्ता कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं इसलिए उनकी

तरफ से अदालत से समय दिए जाने का आग्रह किया गया जिसे स्वीकार करते हुए बॉम्बे

हाईकोर्ट ने 3 मार्च को इस मामले की सुनवाई की तिथि निर्धारित की है। एक आवेदन

झारखंड के सुनील तिवारी और दूसरा स्त्री रोशनी ट्रस्ट की तरफ से दायर किया गया है।

दोनों ही आवेदनों में अदालत से आग्रह किया गया है कि महिला को मामला वापस लेने की

इजाजत नहीं दी जाए।

हेमंत के खिलाफ झारखंड भाजपा ने अभियान छेड़ा था

मुंबई की उस मॉडल की तरफ से पहले हेमंत सोरेन पर बलात्कार का आरोप लगाया गया

था। जब यह मामला राजनीतिक तौर पर गरमा गया तो मॉडल की तरफ से एक नहीं दो

बयान भी आये थे। पहली बार उस लड़की ने मामला को आगे नहीं बढ़ाने की बात कही थी।

दूसरी बार इस मामले में उसी मॉडल ने भाजपा के दो नेताओं द्वारा दबाव डालने का गंभीर

आरोप मढ़ दिया था। मॉडल के इस दूसरे बयान के बाद सार्वजनिक तौर पर भाजपा थोड़ी

पीछे हट गयी थी लेकिन गाहे बगाहे इस मुद्दे को लेकर उनकी तरफ से हेमंत सोरेन पर

राजनीतिक हमला जारी रहता था।

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from HomeMore posts in Home »
More from अदालतMore posts in अदालत »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from नेताMore posts in नेता »
More from महाराष्ट्रMore posts in महाराष्ट्र »

Be First to Comment

... ... ...
%d bloggers like this: