fbpx Press "Enter" to skip to content

मुंबई पुलिस कमिशनर का आरोप सरकार को नहीं मीडिया को दिया गया था

  • महाराष्ट्र सरकार ने परमवीर सिंह के खिलाफ जांच के आदेश दिये

  • देशमुख के खिलाफ शिकायत मीडिया में आयी थी

  • सचिन बाझे को इतनी छूट क्यों दी गयी थी

  • सीनियर आईपीएस संजय पांडेय करेंगे जांच

राष्ट्रीय खबर

मुंबईः मुंबई पुलिस कमिशनर ने अपने राज्य के गृह मंत्री अनिल देशमुख पर वसूली के

लिए दबाव बनाने का बड़ा आरोप लगाया था। इससे महाराष्ट्र की राजनीति में भूचाल आ

गया है। अनिल देशमुख के खिलाफ जांच का आदेश होने के बाद उन्होंने अपने पद से

इस्तीफा दे दिया है। दूसरी तरफ मुकेश अंबानी के घर के बाहर गाड़ी में विस्फोटक रखने

के आरोपी पुलिस अधिकारी सचिन बाझे से एनआईए पूछताछ कर रही है। यानी दो केंद्रीय

एजेंसियां आनन फानन में इस मामले में जांच के लिए शामिल कर ली गयी है। इसके बीच

ही महाराष्ट्र सरकार ने अपनी तरफ से भी इस मामले की जांच के आदेश जारी कर दिये हैं।

सरकार यह जांचना चाहती है कि परमवीर सिंह के अधीन काम करते हुए एक छोटा पुलिस

अधिकारी इतना ताकतवार कैसे हो गया और उसने मुकेश अंबानी के घर के पास गाड़ी में

विस्फोटक रखने का काम कैसे किया। सरकार के इस आदेश के तहत वरिष्ठ आईपीएस

अधिकारी संजय पांडेय को जांच की जिम्मेदारी सौंपी गयी है। इसमें खास तौर पर यह भी

जांचा जाएगा कि क्या परमवीर सिंह ने सरकार को घटनाक्रमों की पूरी जानकारी दी थी।

इस पूरे मामले में परमवीर सिंह के भूमिका पर संदेह सिर्फ इस वजह से है क्योंकि उन्होंने

अपने ही विभाग के अन्य अधिकारियो की सलाह को दरकिनार कर सचिन को क्राइम

इंटैलिजेंस यूनिट की जिम्मेदारी क्यों सौपी थी। जिसके बाद सचिन बाझे सीधे परमवीर

सिंह को ही रिपोर्ट किया करता था। इसके अलावा अनिल देशमुख पर वसूली के लिए दबाव

बनाने का आरोप लगाने के मामले में भी परमवीर सिंह ने सरकार को कोई लिखित रिपोर्ट

नहीं दी है।

मुंबई पुलिस कमिशनर ने सरकार को शिकायत नहीं की

उनका यह आरोप सीधे मीडिया के माध्यम से सार्वजनिक हुआ है। सरकार के इस जांच

आदेश के तहत जांच अधिकारी संजय पांडेय को पूरे अधिकार प्रदान किये गये हैं। इसके

तहत वह सभी गवाहों को अपने पास बुलाकर उनका बयान भी रिकार्ड कर सकते हैं। इस

बारे में पूछे जाने पर वरिष्ठ आईपीएस अफसर संजय पांडेय ने कोई औपचारिक बयान देने

से इंकार कर दिया और कहा कि बयान देना उनकी जिम्मेदारियों में शामिल नहीं है।

पांडेय को राज्य का डीजीपी का अतिरिक्त प्रभार सौंपा गया

इस बीच आईपीएस अधिकारियों की अदला बदली में संजय पांडे को राज्य का प्रभारी

डीजीपी बनाया गया है। 1986 बैच के अधिकारी यहां के वरिष्ठतम आईपीएस अधिकारी

है। इसके पहले यह जिम्मेदारी हेमंत नागराले के पास थी, जिन्हे मुंबई का पुलिस

कमिशनर बनाया गया है। उन्हें हटाने के बाद रजनीश सेठ को यह जिम्मेदारी सौंपी गयी

थी। जिस पर नागराले ने कहा था कि वह मुंबई हाई कोर्ट जाएंगे। अब राज्य के सबसे

वरिष्ठ अधिकारी को ही यह जिम्मेदारी सौंप दी गयी है।

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from HomeMore posts in Home »
More from अपराधMore posts in अपराध »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from राज काजMore posts in राज काज »
More from राजनीतिMore posts in राजनीति »

Be First to Comment

... ... ...
error: Content is protected !!
%d bloggers like this: