fbpx Press "Enter" to skip to content

रामगढ़ में विकट परिस्थिति में भी मुक्तिधाम संस्था उपलब्ध करा रहा लकड़ी

  • लकड़ी टालों में पैसे देने के बावजूद नहीं मिल रही है लकड़ियां

  • लोगों को शव जलाने में हो रही काफी परेशानी

रामगढ़ः रामगढ़ में मुक्तिधाम संस्था अपनी सामाजिक जिम्मेदारियों का पूरी मुस्तैदी से

पालन कर रही हैं। झारखंड प्रदेश में पिछले कुछ समय से वैश्विक महामारी कोरोना

वायरस तांडव मचा रखा है। राज्य की राजधानी सहित अन्य निकटवर्ती जिलों में भी

इसका व्यापक असर दिख रहा है। इस बीमारी से मरीजों की तेजी से मौत भी हो रही है।

राजधानी के अलावा अन्य जिलों में भी कोरोना वायरस से लोगों की मौत हो रही है। ऐसी

विकट परिस्थिति में लोगों के सामने कोरोना संक्रमण के शिकार हुए लोगों के शव को

जलाने की समस्या सामने आ रही है। रांची सहित अन्य स्थानों में शव जलाने में काफी

परेशानी हो रही है। झारखंड के कई जिलों में अब तक बिजली संचालित शवदाह ग्रह नहीं

बनाया जा सके हैं। जिसके कारण इन स्थानों पर शव जलाने का एक जरिया लकड़ी ही

बचता है। पिछले कुछ समय से शव जलाने के लिए लकड़ियों की कमी दिखने लगी है।

खासकर राजधानी रांची के निकट स्थित रामगढ़ जिला में भी कोरोना ने विक्राल रूप

धारण कर लिया है। यहां भी कोरोना वायरस से लोगों की मौत होने लगी है।रामगढ़ में

अस्पतालों में बाहर से भी ला कर मरीजों को रखा जा रहा है। यहां बाहर के भी कई मरीजों

की मौत हुई है। जिनका शव रामगढ़ के दामोदर नदी घाट पर जलाया गया है। जानकारों

की माने तो यहां रोजाना लगभग 10 से 12 शव जलाए जा रहे हैं। किसी किसी दिन संख्या

और भी बढ़ जा रही है।जिसके कारण रामगढ में लकड़ी की भारी आवश्यकता महसूस होने

लगी है।

रामगढ़ में दामोदर घाट पर यह संस्था लकड़ी उपलब्ध कराती है

शहर के दामोदर नदी घाट पर मुक्तिधाम संस्था रामगढ़ शव को जलाने के लिए लकड़ी

उपलब्ध कराती है। हालांकि अभी तक मुक्तिधाम संस्था ने लकड़ी की कमी नहीं होने दी

है। लेकिन बीच-बीच में लकड़ी की कमी हो जा रही है। इस संबंध में मुक्तिधाम संस्था के

कमल बगड़िया ने कहा कि हम लोग भरसक प्रयास कर रहे हैं कि लकड़ी की कमी नहीं होने

दी जाए। लकड़ी और ट्रक भाड़ा काफी महंगा हो गया है। जिसके कारण लकड़ी मंगाने में

परेशानी भी हो रही है। इसके बावजूद मुक्तिधाम संस्था ने लकड़ी की कमी नहीं होने दी है।

लकड़ी हमेशा उपलब्ध कराई जा रही है। लावारिस शव आते हैं उनको लकड़ी संस्था के

द्वारा निशुल्क उपलब्ध कराई जा रही है। प्रशासन को लगातार सहयोग किया जा रहा है।

संस्था पूरी तरह सेवा के लिए समर्पित है और सेवा करती रहेगी। संस्था में लगातार

निर्माण कार्य चल रहा है। इससे खूबसूरत बनाने के लिए पूर्ण प्रयास चल रहा है। लोगों का

सहयोग लगातार मिल रहा है। मुक्तिधाम संस्था रामगढ़ 35 सौ रुपए में 4 क्विंटल लकड़ी

उपलब्ध कराती है। हालांकि कई लोग अपने से भी लकड़ी की व्यवस्था कर शव को जलाने

का काम कर रहे हैं।

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from HomeMore posts in Home »
More from कोरोनाMore posts in कोरोना »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from धर्मMore posts in धर्म »
More from रामगढ़More posts in रामगढ़ »

Be First to Comment

... ... ...
error: Content is protected !!
%d bloggers like this: