fbpx Press "Enter" to skip to content

श्रीमती अलका तिवारी ने किया प्लास्टिक वेस्ट मैनेजमेंट कार्यशाला का उद्घाटन

संवाददाता

रांचीः श्रीमती अलका तिवारी ने यहां राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की 150वीं जयंती के अवसर पर

सेंट्रल इंस्टिट्यूट ऑफ़ प्लास्टिक इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी (सिपेट),रांची द्वारा “प्लास्टिक वेस्ट मैनेजमेंट” विषय पर एक दिवसीय कार्यशाला का उदघाटन किया।

कार्यशाला का दीप प्रज्वलित कर विधिवत उद्घाटन मुख्य अतिथि श्रीमती अलका तिवारी, अपर सचिव, रसायन एवं उर्वरक मंत्रालय, केंद्र सरकार ने किया।

इस अवसर पर कार्यशाला को संबोधित करते हुए श्रीमती अलका तिवारी ने कहा कि देश में

सोसाइटी  विकसित हो रही है परंतु गंदगी, पॉल्यूशन से निपटने के लिए साफ सफाई का

उतना ध्यान नहीं रखा जाता है जितना ध्यान लोगों को रखना चाहिए।

उन्होंने कहा कि सिंगल यूज प्लास्टिक और प्लास्टिक के

उपयोग को लेकर लोगों में कोई संदेह अथवा कंफ्यूजन नहीं होना चाहिए।

उन्होंने कहा कि हम लोग जिस सेंट्रल इंस्टिट्यूट ऑफ़ प्लास्टिक इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी (सिपेट),

रांची में है यह संस्थान प्लास्टिक के नवीनतम उपयोग के दिशा में रिसर्च और डेवलपमेंट को प्रमोट करता है।

प्लास्टिक के डिफरेंट यूजर्स होते हैं।

उन्होंने कहा कि वर्तमान समय में छोटे-छोटे सामान जैसे

चम्मच से लेकर हवाई जहाज तक में प्लास्टिक के बने चीजों का विभिन्न उपयोग होता है।

प्लास्टिक के उपयोग को समझना बहुत ही महत्वपूर्ण होता है।

सिंगल यूज़ प्लास्टिक के रीसाइकलिंग रोजगार के अवसर को बढ़ाते हैं।

श्रीमती अलका तिवारी ने कहा कि सिंगल यूज प्लास्टिक वातावरण के लिए खतरा है।

सिंगल यूज़ प्लास्टिक का रीसाइक्लिंग वातावरण प्रदूषण से बचने का बेहतर विकल्प है।

उन्होंने कहा कि सरकार ने सिंगल यूज़ प्लास्टिक का उपयोग के दुष्प्रभावों को लेकर लोगों में जागरूकता फैलाने की कवायद शुरू की है।

आम जनता को सिंगल यूज प्लास्टिक के विकल्प के तौर पर इको फ्रेंडली व्यवस्था मुहैया कराना सरकार की प्राथमिकता है।

सिंगल यूज प्लास्टिक का सबसे अहम पड़ाव उसका रीसाइक्लिंग है।

श्रीमती तिवारी ने कहा आम जनता को जागरूक करना आवश्यक

उन्होंने कहा कि प्लास्टिक की थैलियां, प्याले, प्लेट, छोटी बोतलें, प्लास्टिक पाउच इत्यादि सिंगल यूज प्लास्टिक हैं।

ये दोबारा इस्तेमाल के लायक नहीं होते हैं इसलिए एक बार इस्तेमाल के बाद लोग इन्हें फेंक देते हैं।

श्रीमती तिवारी ने कहा कि जानकारी के अभाव के कारण लोग प्लास्टिक वेस्ट  का

सही उपयोग नहीं कर पा रहे हैं और यह पर्यावरण संतुलन के लिए नकारात्मक प्रभाव बनता जा रहा है।

सिंगल यूज़ प्लास्टिक के उपयोग के संबंध में आम जनता को जागरूक करके ही

पर्यावरण संतुलन को संरक्षित किया जा सकेगा। इस अवसर पर श्रीमती अलका तिवारी ने

राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की प्रतिमा पर श्रद्धा सुमन अर्पित कर उन्हें श्रद्धांजलि दिया।

इस अवसर पर स्वागत भाषण प्रिंसिपल डायरेक्टर सिपेट हेड ऑफिस चेन्नई

श्री आर राजेंद्रन ने दिया। कार्यशाला में डायरेक्टर हेड सिपेट रांची श्री एके राव एवं सौरव इंडस्ट्रीज के

एमडी श्री कमल अग्रवाल ने भी प्लास्टिक वेस्ट मैनेजमेंट पर अपने अपने विचार रखे।

मौके पर सिपेट रांची के सीनियर टेक्निकल ऑफिसर श्री अभित लकड़ा,

बी श्रीकर एवं श्री अभिषेक कुमार बख्शी ने मंच में उपस्थित अतिथियों को सम्मानित किया।

कार्यशाला में स्कूली बच्चों के लिए कई प्रतियोगिता आयोजित की गई।

विजेता प्रतिभागियों को पुरस्कृत भी किया गया। इस अवसर पर सिपेट के अन्य अधिकारी,

कर्मीगण प्रशिक्षणार्थी सहित स्कूली बच्चे बड़ी संख्या में उपस्थित थे।

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

3 Comments

Leave a Reply

Open chat
Powered by