fbpx Press "Enter" to skip to content

देश में पिछले वर्ष 50 लाख से अधिक लोग विस्थापित हुए: संयुक्त राष्ट्र

नयी दिल्लीः देश में पिछले दिनों के बाद फिर से विस्थापन की चर्चा होने लगी है।

कोरोना और अमफान जैसे भीषण चक्रवाती तूफान ‘अम्फान’ के कारण बंगाल और

ओडिशा में काफी संख्या में लोगों के विस्थापन की रिपोर्टों के बीच संयुक्त राष्ट्र की ओर

से जारी रिपोर्ट सामने आई है जिसमें पिछले वर्ष 2019 में देश में प्राकृतिक आपदा, संघर्ष

और हिंसा की घटनाओं की वजह से 50 लाख से अधिक लोगों के आंतरिक रूप से

विस्थापित होने की जानकारी दी गयी है।

संयुक्त राष्ट्र बाल कोष (यूनीसेफ) की ‘लॉस्ट ऐट होम’ शीर्षक वाली रिपोर्ट में बताया गया

है कि पिछले वर्ष समूचे विश्व में विस्थापन के करीब 330 लाख नये मामले दर्ज किये गये।

इनमें लगभग 250 लाख विस्थापन प्राकृतिक आपदा तथा 80।5 लाख मामले संघर्ष और

हिंसा की घटनाओं से जुड़े थे। रिपोर्ट के मुताबिक भारत में 2019 में 50,37,000 आंतरिक

विस्थापन के दर्ज आंकड़ों में 50,18,000 मामले प्राकृतिक आपदा तथा 19,000 मामले

संघर्ष और हिंसा की घटनाओं से जुड़े थे। 

देश में पिछले दिनों के विस्थापन के कारण बताये गये हैं

यूनीसेफ की रिपोर्ट के मुताबिक भारत,  फिलीपींस और चीन प्राकृतिक आपदाओं से बहुत

ज्यादा त्रस्त हैं जिसके कारण लाखों की संख्या में लोगों को विस्थापित किया जाता है। इन

देशों में प्राकृतिक आपदा से विस्थापन के मामले विश्व का 69 प्रतिशत है। देश में पिछले

दिनों के विस्थापन की चर्चा अभी मजदूरों के गांव लौटने की प्रक्रिया के बीच गंभीर संकेत

माना जा रहा है।


 

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Be First to Comment

Leave a Reply

error: Content is protected !!