Press "Enter" to skip to content

पश्चिम बंगाल का अनुभव उत्तरप्रदेश में आजमा रहे हैं मोदी




चुनावी चकल्लस

  • महिला मतदाताओँ पर अलग से दिया गया ध्यान
  • प्रियंका पहले से ही महिलाओं के लिए प्रयासरत
  • किसान आंदोलन ने भी दिखाई है उनकी ताकत
राष्ट्रीय खबर

नईदिल्लीः पश्चिम बंगाल का अनुभव था कि चुनाव प्रचार के दौरान भाजपा नेताओँ की बात-चीत का लहजा वहां की महिलाओं को पसंद नहीं आया था। ममता बनर्जी को मजाक के लहजे में दीदी कहना भाजपा और यहां तक कि नरेंद्र मोदी के लिए भी भारी पड़ गया था।




अब तो कोलकाता नगर निगम के चुनाव परिणाम भी यह बता गये कि वहां की जनता ने भाजपा को अब भी माफ नहीं किया है। ऊपर से जिन विधायकों को बड़ी मुश्किल से जीताकर लाया गया था, उनमें से ढेर सारे फिर से पार्टी छोड़कर तृणमूल कांग्रेस में लौट चुके हैं।

प्रयागराज में एक कार्यक्रम में भाग लेते हुए नरेंद्र मोदी ने इसी पश्चिम बंगाल क अपने कड़वे अनुभव से सीख लेते हुए नई पहल की है। उन्होंने स्वयं सहायता महिला समूहों के लिए सरकारी कोष का मुंह खोला है। साथ ही महिला सशक्तिकरण सम्मेलन को संबोधित करते हुये दावा किया कि केन्द्र सरकार की ओर से शुरु किये गये ‘बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ’ अभियान का ही नतीजा है कि आज देश के तमाम राज्यों में बेटियों की संख्या में बढ़ोतरी हुयी है।

महिलाओं के साथ लगभग आधा घंटे के संवाद के बाद मोदी ने रिमोट का बटन दबा कर प्रयागराज में 202 202 पूरक पोषण निर्माण इकाइयों का शिलान्यास कर महिलाओं द्वारा संचालित 1.60 लाख ‘स्वयं सहायता समूहों’ के बैंक खाते में 1000 करोड़ रुपये की राशि ऑनलाइन ट्रांसफर की। इसके बाद उन्होंने रिमोट का बटन दबाकर ‘कन्या सुमंगला योजना’ के तहत एक लाख एक हजार बेटियों के बैंक खातों में 20 करोड़ रुपये की राशि को भी ऑनलाइन ट्रांसफर किया।

पश्चिम बंगाल में महिलाओं की नाराजगी से नुकसान

उप्र की पिछली सरकार में महिलाओं के असहाय होने का जिक्र करते हुये मोदी ने कहा कि महिलायें उस दौर में ना तो कुछ कह नहीं सकती थीं, ना ही बोल सकती थीं। क्योंकि थाने गईं तो अपराधी या बलात्कारी की सिफरिश में ‘किसी का’ फोन आ जाता था। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री योगी ने इन गुंडों को उनकी सही जगह पहुंचाया है।

उन्होंने दावा किया कि योगी राज में आज महिलाओं की सुरक्षा भी है और उनके अधिकार भी सुरक्षित हैं। उन्होंने कहा कि आज उप्र में महिलाओं के लिये अपार संभावनाएं भी हैं और वे व्यापार भी कर रही हैं।




प्रधानमंत्री ने कहा, उप्र में बिना किसी भेदभाव और बिना किसी पक्षपात के, डबल इंजन की सरकार, बेटियों के भविष्य को सशक्त करने के लिए निरंतर काम कर रही है।’’ इस दौरान उन्होंने देश में लड़कियों की शादी की न्यूनतम उम्र में बदलाव करने के फैसले का भी जिक्र करते हुये कहा कि पहले बेटों के लिए शादी की उम्र कानूनन 21 साल थी, लेकिन बेटियों के लिए ये उम्र 18 साल ही थी।

नारी सशक्तिकरण के बहाने वोट पक्का करने की मुहिम

उन्होंने कहा कि बेटियाँ भी चाहती थीं कि उन्हें उनकी पढ़ाई लिखाई के लिए, आगे बढ़ने के लिए समय मिले, बराबर अवसर मिलें। इसलिए, बेटियों के लिए शादी की उम्र को 21 साल करने का प्रयास किया जा रहा है। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, ‘‘देश ये फैसला बेटियों के लिए कर रहा है, लेकिन किसको इससे तकलीफ हो रही है, ये सब देख रहे हैं।

उन्होंने कहा, ‘‘मुझे पूरा विश्वास है, जब हमारी माताओं बहनों का आशीर्वाद है, इस नये उप्र को कोई वापस अंधेरे में नहीं धकेल सकता है।’’ इससे पहले योगी ने भी जनसभा को संबोधित करते हुये कहा कि आजादी के बाद से ही महिलाओं को अधिकार संपन्न बनाने की बात लगातार हो रही थी।

लेकिन जमीनी स्तर पर इस दिशा में ठोस प्रयास नहीं किये गये। उन्होंने पिछले सात साल में महिला कल्याण के लिये चलायी गयी देशव्यापी योजनाओं का उल्लेख करते हुये कहा, ‘‘देश की आधी आबादी जिस अधिकार को पाने के लिए आजादी के बाद से इंतजार कर रही थी, उनके वे अधिकार 2014 में प्रधानमंत्री बनने के बाद मोदी जी ने दिलाये।

इतनी सारी बातों का असली मकसद उत्तरप्रदेश की आधी आबादी का वोट ही है, जिसके पीछे श्री मोदी इतना परिश्रम कर रहे हैं। यह अच्छी बात है कि उन्होंने पश्चिम बंगाल की महिलाओं के जनादेश से सीख लेते हुए देश के सबसे बड़े प्रदेश में उसे आजमाने की पहल की है। जिसपर प्रियंका गांधी का पहले से ही ध्यान रहा है।



More from उत्तरप्रदेशMore posts in उत्तरप्रदेश »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »

4 Comments

  1. […] पश्चिम बंगाल के चुनाव में महिलाओं की नाराजगी से सबक लेते हुए नरेंद्र मोदी आधी आबादी को अपने पाले में रखने की पुरजोर कोशिश कर रहे हैं लेकिन निचले स्तर के नेताओं को जो झूठ फैलाने की आदत पड़ चुकी है, वह पार्टी के लिए भारी पड़ती जा रही है। वैसे यह सवाल भी उठ खड़ा हुआ है कि कहीं अधिकारियों ने जानबूझकर तो ऐसा सिर्फ भाजपा को औकात बताने के लिए नहीं किया है।  […]

Leave a Reply

%d bloggers like this: