fbpx Press "Enter" to skip to content

रात के बारह बजे पैदल चलते व्यापारी ने नीतीश शासन को अच्छा कहा

  • मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कई बार बहुत अच्छे किये हैं

  • पहले तो बाजार ही पहले बंद हो जाया करता था

  • सड़क पर शराबी अशालीन हरकत करते थे

दीपक नौरंगी

भागलपुरः रात के बारह बजे पैदल चलते किसी व्यक्ति से अगर अचानक नीतीश कुमार

के शासन के बारे में पूछ लिया तो यह एक त्वरित जांच थी। इस जांच से पुष्टि हो गयी कि

जो लोग चंद अपराधों के लिए नीतीश कुमार पर तरह तरह के आरोप लगा रहे हैं, वे

दरअसल जनता की सोच की बात नहीं करते।

वीडियो में देखिये सड़क पर मिले सज्जन ने क्या कहा

दरअसल आम जनता इस बारे में और बिहार के वर्तमान मुख्यमंत्री के बारे में क्या कुछ

सोचती है, इसे जांचने के लिए ही रात के बारह बजे अचानक ही इसे जांचने का काम किया

गया। भागलपुर के खलीफाबाद चौक के पास सड़क पर पैदल जाते एक व्यक्ति से जब इस

बारे में राय ली गयी तो उन्होंने बिल्कुल साफ शब्दों में अपनी राय जाहिर कर दी। पैदल

चलते शिव कुमार वर्मा ने पहले के और वर्तमान शासन के अंतर को अपने नजरिए से पानी

की तरह साफ तरीके से परिभाषित किया। उन्होंने साफ साफ कहा कि अगर रात के बारह

बजे वह पैदल चल रहे हैं तो यही मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के शासन के लिए सर्टिफिकेट

है। वरना नीतीश कुमार के पहले के शासन में तो बाजार ही बहुत पहले बंद हो जाया करता

था। श्री वर्मा ने कहा कि पहले की हालत कुछ ऐसी थी कि आम आदमी और महिलाओं का

शाम होने के बाद सड़कों पर चलना दूभर हो जाता था। नीतीश कुमार ने जब सत्ता संभाली

तब बिहार के विधि व्यवस्था की क्या हालत थी, यह किसी से छिपा हुआ नहीं है। पहले दस

साल में सड़कों और विधि व्यवस्था की स्थिति सुधारन में मुख्यमंत्री ने काफी काम किया

है।

रात के बारह बजे क्या शाम को ही सन्नाटा हो जाया करता था

उनका पिछला शासन भी इसलिए याद रखा जाएगा क्योंकि उन्होंने पूरे राज्य में शराबबंदी

कर दी है। इस फैसले की वजह से सड़कों पर अशालीन हरकत करते शराबी अब नजर नहीं

आते हैं। इसी शराबबंदी की वजह से सड़कों पर किसी भद्र व्यक्ति का चलना संभव हो

पाया है। वरना पहले रास्ते में शराबी लोग गालियां देते टकरा जाते थे। श्री वर्मा ने कहा कि

जिला में भी प्रशासन चुस्त दुरुस्त है।

पटना में एक व्यक्ति की हत्या होने के बाद नीतीश कुमार पर लग रहे आरोप के संबंध में

उन्होंने साफ साफ कहा कि पहले लोग निकल नहीं पाते थे। अब तो हालत यह है कि रात

के बारह बजे भी लोग बेधड़क आ जा सकते हैं। उन्होंने कहा कि अब तो लोगों में भी

जागरूकता आ रही है। श्री वर्मा खुद भी अपने जातिगत संगठन के पदाधिकारी हैं। उन्होंने

लालू के शासनकाल का उल्लेख करते हुए उन्होंने कहा कि अपने पूर्णिया जिला के दौरे का

उल्लेख करते हुए शाम होते हुए ही वहां भी सारी दुकानें बंद हो जाया करती थी। इसी

तुलना में यह कहा जा सकता है कि नीतीश कुमार का शासन अच्छा है। रात के बारह बजे

मिले इस सज्जन ने कहा कि रात को भोजन के बाद वह नियमित तौर पर निकलते हैं।

सड़कों पर पुलिस प्रशासन के लोग चौकस नजर आते हैं। इसलिए यह माना जा सकता है

कि बिहार में नीतीश कुमार के शासन से वह पूरी तरह संतुष्ट हैं

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
More from अपराधMore posts in अपराध »
More from ताजा समाचारMore posts in ताजा समाचार »
More from भागलपुरMore posts in भागलपुर »
More from विधि व्यवस्थाMore posts in विधि व्यवस्था »

Be First to Comment

... ... ...
error: Content is protected !!
%d bloggers like this: